August 7, 2022

UPAAJTAK

TEZ KHABAR

कौशाम्बी02अगस्त*बंगाल से आए डॉ विश्वास के नाम पर पूरे जिले में सजी दुकानें विभाग मूकदर्शक*

कौशाम्बी02अगस्त*बंगाल से आए डॉ विश्वास के नाम पर पूरे जिले में सजी दुकानें विभाग मूकदर्शक*

*सराय अकिल कस्बे में राजातालाब रामलीला मैदान के पास चांदसी दवाखाना का देखने को मिला बोर्ड*

*सराय अकिल कौशांबी* जिले के भरवारी सिराथू सराय अकिल पश्चिम सरीरा कड़ा मनौरी करारी चायल मूरतगंज सहित विभिन्न चौराहों पर डॉक्टर बंगाली के नाम से क्लीनिक खोल कर मरीजों का इलाज किया जाता है जहां मरीजों के इलाज के नाम पर हजारों रुपए की रकम कथित डॉक्टरों द्वारा वसूल कर ली जाती है लेकिन तमाम मरीजों का मर्ज ठीक नहीं होता है उच्चतम न्यायालय ने झोलाछाप चिकित्सकों के क्लीनिक संचालन पर रोक लगाई है लेकिन उसके बाद भी जिले का स्वास्थ्य महकमा कुंभकरण की नींद सो रहा है जिससे बंगाल से आए डॉ बंगाली जगह जगह पर क्लीनिक खोलकर बेखौफ तरीके से मरीजों का इलाज करते देखे जाते हैं इसी तरह का एक मामला सराय अकिल कस्बे में राजातालाब रामलीला मैदान के पास चांदसी दवाखाना का बोर्ड लगा देखने को मिला है जहां अकुशल अनट्रेंड चिकित्सक डॉ विश्वास का बोर्ड लगा कर बंगाली डॉक्टर इलाज कर रहा है इस क्लीनिक में इलाज के दौरान आए दिन मरीजों की परेशानी बढ़ जाती है सूत्रों की माने तो डॉक्टर बंगाली के क्लीनिक का रजिस्ट्रेशन भी मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय में नहीं है लेकिन फिर भी अवैध तरीके से चिकित्सा की दुकानें सजी हैं मामले की कई बार शिकायतें भी अधिकारियों से हो चुकी है लेकिन डॉक्टर बंगाली का बाल बांका नहीं हुआ है सूत्रों की माने तो मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय का एक लिपिक अवैध क्लीनिक संचालन में प्रत्येक वर्ष हजारों की रकम वसूल रहा है जिससे अवैध क्लीनिक में कानून नियम का पालन होता नहीं दिख रहा है आखिर कब तक डॉ विश्वास के नाम पर जिले में 3 दर्जन से अधिक डॉक्टर बंगाली दुकान सजाकर अवैध तरीके से मरीजो का इलाज करते रहेंगे पूरी व्यवस्था स्वास्थ्य महकमे के मुंह पर जोरदार तमाचा है लेकिन उसके बाद भी स्वास्थ्य अधिकारी से लेकर स्वास्थ्य महानिदेशक तक अवैध क्लीनिक के संचालन पर रोक नहीं लगा पा रहे हैं इलाके के मरीज के परिजनों ने आला अधिकारियों का ध्यान आकृष्ट कराते हुए अवैध क्लीनिक संचालन पर रोक लगाए जाने की मांग की है