June 23, 2024

UPAAJTAK

TEZ KHABAR, AAP KI KHABAR

कौशाम्बी07जून24*किचन के कचरे और अवशेष से अब हर घर में बनेगी खाद, नगर पंचायत अझुवा प्रशासन ने बांटे माय ग्रीन बिन*

कौशाम्बी07जून24*किचन के कचरे और अवशेष से अब हर घर में बनेगी खाद, नगर पंचायत अझुवा प्रशासन ने बांटे माय ग्रीन बिन*

कौशाम्बी07जून24*किचन के कचरे और अवशेष से अब हर घर में बनेगी खाद, नगर पंचायत अझुवा प्रशासन ने बांटे माय ग्रीन बिन*

*अझुवा कौशांबी* आदर्श नगर पंचायत अझुवा स्वच्छता के पायदान पर अग्रणी रहने का सपना देख रहा है इसके लिए नगर पंचायत प्रशासन प्रयास भी कर रहा है लेकिन यह प्रयास धरातल पर उम्मीद के मुताबिक नजर भी आ रहा है किचन के कचरे को कंपोस्ट खाद बनाने के प्रयास को नगर पंचायत प्रशासन ने कमर कस ली है उसके लिए नगर के 12 वार्डों में 4_4 की संख्या में विशेष डस्टबिन का बंटवाया गया है।अधिशासी अधिकारी रश्मि सिंह ने बताया किचन से निकलने वाले कचरे को घर में ही खत्म करने और उससे कम्पोस्ट खाद बनाने के लिए नगर पंचायत अझुवा एक खास पहल की है. इसके लिए एक विशेष तरह की डस्टबिन लोगों को नगर पंचायत अझुवा की ओर से दी गई है, जिसे माय ग्रीन बिन का नाम दिया गया है. प्रयोग सफल होने पर किचन से निकलने वाले कचरे के निस्तारण पर बहुत हद तक अंकुश लग सकेगा और घरों में बागवानी के शौकीन लोग कम्पोस्ट खाद भी आसानी से तैयार कर सकेंगे.

इस खास माय ग्रीन बिन में सब्जियों के छिलके, फलों के छिलके, बचा हुआ खाना, फूल, माला या बगीचे के पत्ते डाले जाएंगे. इससे पहले इसमें एक खास तरह का केमिकल कल्चर लगभग एक इंच तक डाला जाएगा. लगभग चार इंच तक कचरा आ जाने के बाद इसमें आधा इंच कल्चर फिर से डाला जाएगा. हर रोज यही प्रक्रिया अपनानी होगी. इसके पूरा भर जाने के बाद इसे 30-35 दिनों के लिए बंद करके रख दिया जाएगा. इस दौरान 10 दिन के बाद हर दूसरे दिन बिन में नीचे लगे हुए नल से चाय की तरह का बायो बूस्टर एकत्र कर इसका उपयोग कीटनाशक के रूप में किया जा सकता है.इसके लिए 12 वार्डों में 4_4 की संख्या में विशेष डस्टबिन कर्मचारियों द्वारा बंटवा दिया गया है प्रयोग सफल होने पर इसे अभियान का रूप दिया जाएगा।

About The Author

Copyright © All rights reserved. | Newsever by AF themes.