June 16, 2024

UPAAJTAK

TEZ KHABAR, AAP KI KHABAR

प्रतापगढ़12दिसम्बर23*जिलाधिकारी ने कर-करेत्तर, राजस्व वसूली एवं राजस्व कार्यो की समीक्षा की,

प्रतापगढ़12दिसम्बर23*जिलाधिकारी ने कर-करेत्तर, राजस्व वसूली एवं राजस्व कार्यो की समीक्षा की,

प्रतापगढ़12दिसम्बर23*जिलाधिकारी ने कर-करेत्तर, राजस्व वसूली एवं राजस्व कार्यो की समीक्षा की,
—————–
उपजिलाधिकारी कोर्ट में लम्बित प्रकरणों के कार्य को देखें और जल्द से जल्द उसका निस्तारण करायें-डीएम
—————–
राजस्व वसूली में शिथिलता बरतने पर अधिकारियों के विरूद्ध की जायेगी कार्रवाई-जिलाधिकारी
—————–
प्रतापगढ़। जिलाधिकारी संजीव रंजन की अध्यक्षता में कल देर सायंकाल कैम्प कार्यालय के सभागार में कर-करेत्तर, राजस्व वसूली, राजस्व कार्यो, आईजीआरएस पोर्टल की समीक्षा बैठक आयोजित हुई। बैठक में जिलाधिकारी ने विद्युत देय, आबकारी, परिवहन विभाग, मण्डी, स्टाम्प ड्यूटी, बाट-माप, खनन, खाद्य एवं औषधि प्रशासन, जीएसटी सहित अन्य विभागों की राजस्व वसूली की समीक्षा की तथा कम वसूली वाले विभाग को सुधार लाने के निर्देश दिये। राजस्व प्रशासन की समीक्षा की गयी जिसमें मुकदमा, स्वामित्व योजना, आडिट आपत्तियां, वादों का निस्तारण, अंश निर्धारण की कार्यवाही, भू-माफियाओं के विरूद्ध कार्यवाही आदि की प्रगति लगातार धीमी पाये जाने जिलाधिकारी ने नाराजगी व्यक्त की और उपजिलाधिकारी एवं तहसीलदारों को निर्देशित किया कि कार्यो में सुधार लायें, इसमें लापरवाही कदापि न बरती जाये। उन्होने समस्त उपजिलाधिकारियों को निर्देशित किया कि फाइलों को सुव्यविस्थत एवं सुसज्जित ढंग से रखें, पटल सहायकों के कार्यो की निगरानी समय-समय पर करते रहे, कोर्ट में लम्बित प्रकरणों के कार्य को देखें और जल्द से जल्द उसका निस्तारण करायें। उन्होने कहा कि समय समय पर अमीनों के साथ बैठक करें और उन्हें राजस्व वसूली के कार्यो में तेजी लाने के निर्देश दिये जाये। उन्होने निर्देशित किया कि भू-माफिया द्वारा यदि किसी भी राजस्व कर्मचारी को डराते या धमकाते है तो ऐसे भू-माफियाओं के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करायी जाये। उन्होने उपजिलाधिकारियों एवं तहसीलदारों को निर्देशित किया कि तहसील क्षेत्र के अन्तर्गत लेखपालों के माध्यम से जमीन से सम्बन्धित प्रकरणों की निगरानी रखी जाये और इससे सम्बन्धित जो भी रिपोर्ट हो उसको समय सीमा के अन्तर्गत प्रेषित करें और समय-समय पर गांवों का निरीक्षण भी करेंं। जिलाधिकारी ने नगर निकायों के अधिशासी अधिकारियों को निर्देशित किया कि सड़कों को कोई भी गोवंश न घूमे, यदि कोई गोवंश घूमता हुआ पाया जाये तो उसे गो-आश्रय स्थलों में संरक्षित किया जाये। जिलाधिकारी ने अस्थायी गो-शालाओं की भी समीक्षा की।
जिलाधिकारी ने आई0जी0आर0एस0 पोर्टल की तहसीलवार समीक्षा की तो तहसीलों की प्रगति ठीक नही पायी गयी जिस पर जिलाधिकारी ने नाराजगी व्यक्त करते हुये समस्त उपजिलाधिकारियों, तहसीलदारों को निर्देशित किया कि आई0जी0आर0एस0 पोर्टल पर शिकायतों का निस्तारण ससमय गुणवत्तापूर्ण ढंग से किया जाये, शिकायतें डिफाल्टर श्रेणी में न जाने पाये इस पर विशेष ध्यान दिया जाये, अन्यथा की स्थिति में सम्बन्धित के विरूद्ध आवश्यक कार्रवाई की जायेगी।
जिलाधिकारी ने अन्त में सभी सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देशित किया कि शासन द्वारा निर्धारित लक्ष्यों की शत् प्रतिशत पूर्ति सुनिश्चित की जाये इसमें किसी भी प्रकार की शिथिलता न बरती जाये, जिन विभागों द्वारा आरसी जारी की गयी है, राजस्व अधिकारियों के साथ समन्वय बनाकर उनकी वसूली सुनिश्चित करायें। उन्होने कहा कि राजस्व वसूली में शिथिलता बरतने पर सम्बन्धित विभाग के अधिकारियों के विरूद्ध कार्यवाही की जायेगी, इसलिये सम्बन्धित अधिकारी अपने-अपने दायित्व का सम्यक निर्वहन करें, लापरवाही कदापि न बरते। बैठक में अपर जिलाधिकारी (वि0/रा0) त्रिभुवन विश्वकर्मा, मुख्य राजस्व अधिकारी राकेश गुप्ता, समस्त उपजिलाधिकारी, समस्त तहसीलदार, समस्त ईओ व अन्य सम्बन्धित अधिकारी उपस्थित रहे।

About The Author

Copyright © All rights reserved. | Newsever by AF themes.