April 19, 2024

UPAAJTAK

TEZ KHABAR, AAP KI KHABAR

कौशाम्बी26नवम्बर23*यूपीआजतक न्यूज चैनल पर कौशाम्बी की कुछ प्रमुख खबरें

कौशाम्बी26नवम्बर23*यूपीआजतक न्यूज चैनल पर कौशाम्बी की कुछ प्रमुख खबरें

[26/11, 1:37 pm] +91 99560 44608: *देव दीपावली पर काशी में करीब 70 देशों के राजदूत शामिल होंगे*

देव दीपावली को लेकर तैयारियां जोरशोर से शुरू हो गई हैं. बनारस के 80 घाटों पर पर्यटकों की भीड़ उमड़ने लगी है. इस मौके पर करीब 70 देशों के राजदूत शामिल होने वाले हैं. इनके साथ 150 विदेशी डेलीगेट्स भी इस नजारे को​ निहारने के लिए पहुंचेंगे. जिला प्रशासन की ओर इसकी तैयारियां जोरशोर से शुरू हो गई हैं. मेहमानों के स्वागत में एयरपोर्ट पर सांस्कृतिक कार्यक्रम होने वाले हैं. यहां पर लोक कलाकार कई स्थानों पर सांस्कृतिक कार्यक्रमों के जरिये मेहमानों का स्वागत करेंगे.  देव दीपावली 27 नवंबर को मनाई जा रही है. हिन्दू शास्त्रों के अनुसार इस दिन स्‍नान और दान पुण्‍य करने से खास लाभ मिलता है. ऐसी मान्यता है कि इस दिन दीपदान करने से कभी न समाप्‍त होने वाला पुण्‍य प्राप्त होता है. इससे सभी प्रकार के पापों का नाश होता है▪️
[26/11, 1:37 pm] +91 99560 44608: *उत्तराखंड*

*नैनीताल में एक कार करीब 500 मीटर गहरी खाई में गिर गई। इस हादसे में 5 दोस्तों की मौत हो गई। सभी जनपद रामपुर (UP) के रहने वाले थे। 24 घंटे से ज्यादा वक्त तक उनके शव खाई में पड़े रहे, अगले दिन लोगों की नजर गाड़ी पर गई।*
[26/11, 1:37 pm] +91 99560 44608: *इलाहाबाद हाईकोर्ट ने सभी MP-MLA कोर्ट को फांसी, उम्रकैद तथा पांच वर्ष से अधिक दंड वाले मामलों को प्राथमिकता के आधार पर तय करने का निर्देश दिया है। कहा है कि यदि हाईकोर्ट या सत्र अदालत से सुनवाई पर रोक है तो मासिक रिपोर्ट में इसका उल्लेख किया जाए।*
[26/11, 1:37 pm] +91 99191 96696: प्रयागराज सिटी बस के कंडक्टर पर जानलेवा हमले से जुड़ी बड़ी खबर

प्रयागराज । आरोपी बीटेक छात्र लारेब हाशमी की कस्टडी रिमांड मंजूर,14 दिन की ज्यूडिशियल कस्टडी रिमांड मंजूर,एसीजेएम कोर्ट ने मंजूर की ज्यूडिशियल कस्टडी रिमांड,घायल होने की वजह से उसे जेल नहीं भेजा गया है,एसआरएन अस्पताल में पुलिस कस्टडी में इलाज चल रहा,हालत में सुधार होने पर पुलिस कस्टडी डिमांड मांग सकती है,आरोपीय छात्र के पिता मोहम्मद यूनुस पोल्ट्री फार्म चलाते हैं,आतंकी कनेक्शन को लेकर एटीएस ने भी जांच शुरू की,एटीएस ने उसके घर पहुंच कर उसके कमरे की तलाशी ली ,जिहादी साहित्य को लेकर भी एटीएस जांच पड़ताल कर रही,मोबाइल, कॉल डिटेल से भी और जानकारियां जुटाई जा रही ,बस के कंडक्टर पर लारेब हाशमी ने चापड़ से हमला किया था
[26/11, 1:37 pm] +91 99191 96696: *अपंजीकृत लोग कर रहे हैं पैथोलॉजी में जांच मरीजों का हो रहा बड़ा नुकसान*

*बिना लैब टेक्नीशियन के खुले पैथोलॉजी मरीज के लिए बने मुसीबत गली-गली में खुले कलेक्शन सेंटर*

