May 21, 2024

UPAAJTAK

TEZ KHABAR, AAP KI KHABAR

महोबा07मई24*चाची की तेरहवीं , भतीजे की मौत के पैगाम से पसरा मातम

महोबा07मई24*चाची की तेरहवीं , भतीजे की मौत के पैगाम से पसरा मातम

महोबा07मई24*चाची की तेरहवीं , भतीजे की मौत के पैगाम से पसरा मातम

घायल पुत्र को देखकर भतीजे के साथ लोटते समय घटना में चाची की हुई थी मौत
घायल भतीजे का झांसी में चल रहा था इलाज
फोटो,,,,,, मृतक फाइल फोटो दीपू सिंह

अजय कुमार विश्वकर्मा महोबा

महोबा । जिले के थाना खरेला ग्राम चंदौली में चाची की तेरहवीं के दिन मंगलवार को भतीजे के मौत की खबर से गांव में कोहराम मच गया। 24अप्रैल को राठ में दुर्घटना से घायल चचेरे भाई को देखकर बाइक से चाची को लेकर वापस घर आते समय वाहन की सामने से टक्कर में चाची की मौके पर मौत हो गई थी। भतीजे का इलाज झांसी में चल रहा था जहा उनकी मृत्यु हो गई। चाची की तेरहवीं के दिन भतीजे के मौत की खबर से परिवार का रो रो कर बुरा हाल है। सैकडो ग्रामीण और रिश्तेदार का पीड़ित के घर भीड़ पहुंच रही है।
थाना राठ में जय सिंह का पुत्र धीरेंद्र रहकर कर कारोबार करता था। 24 अप्रैल को शाम को घर बाइक से जाते समय ट्रक की टक्कर से गंभीर रूप से घायल हो गया था। खबर मिलने पर उसकी मां पार्वती पत्नी जय सिंह भतीजे दीपू पुत्र विपिन सिंह के साथ बाइक से पुत्र को देखने गए थे। शाम को चंदौली घर वापस आते समय राठ रामलीला मैदान समीप वाहन की टक्कर से पार्वती उम्र 50की मौके पर मौत हो गई थी। बाइक चला रहा भतीजा घायल होने पर झांसी में इलाज चल रहा था।
ग्राम चंदौली में मंगलवार को तेरहवी कार्यक्रम तैयारी में परिजन जुटे थे तभी दीपू के मौत की खबर मिली। 12दिन के अंदर परिवार में चाची भतीजे की मौत से गांव में मातम छा गया। परिवार का घटना से बुरा हाल है ।रिश्तेदार ,परिचितों और ग्रामीणों की पीड़ित के दरवाजे पर पहुंच कर शोक संवेदना को देर शाम तक पहुंचते दिखे।

इनसेट,,,,

बुझ गया केतरानी के बुढ़ापे का चिराग

महोबा।
थाना खरेला ग्राम चंदौली निवासी घर में एकलौते दीपू सिंह की मृत्यु से बेवा केतरानी के बुढ़ापे का सहारा छीन गया। पति जय सिंह की 15साल पहले मौत हो जाने के बाद घर में अकेले दीपू पर सारी जिम्मेदारी सम्हलता था। घर में कोई सगे भाई बहन नही होने के बजह से केतरानी दो साल पहले पुत्र की शादी कर दी थी। दीपू की 9माह करीब की लड़की संतान रूप में है।मृतक दीपू के घर आंगन में अब कोई सगा पुरुष नही बचा। घटना की खबर से उसकी पत्नी और मां बदहवास हालत में सुधार बुध सी खोकर घर के अकेले चिराग के बुझने से कभी रोती है तो कही अचेत हो जाती हैं। उनको रिश्तेदार और पड़ोसी किसी तरह सम्हाल कर ढाढस बंधाते है। गांव में इस ह्रदय विदारक घटना से मातमी माहौल छाया है।

About The Author

Copyright © All rights reserved. | Newsever by AF themes.