February 27, 2024

UPAAJTAK

TEZ KHABAR, AAP KI KHABAR

वाराणसी04दिसम्बर23*महाभैरवाष्टमी पर बाबा लाट भैरव का महात्म्य व इनसे जुड़ी विशेषताएं....

वाराणसी04दिसम्बर23*महाभैरवाष्टमी पर बाबा लाट भैरव का महात्म्य व इनसे जुड़ी विशेषताएं….

वाराणसी04दिसम्बर23*महाभैरवाष्टमी पर बाबा लाट भैरव का महात्म्य व इनसे जुड़ी विशेषताएं….

अविनाशी काशी में हर देवस्थान का विशेष महत्व हैं।साथ ही उससे जुड़ी तमाम पौराणिक कथाएं एवं मान्यताएं, अनन्य प्रकार की किवदंतियां सुनने को मिलती हैं।ऐसी ही रोचक विशेषताओं से भरा हुआ है बाबा लाट भैरव का महात्म्य व इनका दिव्य मंदिर।

अंग्रेजों के दिये लाट भैरव नाम से प्रसिद्ध-

बाबा के लाट भैरव नाम का भी इतिहास है।बहुधा भक्तों को यह संशय होता है कि कपाल भैरव और लाट भैरव दोनों अलग-अलग देवता हैं।जबकि कपाल भैरव बाबा श्री लाट भैरव का ही पौराणिक नाम है।लाट भैरव शब्द अंग्रेजी शासन में अंग्रेजों द्वारा दिया गया।काशी में इसी नाम से बाबा अधिक विख्यात हैं।

 

भैरव मंदिर के समीप कपाल मोचन कुंड-

शास्त्रोंक्त कथानुसार भैरवनाथ को ब्रह्म हत्या के दोष से मुक्ति काशी के गंगा और वरुणा नदी के संगम स्थल वर्तमान समय में कज्जाकपुरा नाम से विख्यात इसी स्थान पर मिली थीं।तीनों लोकों में भटकने के बाद काशी में प्रवेश करते ही ब्रम्हा का कटा हुआ पांचवा (कपाल) मुंड बाबा भैरवनाथ के हाथों से छूटकर चिघ्घाड़ मारते हुए धरती में प्रविष्ट कर गया।तब से इस पावन स्थल को तीर्थ के रूप में श्री कपाल मोचन कुंड के नाम से जाना जाता हैं।कुंड के जल में स्नान करने से ब्रम्ह दोष, चर्म रोग व बांझपन आदि से मुक्ति मिलती हैं।

लिंग रूप में प्रथम भैरव-

बाबा कपाल भैरव प्रसिद्ध लाट भैरव का दर्शन विशाल लिंगाकार स्वरूप में होता है।अन्य सभी भैरव मूर्त रूप या पिंड रूप में दर्शनीय हैं।किंतु बाबा लाट भैरव लिंग रूप में प्रथम भैरव हैं।इस कारण इन्हें कपालेश्वर महादेव के रूप में भी पूजा जाता हैं।श्रावण मास में भक्तों द्वारा इनका जलाभिषेक किया जाता हैं।सामान्यतः अन्य भैरव अपने प्रिय वाहन पर विराजमान मिलेंगे।जबकि बाबा कपाल भैरव का प्रिय वाहन स्वान उनके विग्रह के समीप स्थित हैं।कहा यह भी जाता है कि इनका संसार मे कोई उपमंदिर नहीं हैं।

काशी के न्यायाधीश है कपाल भैरव, अष्ट भैरव की कचहरी-

श्री आदिगुरु शंकराचार्य द्वारा रचित भैरवाष्टकं के श्लोकानुसार काशीवास लोक पुण्य पाप शोधकं विभूम अर्थात बाबा कपाल भैरव काशी में वास करने वाले लोगों के पाप और पुण्य कर्मों का शोधन करने वाले देवता हैं।इसका प्रमाण मंदिर के गर्भगृह में विद्यमान अष्ट भैरव के चौकियों से प्रत्यक्ष तौर पर मिलता है।कहा जाता है कि इन आठ चौकियों पर काशी के आठों दिशाओं (चारों दिशा और चार कोण) के रक्षक अष्ट प्रधान भैरव बाबा के समक्ष अपने क्षेत्रों की समस्त शुभाशुभ कर्मों का लेखा-जोखा प्रस्तुत करते हैं।उत्तराभिमुख बाबा कपाल भैरव के चारो ओर गर्भगृह में क्रमानुसार ईशानकोण पर संहार भैरव, पूर्व दिशा में असितांग भैरव, आग्नेय कोण पर रुरु भैरव, दक्षिण दिशा में चंड भैरव, नैऋत्य कोण पर क्रोधन भैरव, पश्चिम में उन्मत्त भैरव, वायव्य कोण पर कपाल भैरव, उत्तर में भीषण भैरव का स्थान हैं।न्यायाधीश की भूमिका में बाबा श्री कपाल भैरव कर्मानुसार काशीवासियों के सद्कर्मो के पुण्य फल तथा पापकर्मों के निमित्त दंड का विधान तय करते हैं।

प्रत्येक दिन का अलग भोग-

भैरव उपासना के अनुसार रविवार को पायसान्न अथवा खीर, सोमवार को खोवे का लड्डू, मंगलवार को शुद्ध घृत में गेहूं के आटे व गुड़ से निर्मित हलुआ, बुधवार को उड़द के दाल का बारा अलोना (बिना नमक), गुरुवार को ठोकवा या लड्डू, शुक्रवार को हलुआ घुघरी, शनिवार को उड़द दाल, चना दाल मूंग दाल व चावल से निर्मित खिचड़ी का भोग अर्पित करने से भैरव शीघ्र प्रसन्न होतें हैं तथा भक्तों के मनवांछित फल की प्राप्ति होती है।

लेखक
शिवम अग्रहरि- मीडिया प्रभारी
श्री कपाल भैरव अथवा लाट भैरव प्रबंधक समिति।

9125491848

About The Author

Taza Khabar