*कौशाम्बी*। स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही के चलते जिले में अवैध पैथोलॉजी का धंधा तेजी से फल-फूल रहा है तमान पैथोलॉजी में लैब टेक्निशियन नहीं है कम पढ़े-लिखे लोग बिना स्वास्थ्य विभाग की डिग्री के पैथोलॉजी में जांच करते लोग देखे जाते हैं मरीजो को जांच की मनमानी रिपोर्ट दी जा रही है जिस पर भरोसा करना भी मुश्किल हो गया है गलत तरीके से खुले पैथोलॉजी में लैब टेक्नीशियन के बिना जांच किए जाने के बाद रिपोर्ट बनाए जाने से मरीजों का बड़ा नुकसान हो रहा है लेकिन जिम्मेदार उदासीन है जांच के लिए लगाए गए स्वास्थ्य अधिकारी केवल अवैध पैथोलॉजी से वसूली में मशगूल है सूत्रों की माने तो एक निश्चित रकम इन जिम्मेदारों तक पहुंच रही है गांव कस्बों तक कहीं एक कमरे में कही सकरी गलियों में अवैध पैथोलॉजी चल रही है। अप्रशिक्षित कर्मचारियों से काम चलाया जा रहा है।

पैथोलॉजी जांच का हाल यह है कि एक ही सैंपल की अलग- अलग रिपोर्ट आती है। और अलग अलग रेट है इन रिपोर्ट पर कितना भरोसा किया जाए, यह चिकित्सक भी समझ नहीं पा रहे हैं। स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों में जिले में लगभग 50 पैथोलॉजी बिना पंजीकृत हैं। जबकि हकीकत में कई गुना अधिक अवैध पैथोलॉजी खुलेआम खून मलमूत्र शुगर आदि की जांच करने में लगी हैं। अगर कस्बा की बात की जाए तो हर मोहल्ले में कई पैथालॉजी चल रही हैं। कोई एक कमरे में तो कोई बरामदे में मरीजों के ब्लड सैंपल लेकर जांच कर रहा है। जिला अस्पताल के सामने भी इस तरह की पैथोलॉजी की बाढ़ है। जिला अस्पताल आए मरीजो ने बताया कि एक पैथोलॉजी से जांच करवाई थी तो प्लेटलेट्स 80 हजार थी। कुछ देर बाद दूसरी पैथोलॉजी से प्लेटलेट्स जांच करवाई तो वह एक लाख निकली चिकित्सक भी दो रिपोर्ट देख हैरत में पड़ गए। उसके बाद जिला अस्पताल से जांच करवाई तो कहीं जाकर इलाज शुरू हो सका। यह हाल केवल कस्बा ही नहीं बल्कि पूरे जिले में बना हुआ है।

बाजारों में तो हर गली-मोहल्ले में पैथोलॉजी की दुकानें हैं रोजाना इनकी संख्या बढ़ती जा रही है। यही हाल कनैली , सराय अकिल , पुरखास,नेवादा, तिल्हापुर मोड, बेनीराम कटरा, चायल, मनौरी, सैयद सरावां, चरवा, करारी, भरवारी, मूरतगंज, बेरुवा, सैनी, देवीगंज, सिराथू, मंझनपुर, कुम्हियावा, समदा, पश्चिम शरीरा, हिनौता, का बना हुआ है। मंझनपुर तहसील की हर गली में कलेक्शन एजेंट मौजूद हैं। अधिकतर पैथोलॉजी बिना पंजीकरण के चल रही हैं।मरीज के परिजनों का आरोप है कि कई बार चिकित्सक प्राइवेट जांच के लिए भी मौखिक रूप से कलेक्शन सेंटर का नाम लेकर जांच कराने को कहते हैं। यहां अप्रशिक्षित लोग ब्लड सैंपल निकालने से लेकर सभी जांचें करते हैं।

*अवैध पैथोलॉजी को डॉक्टर भी देते हैं बढ़ावाः*

*कौशाम्बी* इन अवैध पैथोलॉजी के फलने-फूलने में झोलाछाप चिकित्सकों का भी आशीर्वाद रहता है। संचालक चिकित्सकों से जांच का कमीशन तय कर लेते हैं। इसके बाद अस्पताल आने वाले मरीजों को डॉक्टर इन्हीं पैथोलॉजी पर भेजते हैं। इससे उनको मोटा कमीशन मिलता है। अब तक ये लोग एक फोन पर घर जाकर भी सैंपल कलेक्ट कर लेते हैं।

*पैथोलॉजी में जांच के रेट भी अलग-अलग :*

*कौशाम्बी* इन अवैध पैथोलॉजी की जांच रिपोर्ट के दरें भी अलग-अलग हैं। कोई एलएफटी जांच के लिए पांच सौ लेता है तो कोई चार सौ में ही जांच कर देता है। तो इसी तरह डेंगू की जांच कहीं एक हजार में तो कहीं 1200 में हो रही है। मनमाने रेट व भरोसा न होने के चलते इसका खामियाजा मरीजों को भुगतना पड़ता है।

About The Author

Taza Khabar