October 27, 2021

UPAAJTAK

TEZ KHABAR

दिल्ली26अगस्त21* सरकार अपना वायदा निभाए*बुद्ध एवं अंबेडकर अनुयायियों को गुमराह करना बंद करें* ?

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  • दिल्ली26अगस्त21* सरकार अपना वायदा निभाए*बुद्ध एवं अंबेडकर अनुयायियों को गुमराह करना बंद करें* ?

दिल्ली सरकार के समाज कल्याण मंत्री श्री राजेंद्र पाल गौतम एवं मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल जी ने 3 वर्ष पहले सरकारी ऐलान घोषणा किया था कि दिल्ली में *बुद्ध कालीन प्राचीन पालि एवं प्रकृति भाषा अकादमी* की स्थापना दिल्ली सरकार द्वारा की जाएगी जो कि यह वायदा अभी तक दिल्ली सरकार ने पूरा नहीं किया है। तथागत भगवान बुद्ध एवं अंबेडकर अनुयायियों को गुमराह किया गया।
इसी तरह *दिल्ली राज्य अल्पसंख्यक आयोग में “बौद्ध सदस्य” को अभी तक मनोनीत किए जाने को लेकर सरकार द्वारा नोटिफिकेशन तक जारी नहीं किया गया है और ना ही दिल्ली राज्य अल्पसंख्यक आयोग में “बौद्ध सदस्य” को नामित किया गया है, जबकि “बौद्ध संगठनों की राष्ट्रीय समन्वय समिति भारत* ” की ओर से लगातार मुख्यमंत्री सहित उनकी कैबिनेट के सभी माननीय मंत्रियों को *ज्ञापन पत्र एवं स्मरण पत्र* देखकर संज्ञान में लाया गया है।
*पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन के सामने, बाग दीवार, चांदनी चौक के साथ, चर्च रोड पर 2500 वीं बुध्द जयंती के पावन अवसर पर वर्ष 1956 में लगभग 5 एकड़ के हरित पार्क में भगवान बुद्ध की प्रतिमा तत्कालीन सरकार द्वारा स्थापित की गई जो कि आज 6 फीट गहरे गड्ढे में समाहित है और उसके चारों और व्यवसायिक पार्किंग का निर्माण कराया जा रहा है और बुद्ध प्रतिमा को मात्र 50 गज के भूखंड पर समेट दिया गया है*।
*बौद्ध संगठनों की राष्ट्रीय समन्वय समिति भारत के द्वारा इस मामले को दिल्ली सरकार के मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल एवं दिल्ली सरकार के समाज कल्याण मंत्री श्री राजेंद्र पाल गौतम एवं मुख्य सचिव दिल्ली सरकार के संज्ञान में जून 2017 में लाया गया’ किंतु खेद के साथ कहना पड़ रहा है कि दिल्ली सरकार ने आवश्यक कानूनी कार्रवाई नहीं की, यदि सरकार की नियत “बुध्द स्थली पार्क” को संरक्षित कराने की होती तो! सरकार अपना सरकारी वकील लगाकर हरित क्षेत्र की जमीन का कमर्शियल इस्तेमाल को कानूनी तौर से रोकती और आज भी रोक सकती है क्योंकि सामने लोहे के गाटर लगाकर चारों तरफ से बुद्ध प्रतिमा स्थल को घेरा जा रहा है। यह बहुत ही दुख का विषय है कि देश की राजधानी दिल्ली में बौद्ध प्रतिमा स्थल को बर्बाद किया जा रहा है*।
*हमें ऐसा लगता है कि भारतीय संविधान निर्माता बोधिसत्व बाबा साहेब डॉक्टर भीमराव अंबेडकर एवं तक तथागत बुद्ध का नाम लेकर दिल्ली सरकार एवं उनके मंत्री गण वाहवाही लूटने के अलावा जमीनी स्तर पर बौध्दों एवं अंबेडकर अनुयायियों की समस्याओं पर ध्यान नहीं दिया जा रहा है यहां पर “हाथी के दांत दिखाने के और, खाने के और” वाली कहावत चरितार्थ हो रही है*।
*हमारा मानना है कि जब यह लोग सरकार में रहकर कुछ नहीं कर रहे हैं तो! सरकार से बाहर होकर क्या करेंगे* ?
भविष्य में देखना होगा कि *”दिल्ली की आप सरकार” अपने कार्यकाल में अपने वायदे पर खरा उतरती है या आदरणीय राजेंद्र पाल गौतम जी के द्वारा आगामी 2025 में कथित 10 करोड़ लोग दीक्षा भूमि नागपुर के 5 लाख वाली धम्म स्थली “दीक्षा भूमि” में संविधान निर्माता बोधिसत्व बाबा साहब डॉक्टर भीमराव अंबेडकर जी के “धम्मदीक्षा कार्यक्रम” को काउंटर करते हुए धम्मदीक्षा सम्मेलन की सफलता के बाद अपना वायदा निभाएंगे अथवा सरकार में रह पाएंगे या बाहर हो जाएंगे अन्यथा सभी वायदे हवा में उड़ जाएंगे,यह तो आने वाला समय ही बताएगा*।
*तथागत बुद्ध एवं बोधिसत्व डॉ भीमराव अंबेडकर जी की विचारधारा से जुड़े अनुयायियों से मेरा आग्रह है कि कृपया दिल्ली सरकार के मुख्यमंत्री एवं भाई राजेंद्र पाल गौतम, समाज कल्याण मंत्री दिल्ली सरकार से अपने समाज के हित में यह जानकारी अवश्य मांगे और पूछें कि उपरोक्त कार्य आपकी सरकार कब तक पूरे करेगी*?
*मंगल कामनाओं सहित*🌷🌷🌷🌷🌷
*धम्माकांक्षी*
*अभय रत्न बौद्ध* राष्ट्रीय समन्वयक
*9वीं राष्ट्रीय बौद्ध धम्म संसद बुध्दगया एवं*
*बौद्ध संगठनों की राष्ट्रीय समन्वय समिति भारत*
*मुख्यालय*: महाबोधि मेडिटेशन सेंटर, बुध्दगया,जिला – गया (बिहार)
*केंद्रीय कार्यालय* :बुध्द कुटीर,284/सी-1,गली नं0-8,नेहरू नगर,(आनंद पर्वत)
नई दिल्ली-110008
*सम्पर्क*:9899853744
*E-mail*:argautam48@gmail.com
💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐

You may have missed