March 4, 2024

UPAAJTAK

TEZ KHABAR, AAP KI KHABAR

कौशाम्बी15नवम्बर23*यूपीआजतक न्यूज चैनल पर कौशाम्बी की खास खबरें

कौशाम्बी15नवम्बर23*यूपीआजतक न्यूज चैनल पर कौशाम्बी की खास खबरें

[15/11, 4:03 pm] +91 99191 96696: *तालाब में खेती करा कर ग्राम प्रधान हो रहा मालामाल*

*सरकारी संपत्ति की उपज को बेचने वाले ग्राम प्रधान पर मुकदमा दर्ज करा कर गिरफ्तारी कराए जाने की मांग*

*कौशांबी।* चायल तहसील क्षेत्र के ग्राम पंचायत बरियावा के तालाबी संख्या 70 नंबर में बीते कई वर्षों से ग्राम प्रधान द्वारा अवैध तरीके से खेती कराई जा रही है और खेती की उपज प्रत्येक वर्ष बिक्री हो रही है लेकिन सरकारी खजाने में नहीं जमा हो रही है सब कुछ लेखपाल के साठगांठ में हो रहा है इस धांधली में लेखपाल भी लगातार हिस्सेदार हैं कई बार ग्रामीणों ने मामले की शिकायत तहसील के अधिकारियों से की बार-बार जांच कराई जा रही लेकिन जांच के दौरान मामले में लीपापोती की जा रही है जिससे सरकारी तालाब में अवैध तरीके से खेती किए जाने पर रोक भी नहीं लग सकी और सरकारी तालाब की खेती से तैयार होने वाली उपज को ग्राम प्रधान बेचकर मालामाल हो रहा है।

सूत्रों की माने तो ग्राम पंचायत बरियावा के खजाने में यह रकम जमा भी नहीं हो रही है सरकारी तालाब में खेती कर उपज को बेचकर जेब में रखने वाले ग्राम प्रधान के कारनामे को अभी तक अधिकारियों ने संज्ञान नहीं लिया है जिससे ग्राम प्रधान के हौसले बुलंद है सरकारी तालाब में खेती कराए जाने का यह मामला बेहद गंभीर है और इस मामले में उच्च अधिकारियों को जांच करा कर तालाब की संपत्ति को सरकारी खाते में दर्ज कराते हुए तालाब की खेती से तैयार फसल की उपज से मिली रकम को सरकारी खजाने में जमा कराते हुए ग्राम प्रधान पर मुकदमा दर्ज कराकर गिरफ्तारी कराए जाने की पहल अधिकारियों को करनी होगी।

सूत्रों की माने तो बीते 20 वर्षों के बीच तालाब की खेती से मिली उपज की बिक्री से 20 लाख रुपए से अधिक की रकम उपज बेच कर ग्राम प्रधान ने एकत्रित किया है लेकिन यह रकम सरकारी खजाने में नहीं जमा है आखिर सरकारी संपत्ति से तैयार उपज की बिक्री की रकम अपने घर में रखने वाले ग्राम प्रधान क्या भ्रष्टाचार के दोषी नहीं है आखिर इस मामले को अधिकारी संज्ञान क्यों नहीं ले रहे हैं इलाके के लोगों ने सूबे के मुख्यमंत्री का ध्यान आकृष्ट कराते हुए सरकारी संपत्ति की उपज को बेचने वाले ग्राम प्रधान बरियावा पर मुकदमा दर्ज करा कर गिरफ्तारी कराए जाने और तालाब को कब्जा मुक्त कराए जाने की मांग की है।

[15/11, 4:03 pm] +91 99191 96696: *गौसंरक्षण केंद्र बरियावा में बड़ी धांधली जिम्मेदार मौन*

*कई वर्ष बाद भी पशुओं की उपस्थिति का रजिस्टर नहीं बनाया गया है*

*कौशाम्बी।* चायल तहसील क्षेत्र के ग्राम पंचायत बरियावा के गौसंरक्षण केंद्र में बड़ी धांधली ब्याप्त है पशुओं को भरपेट चारा पानी नहीं दिया जाता है पशुओं के चारा में दाना अनाज खली चूनी नहीं मिलाई जाती है जिससे पशुओं को पौष्टिक भोजन न मिलने से पशु दिन प्रतिदिन कमजोर हो रहे हैं गौ संरक्षण केंद्र के अंदर मौजूद दो तिहाई से अधिक पशुओं की स्थिति बेहद खराब है जो बीमार है उनका इलाज भी ठीक से नहीं हो पा रहा है गौसंरक्षण केंद्र के देखने के लिए लगाए गए ग्राम प्रधान और पंचायत सचिव के साथ सरकारी पशु अस्पताल के डॉक्टरों द्वारा लगातार लापरवाही की शिकायत आला अधिकारियों से हो रही है लेकिन उसके बाद आला अधिकारी बदतर स्थिति को सुधार करने के लिए कड़े कदम नहीं उठा रहे हैं जिससे गौसंरक्षण केंद्र की दुर्दशा दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है गौ संरक्षण केंद्र के देखरेख चारा भूसा के लिए मिलने वाले रकम में योजना से जुड़े लोग बड़ी हेराफेरी कर मालामाल हो रहे हैं कई बार मामले की शिकायत मुख्य पशु चिकित्सा अधिकारी से हुई खंड विकास अधिकारी नेवादा से भी लोगों ने शिकायत की लेकिन गौ संरक्षण केंद्र की दुर्दशा में सुधार नहीं हो सका है बताया जाता है कि 1 वर्ष के दौरान ग्राम पंचायत बरियावा के गौसंरक्षण केंद्र में कई दर्जन पशुओं की बेवजह मौत हो गई है लेकिन उसके बाद भी गौ संरक्षण केंद्र की व्यवस्था में सुधार नहीं हो सका है कई वर्ष बाद भी पशुओं की उपस्थिति का रजिस्टर नहीं बनाया गया है जिससे आंकड़ों का बड़ा खेल चल रहा है और सब कुछ विभागीय जिम्मेदारों की देखरेख में हो रहा है मामले में शासन को गंभीरता से जांच कराए जाने की जरूरत है यदि शासन स्तर से उच्च स्तरीय जांच हुई तो गौ संरक्षण केंद्र की धांधली उजागर होना तय है।

 

About The Author

Taza Khabar