July 14, 2024

UPAAJTAK

TEZ KHABAR, AAP KI KHABAR

अनूपपुर 01 जुलाई 24*स्‍वदेशी नए कानून : बीएनएस, बीएनएसएस, बीएसए त्‍वरित, पारदर्शी और जबावदेही से न्‍याय दिलाने में मील का पत्‍थर

अनूपपुर 01 जुलाई 24*स्‍वदेशी नए कानून : बीएनएस, बीएनएसएस, बीएसए त्‍वरित, पारदर्शी और जबावदेही से न्‍याय दिलाने में मील का पत्‍थर

अनूपपुर 01 जुलाई 24*स्‍वदेशी नए कानून : बीएनएस, बीएनएसएस, बीएसए त्‍वरित, पारदर्शी और जबावदेही से न्‍याय दिलाने में मील का पत्‍थर

अनूपपुर ( ब्यूरो राजेश शिवहरे) भारतीय न्‍याय संहिता (बीएनएस), भारतीय नागरिक सुरक्षा संहिता (बीएनएसएस) एवं भारतीय साक्ष्‍य अधिनियम (बीएसए) सम्‍पूर्ण भारत में 1 जुलाई, 2024 से लागू हुए हैं। जनता में इन कानूनों के प्रति जागरूकता लाने के लिए शहडोल में पं. शंभूनाथ शुक्‍ला स्‍नातकोत्‍तर महाविद्यालय में एक सभा आयोजित की गई और पुलिस द्वारा शहर में रोडशो किया गया। इस कार्यक्रम में एडीजीपी शहडोल ज़ोन डी.सी. सागर, डीआईजी शहडोल रेंज सविता सोहाने, एसडीएम सोहागपुर अरविंद शाह, दो प्रोबेशनर आईएफएस अधिकारी अंशुल तिवारी एवं गौरव जैन, सेवानिवृत्‍त डीपीओ श्री विश्‍वजीत पटेल, एडीपीओ शहडोल नवीन वर्मा, एएसपी शहडोल अभिषेक दीवान, डीएसपी मुख्‍यालय शहडोल राघवेन्‍द्र द्विवेदी, डीएसपी यातायात मुकेश दीक्षित, डीएसपी महिला सुरक्षा विकास पाण्‍डेय, जिला पंचायत अध्‍यक्ष शहडोल प्रभा मिश्रा, जन अभियान परिषद की ब्‍लॉक समन्‍वयक प्रिया सिंह बघेल, रक्षित निरीक्षक शहडोल, थाना प्रभारी कोतवाली शहडोल, थाना प्रभारी सोहागपुर शहडोल, महिला बल एवं अन्‍य बल ने भाग लिया। एडीजीपी डीसी सागर ने पुलिस मुख्‍यालय द्वारा भेजे गए पोस्‍टर्स में दिए गए नए कानूनों के विषय में जो जानकारी दी गई उसका जनता से ही रंगमचीय अभिनय के माध्‍यम से समझाने का प्रयास किया, जो इस प्रकार है :-

1. पहले एफआईआर धारा 154 सीआरपीसी में दर्ज होती थी? अब एफआईआर धारा 173 बीएनएसएस में होगी।
2. दीदी …. कहीं वो अपने बयान से पलट तो नहीं जायेंगे? डरने की बात नहीं है, अब पुलिस बीएनएसएस की धारा 180 के तहत् गवाह के बयान की वीडियो रिकॉर्डिंग करती है।
3. क्‍या एफआईआर धारा 173 बीएनएसएस में मौखिक, लिखित और इलेक्‍ट्रॉनिक कम्‍युनिकेशन के माध्‍यम से दर्ज की जा सकती है? जी हॉं, अब एफआईआर धारा 173 बीएनएसएस में मौखिक, लिखित और इलेक्‍ट्रॉनिक कम्‍युनिकेशन के माध्‍यम से दर्ज की जा सकती है।
4. पता नहीं मेरे केस में आगे क्‍या हुआ? चिंता मत करो, अब पुलिस बीएनएसएस की धारा 193(3) के तहत् 90 दिनों में तुम्‍हें केस के प्रगति की सूचना देगी।
5. कोर्ट में मेरा बयान दर्ज होना है, लेकिन मुझे डर लग रहा है! डरो मत! तुम्‍हारा बयान बीएनएसएस की धारा 183(6) के तहत् महिला मजिस्‍ट्रेट लिखेंगी और बयान इलेक्‍ट्रॉनिक माध्‍यम द्वारा भी लिए जा सकेंगे।
6. धारा 376 आईपीसी नए कानून में क्‍या हो गई है? धारा 376 आईपीसी नए कानून बीएनएस में धारा 64 हो गई है।
7. धारा 353 आईपीसी नए कानून में क्‍या हो गई है? धारा 353 आईपीसी नए कानून बीएनएस में धारा 132 हो गई है।

इसके साथ ही कार्यक्रम में उपस्थित जनता जिसमें छात्र-छात्राएं भी थे, को बीएनएस, बीएनएसएस व बीएसए के विभिन्‍न प्रावधानों के विषय में बताया। डीआईजी शहडोल रेंज ने बताया कि नए कानून न्‍याय पर आधारित हैं जबकि पुराने कानून दण्‍ड पर आधारित थे। इसी प्रकार एसडीएम ने भी बताया कि धारा 144 सीआरपीसी अब धारा 163 बीएनएसएस हो गई है। अतिरिक्‍त पुलिस अधीक्षक शहडोल ने बीएनएस की विभिन्‍न धाराओं, जैसे – बीएनएस की धारा 137 (अपहरण), 64 (बलात्‍संग), 103 (हत्‍या) आदि के विषय में बताया। प्रोबेशनर आईएफएस अधिकारियों द्वारा भी नए कानून के विषय में विभिन्‍न धाराओं से जनता को अवगत कराया। सेवानिवृत्‍त डीपीओ शहडोल द्वारा नए कानून के विषय में बताया कि नए कानून जनहितकारी हैं और त्‍वरित न्‍याय के लिए बने हैं। डीएसपी मुख्‍यालय शहडोल ने भी भारतीय साक्ष्‍य अधिनियम की धारा 27 के विषय में बताया जो कि अब नए भारतीय साक्ष्‍य अधिनियम की धारा 23 हो गई है।

About The Author

Taza Khabar

Copyright © All rights reserved. | Newsever by AF themes.