March 1, 2024

UPAAJTAK

TEZ KHABAR, AAP KI KHABAR

जबलपुर01दिसम्बर23*मध्य प्रदेश पुलिस के मुखिया डीजीपी ने ड्राइवर तक से पूछा हाल चाल

जबलपुर01दिसम्बर23*मध्य प्रदेश पुलिस के मुखिया डीजीपी ने ड्राइवर तक से पूछा हाल चाल

जबलपुर01दिसम्बर23*मध्य प्रदेश पुलिस के मुखिया डीजीपी ने ड्राइवर तक से पूछा हाल चाल

मध्य प्रदेश पुलिस के मुखिया डीजीपी सुधीर सक्सेना गुरुवार भेड़ाघाट आए। उन्होंने पर्यटन विभाग के होटल में विभाग के अफसरों के साथ मेल मुलाकात कर पुरानी यादे ताजा की।

डीजीपी सक्सेना ने उन अधिकारियाें और जवानों से मुलाकात की, जो वर्ष 1997 से 2000 के बीच जबलपुर में विभिन्न पदों पर पदस्थ रहे। दसअसल 1997 से 2000 के बीच वर्तमान डीजीपी सक्सेना जबलपुर एसपी के पद पर पदस्थ थे। उक्त अवधि के अधिकतर अधिकारी और जवान रिटायर्ड हो चुके थे, इसके बावजूद सभी को मिलने बुलया गया। जहां डीजीपी सक्सेना ने उक्त अधिकारियों से बातचीत की।

भेड़ाघाट में रुकने के बाद वे भोपाल रवाना हो गए

इस दौरान एसपी रहते हुए उनके साथ किए गए कार्यों को भी याद किया गया। इस दौरान एडीजीपी उमेश जोगा, डीआइजी आरआरएस परिहार और बरगी सीएसपी सुनील नेमा मौजूद रहे। डीजीपी सक्सेना मंडला से लौटते वक्त शहर पहुंचे थे। भेड़ाघाट में रुकने के बाद वे भोपाल रवाना हो गए। डीजीपी सक्सेना जब एसपी जबलपुर हुआ करते थे, उस वक्त प्रकाश तिवारी उनका वाहन चलाते थे। प्रकाश तिवारी को भी बुलाया गया था। डीजीपी ने जैसे ही प्रकाश तिवारी को देखा, तो वे खुश हो गए। प्रकाश से उसके व उसके परिवार का हाल चाल पूछा और काफी देर बातचीत की। वहां मौजूद अधिकारियाें को प्रकाश की काबिलियत के बारे में बताया कि वह किस तरह से शहर के किसी भी कोने में उन्हें झट से पहुंचा दिया करते थे।

नाम के साथ किया याद

डीजीपी सक्सेना ने एक-एक अधिकारी से बातचीत की। वे किसी का नाम तक नहीं भूले। जैसे ही उन्होेने रिटायर्ड अधिकारियों को नाम से पुकारा और पुराने तजुर्बे साझा करने के लिए कहा, तो रिटायर्ड अधिकारियों के चेहरे पर भी मुस्कान आ गई। डीजीपी सक्सेना के शहर में एसपी रहते हुए कई ऐसे मामले हुए, जिसमें सक्सेना और उनकी टीम ने टीम वर्क के साथ काम किया और उसे निपटाया। बैठक में आर्थिक अपराध ब्योरो एसपी आरडी भारद्वाज, आर्थिक अपराध ब्योराें डीएसपी मंजीत सिंह, रिटायर्ड डीएसपी प्रदीप जैन, रिटायर्ड सीएसपी अनिल वैद्य, जयंत टैम्भरे, रिटायर्ड एआईजी राजेश तिवारी, आरडी भारद्वाज, केएस ठाकुर समेत अन्य अफसर मौजूद रहे।

About The Author