May 22, 2024

UPAAJTAK

TEZ KHABAR, AAP KI KHABAR

कानपुर नगर20अप्रैल24*सपा विधायक अमिताभ बाजपेई पनकी मंदिर, दर्शन , दण्डवत के उपरांत पुलिस अधिकारी को सौंपा मांगों का ज्ञापन*

कानपुर नगर20अप्रैल24*सपा विधायक अमिताभ बाजपेई पनकी मंदिर, दर्शन , दण्डवत के उपरांत पुलिस अधिकारी को सौंपा मांगों का ज्ञापन*

कानपुर नगर20अप्रैल24*सपा विधायक अमिताभ बाजपेई पनकी मंदिर, दर्शन , दण्डवत के उपरांत पुलिस अधिकारी को सौंपा मांगों का ज्ञापन*

आर्य नगर से सपा विधायक अमिताभ बाजपेई पूर्व घोषित कार्यक्रम के तहत शनिवार 11 बजे पनकी के हनुमान मंदिर पहुंचे जहां उन्होंने मंदिर दर्शन करने के उपरांत बाहर आकर तीन दंडवत करने के उपरांत मीडिया को संबोधित किया। और एडीसीपी पूर्वी अंकिता सिंह को अरमापुर स्थित ईदगाह मैदान में नमाज के दौरान हुए विवाद के बाद दर्ज मुकदमे से संबंधित ज्ञापन एवं मांग पत्र सौंपा।

मामला है। अरमापुर स्थित बड़ी ईदगाह में नमाज के दौरान गोविंद नगर से समाजवादी पार्टी से प्रत्याशी सम्राट विकास की डी.सी.पी विजय ढुल वार्तालाप हो गई थी। इसके बाद पुलिस उन्हें गिरफ्तार कर पनकी थाने ले आई थी। घटना का पता चलते ही गठबंधन प्रत्याशी आलोक मिश्रा, आर्य नगर से समाजवादी पार्टी के विधायक अमिताभ बाजपेई सहित सैकड़ो कार्यकर्ताओं ने पनकी थाने में हंगामा किया था। इसके उपरांत अरमापुर थाना प्रभारी राम मूरत पटेल की तहरीर पर अमिताभ बाजपेई, आलोक मिश्रा सहित 200 लोगों के विरुद्ध वलबा, सरकारी कार्य में वाधा साजिशन की धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया था। मुकदमे के विरोध में अमिताभ बाजपेई ने पुलिस पर तानाशाही करने का आरोप लगाते हुए एक पक्षीय कार्रवाई करने की बात कहते हुए शनिवार को 11 बजे पनकी मंदिर दर्शन करने के उपरांत दंडवत कर सपा विधायक दो गाड़ियों से पनकी मंदिर पहुंचे। मामले को देखते हुए एडीसीपी पूर्वी अंकिता सिंह सहित पनकी और कल्याणपुर सर्किल का फोर्स पहले से ही मंदिर में तैनात था। अमिताभ बाजपेई ने पहुंचकर मंदिर दर्शन किए और बाहर निकाल कर तीन दंडवत करने के उपरांत मीडिया को संबोधित करने के बाद एडीसीपी पूर्वी अंकिता सिंह को अपने विरुद्ध दर्ज मुकदमे से संबंधित ज्ञापन और मांग पत्र सौपा।
मांग पत्र के प्रमुख बिंदु

– अरमापुर स्थित ईदगाह मैदान में घटी मूल घटना जिसमें डीसीपी विजय ढुल और विकास यादव की झड़प हुई है। उसका मूल वीडियो जारी किया जाए जिससे सुनिश्चित हो सके की गलती किसकी है।
– उक्त घटना की प्रतिक्रिया में हुए विवाद की भी जांच होनी चाहिए।

– एक वरिष्ठ अधिकारी से हुए विवाद के मुकदमे में इंस्पेक्टर वादी और जांच अधिकारी जूनियर होगा तो जांच सही दिशा में होने में संदेह है। अतः इस प्रकरण की जांच वरिष्ठ अधिकारी से कराई जाए।
– क्या किसी विधायक को थाने के अंदर जाने के लिए किसी अनुमति की आवश्यकता है। इसमें कानून व्यवस्था के लिए किस प्रकार की बाधा उत्पन्न की गई है।

– अंबेडकरवादियों द्वारा निकाली गई शोभा यात्रा के दौरान किए गए विवाद की भी निष्पक्ष जांच कराई जाए।

– विवादित वरिष्ठ अधिकारी के क्षेत्र में ही रामनवमी की शोभायात्राओं एवं कार्यक्रमों की उचित व्यवस्था नहीं बनाई गई। कई जगह आचार संहिता उल्लंघन और उच्च न्यायालय के आदेशों का उल्लंघन भी हुआ।

– सपा नेताओं के ऊपर धर्म एवं जाति के आधार पर दर्ज किए मुकदमे वापस लिए जाएं।

पनकी मंदिर आने के सवाल पर उन्होंने कहा कि यहां मेरे दादाजी दर्शन करने आते थे क्योंकि मामला पनकी का है और हनुमान जी ने रावण का अहंकार नष्ट किया था । हनुमान जी हमारे आराध्य देव हैं अहंकारी शासन व्यवस्था का अहंकार नष्ट करने के लिए हनुमान जी सबसे योग्य हैं।

इस मामले में ए.सी.पी पनकी तेज बहादुर सिंह ने अमिताभ बाजपेई की गिरफ्तारी के सवाल पर कहा की गिरफ्तारी का कोई प्रयोजन नहीं है। मुकदमे में जो धाराएं लगाई गई है वह गिरफ्तारी के अंतर्गत नहीं आती है। इसकी वजह से गिरफ्तारी नहीं की जा सकती है इसके अलावा सपा विधायक को पनकी मंदिर में दर्शन मैं दर्शन करने से रोकने वाले लोगों को पुलिस के द्वारा मंदिर के आसपास तक आने नहीं दिया गया

About The Author

Taza Khabar

Copyright © All rights reserved. | Newsever by AF themes.