February 25, 2024

UPAAJTAK

TEZ KHABAR, AAP KI KHABAR

कौशाम्बी30नवम्बर23*अनुसूचित जाति के नेवादा ब्लॉक प्रमुख महिला के कार्यों का हो रहा हनन*

कौशाम्बी30नवम्बर23*अनुसूचित जाति के नेवादा ब्लॉक प्रमुख महिला के कार्यों का हो रहा हनन*

कौशाम्बी30नवम्बर23*अनुसूचित जाति के नेवादा ब्लॉक प्रमुख महिला के कार्यों का हो रहा हनन*

*ब्लॉक प्रमुख के हस्ताक्षर में भी हो रही है बड़ी हेराफेरी यदि कर लिया जाए मिलान तो उजागर होंगे बड़े कारनामे*

*कौशांबी* नेवादा ब्लॉक के इमली गांव निवासी अनुसूचित जाति की महिला केलपती नेवादा ब्लॉक प्रमुख पद पर निर्वाचित हुई थी लेकिन ब्लॉक की कुर्सी पर यह काबिज नहीं दिखाई पड़ती हैं ब्लॉक प्रमुख की कुर्सी पर प्रतिनिधि का कब्जा है मीटिंग में भी ब्लॉक प्रमुख की कुर्सी पर प्रतिनिधि जमा रहते हैं प्रतिनिधि के नाम पर उनके अधिकारों को छीन लिया गया है अनुसूचित जाति के महिला के साथ खुले आम उत्पीड़न हो रहा है लेकिन इनका इतना साहस नहीं है कि यह खुलकर प्रतिनिधि का विरोध कर सकें सरकारी अभिलेखों में भी फर्जी तरीके से हस्ताक्षर बनाकर कार्य योजनाएं संचालित की जा रही है पदभार संभालने के बाद आज तक उन्होंने अपने पद के अनुरूप कोई भी कार्य नहीं किया है इन्होंने अपना प्रतिनिधि गांव के ही संदीप मिश्रा को बनाया है। आरोप है कि ब्लॉक के समस्त कार्य संदीप मिश्रा द्वारा किया जाता है इसकी कोई भी जानकारी ब्लॉक प्रमुख केलपती को नहीं होती है। लोगों का तो यहां तक कहना है कि चेकों पर भी प्रतिनिधि ही हस्ताक्षर करते हैं जिसका मिलान करके सच्चाई उजागर की जा सकती है क्षेत्र में चर्चा है कि ब्लॉक प्रमुख के प्रतिनिधि मनमाने ढंग से कार्य करते हैं जिससे क्षेत्र का विकास नहीं हो रहा है और क्षेत्र पंचायत सदस्यों में भी आक्रोश ब्याप्त है।

चुनाव जीतकर काबिज होने वाली अनुसूचित जाति की महिला ब्लॉक प्रमुख अपने अधिकारों के लिए परेशान हैं उनके अधिकार उन्हें नहीं दिए जा रहे हैं रबड़ के स्टांप बनकर महिला ब्लॉक प्रमुख रह गई है आम जनता ब्लॉक प्रमुख से विकास की मांग कर रही है लेकिन उनकी बात नहीं सुनी जा रही है जिससे मनमानी तरीके से विकास योजनाओं को अमली जामा पहनाया जा रहा है ब्लॉक प्रमुख से शिकायत करने पर प्रतिनिधि उनकी बात नहीं मानते लोगों का तो यहां तक कहना है कि ब्लॉक प्रमुख प्रतिनिधि से क्षेत्र पंचायत सदस्य भी काफी नाखुश है और वह अविश्वास प्रस्ताव लाने पर विचार कर रहे हैं अनुसूचित जाति की महिला ब्लॉक प्रमुख के कुर्सी पर कब्जा करने के बाद ब्लॉक की योजनाओं में जमकर धांधली हो रही है पूरे ब्लॉक के कार्यों की शासन स्तर से जांच कराए जाने की जरूरत है और ब्लॉक प्रमुख की कुर्सी पर कब्जा करने वाले ब्लॉक प्रमुख प्रतिनिधि के कारनामों को संज्ञान लेकर इन पर कठोर कार्रवाई करते हुए ब्लॉक प्रमुख की कुर्सी पर ब्लॉक प्रमुख को काबिज कराने का प्रयास प्रशासन को करना होगा लेकिन माननीयों के दबाव में ऐसा होता दिख नहीं रहा है।

 

About The Author

Taza Khabar