June 17, 2024

UPAAJTAK

TEZ KHABAR, AAP KI KHABAR

कौशाम्बी12दिसम्बर23*लाश करे पुकार साहब! बताओ मुझे किसने मारा. इंसाफ दो*

कौशाम्बी12दिसम्बर23*लाश करे पुकार साहब! बताओ मुझे किसने मारा. इंसाफ दो*

कौशाम्बी12दिसम्बर23*लाश करे पुकार साहब! बताओ मुझे किसने मारा. इंसाफ दो*

*मानसिंह की गुमसुदगी तो दर्ज नही हुई तो कैसे होती रिपोर्ट दर्ज*

*कौशांबी।* कई राते बीती. दिन बीते. माह बीता लेकिन मानसिंह की लाश को इंसाफ नहीं मिल सका। कौशांबी के मानसिंह की लाश भले ही खागा थानार्गत लावारिस हालत में मिली रही हो लेकिन खागा कोतवाल तेजाबहादुर सिंह ने काफी जद्दोजहद के बाद मानसिंह की लाश को उसकी पहचान तो दिला दी लेकिन सैनी पुलिस एक माह बाद भी मानसिंह को इंसाफ दिलाने में नाकाम रही। आज भी मानसिंह के परिजन उसे इंसाफ दिलाने के लिए दर ब दर भटक रहे हैं।

मालूम हो सैनी अनर्गत निंदूरा की रहने वाली फूलकली ने 6 नवंबर को प्रार्थना पत्र देकर सैनी पुलिस से गुहार लगाई थी कि उसका बेटे को 3 नवंबर को अझुवा का मेला दिखाने के बहाने गांव के ही जितेंद्र अपनी बाइक में बैठकर ले गया उसके बाद वो वापस नहीं लौटा हर जगह खोजबीन की जितेंद्र से भी पूछा लेकिन उसने कुछ नहीं बताया। पुलिस ने एक मां की पुकार नही सुनी न ही गुमसुदगी दर्ज की। वहीं तीन दिन बाद खागा कोतवाली अंतर्गत उसकी लाश रेलवे ट्रैक के किनारे लावारिश हालत में मिली। खागा पुलिस ने खोजबीन कर लाश को उसकी पहचान निंदूरा निवासी मानसिंह के रूप में कराकर परिजनों को सुपुर्द कर दिया। लेकिन एक माह बीतने के बाद भी पुलिस ने न तो आरोपियों पर रिपोर्ट दर्ज की और न ही आरोपियों को उठाने की जहमत उठाई जब कि अपराध की शुरुआत जहां से हो मुकदमा उस थाने में दर्ज होना चाहिए और मानसिंह को उसके घर से बुलाकर ले गए थे वह सैनी थाने में है लेकिन उसके बाद भी सैनी कोतवाल ने इस मामले में कार्रवाई नहीं की जिससे उनकी लापरवाही का अंदाजा लगाया जा सकता है या फिर किसी बड़े दबाव के चलते मानसिंह को ले जाने वाले लोगो को बचाने का प्रयास कोतवाल कर रहे हैं।वहीं अगर लोगों की माने तो मानसिंह ने अपने हिस्से की जमीन बेची थी पैसे के लेनदेन में ही उसके कत्ल की गुत्थी उलझी हुई है फिलहाल कुछ भी लेकिन आज भी मानसिंह की मां अपने बेटे को इंसाफ की आस में अपनी सांसे गिन रही है।

 

About The Author

Copyright © All rights reserved. | Newsever by AF themes.