February 26, 2024

UPAAJTAK

TEZ KHABAR, AAP KI KHABAR

लखनऊ01दिसम्बर23*धार्मिक एजेंडे पर आगे बढ़ी यूपी सरकार, विधानसभा में पारित हुए ये 3 अहम विधेयक।

लखनऊ01दिसम्बर23*धार्मिक एजेंडे पर आगे बढ़ी यूपी सरकार, विधानसभा में पारित हुए ये 3 अहम विधेयक।

लखनऊ01दिसम्बर23*धार्मिक एजेंडे पर आगे बढ़ी यूपी सरकार, विधानसभा में पारित हुए ये 3 अहम विधेयक।

उत्तर प्रदेश विधानसभा में तीर्थस्थलों अयोध्या, बलरामपुर जिले के देवी पाटन और मुजफ्फरनगर जिले के शुक्र तीर्थ में प्राचीन सांस्कृतिक विरासत की सुरक्षा और संरक्षण के लिए एक तीर्थ विकास बोर्ड स्थापित करने के लिए तीन विधेयक पारित किया गया है।

ये तीनों विधेयक अयोध्या में 9 नवंबर को हुई कैबिनेट की बैठक में पहले ही पास किए गए थे।

सरकार ने पारित किए ये तीन अहम विधेयक

विधानसभा में यूपी के पर्यटन मंत्री जयवीर सिंह द्वारा पेश किए गए विधेयक उत्तर प्रदेश श्री शुक्रतीर्थ विकास बोर्ड विधेयक 2023, उत्तर प्रदेश श्री देवीपाटन तीर्थ विकास बोर्ड विधेयक, 2023 और उत्तर प्रदेश श्रीअयोध्या जी तीर्थ विकास बोर्ड विधेयक 2023 हैं। यूपी ब्रज तीर्थ विकास बोर्ड की तर्ज पर स्थापित किए जा रहे हैं।

सीएम होंगे तीनों बोर्ड के पदेन अध्यक्ष

तीनों तीर्थ बोर्ड नोडल एजेंसी के रूप में कार्य करेंगे जो विभिन्न विभागों के साथ समन्वय कर तीर्थ केंद्रों को बेहतर बनाएंगे और समन्वित प्रयासों से धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देंगे। मुख्यमंत्री तीनों बोर्डों के अध्यक्ष होंगे, पर्यटन मंत्री उपाध्यक्ष होंगे जबकि राज्य सरकार द्वारा इन बोर्डों में पांच प्रतिष्ठित व्यक्तियों को नामित किया जाएगा।

अयोध्या में हुई कैबिनेट में पास हुए थे तीनों विधेयक

शुक्र तीर्थ बोर्ड का मुख्यालय मुजफ्फरनगर और देवी पाटन तीर्थ बोर्ड का मुख्यालय बलरामपुर जिले में होगा। तीर्थ बोर्ड स्थापित करने का निर्णय 9 नवंबर को अयोध्या में आयोजित राज्य कैबिनेट की बैठक में लिया गया था। कैबिनेट ने तब अयोध्या शोध संस्थान को अंतरराष्ट्रीय शोध संस्थान का दर्जा देने का प्रस्ताव भी अपनाया था, जिससे बजट और संसाधनों में वृद्धि का मार्ग प्रशस्त हुआ। वह केंद्र जो दिवाली की पूर्व संध्या पर दीपोत्सव और मंदिर शहर में आयोजित होने वाले महत्वपूर्ण मेलों के आयोजन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

विधानसभा में तीनों विधेयकों को पेश करते हुए पर्यटन मंत्री जयवीर सिंह ने कहा कि,

राज्य सरकार राज्य की प्राचीन सांस्कृतिक विरासत की रक्षा और संरक्षण के लिए सख्ती से काम कर रही है। उन्होंने कहा कि सनातन धर्म के सभी महत्वपूर्ण धार्मिक केंद्र – वाराणसी में काशी विश्वनाथ मंदिर, मथुरा में कृष्ण जन्मभूमि मंदिर के अलावा वृन्दावन और गोकुल, अयोध्या में राम जन्मभूमि मंदिर, आगरा में बटेश्वर में मंदिर परिसर, मुजफ्फरनगर जिले में शुक्र ताल तीर्थ के अलावा महत्वपूर्ण प्राचीन स्थल हैं। नवंबर 2020 में वाराणसी में काशी विश्वनाथ मंदिर गलियारे के पहले चरण के उद्घाटन और अगस्त 2020 में अयोध्या में राम जन्मभूमि मंदिर की नींव रखने के बाद, तीर्थयात्रियों की संख्या में 199 प्रतिशत की वृद्धि हुई है और राज्य का दौरा करने वाले पर्यटक। उन्होंने कहा कि तीर्थयात्रियों और पर्यटकों की संख्या में वृद्धि से राजस्व में तेज वृद्धि हुई है क्योंकि एक पर्यटक कम से कम छह नौकरियां पैदा करता है।

दीपोत्सव और देव दिवाली में बने रिकॉर्ड

उन्होंने कहा कि अयोध्या में दीपावली के दौरान दीपोत्सव में दीये जलाकर नये रिकार्ड बनाये गये। उन्होंने कहा, “हमने इस साल अयोध्या में 22 लाख दीये जलाकर अपना ही रिकॉर्ड तोड़ दिया है। उन्होंने कहा कि दिवाली से पहले अयोध्या में दीपोत्सव में 54 देशों के राजनयिक शामिल हुए। 27 नवंबर को देव दीपावली उत्सव को चिह्नित करने के लिए वाराणसी में 12 लाख दीये जलाए गए, जहां 70 देशों के राजनयिक भी मौजूद थे। अयोध्या और वाराणसी में मौजूद राजनयिक अपने मूल देश में भारत के सांस्कृतिक राजदूत के रूप में कार्य करेंगे।

विपक्ष ने तीनों विधेयकों को लेकर जताया विरोध

हालांकि विपक्ष ने सरकार की तरफ से पेश किए गए इन तीन विधेयकों को लेकर विरोध जताया और कहा कि यह अनावश्यक जल्दबाजी है और सरकार विधेयकों को लेकर जल्दबाजी करना चाहती है। समाजवादी पार्टी के नेता लालजी वर्मा ने मांग की कि तीनों विधेयकों को आगे के विचार-विमर्श के लिए विधानसभा की चयन समिति को भेजा जाए।

लेकिन, अध्यक्ष सतीश महाना विपक्षी सदस्यों की मांग से सहमत नहीं हुए और विधेयकों को बाद में सदन द्वारा पारित कर दिया गया।

About The Author

Taza Khabar