February 26, 2024

UPAAJTAK

TEZ KHABAR, AAP KI KHABAR

कानपुर नगर01दिसम्बर23*वानिकी प्रशिक्षण संस्थान, कानपुर में आयोजित हुआ दीक्षान्त समारोह-*

कानपुर नगर01दिसम्बर23*वानिकी प्रशिक्षण संस्थान, कानपुर में आयोजित हुआ दीक्षान्त समारोह-*

कानपुर नगर01दिसम्बर23*वानिकी प्रशिक्षण संस्थान, कानपुर में आयोजित हुआ दीक्षान्त समारोह-*

आज वन एवं पर्यावरण मंत्रालय पटना बिहार के 96 वनपाल प्रशिक्षुओं का पासिंग आउट परेड (पी0ओ0पी0), समूह में प्रथम व द्वितीय श्रेणी प्राप्त करने वाले प्रशिक्षुओं को मेडल प्रदान करने तथा वानिकी से सम्बन्धित महत्वपूर्ण विषयों यथा-वन वर्धन, वनस्पति विज्ञान, सर्वेक्षण अभियांत्रिकी आदि में उच्चतम अंक प्राप्त करने वाले प्रशिक्षुओं हेतु इस दीक्षान्त समारोह का भव्य आयोजन किया गया ।
इस अवसर पर वानिकी प्रशिक्षण संस्थान, कानपुर में मुख्य अतिथि मनोज सिंह, अपर मुख्य सचिव, पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन विभाग, उ0प्र0, विशिष्ट अतिथि सुधीर कुमार शर्मा, प्रधान मुख्य वन संरक्षक और विभागाध्यक्ष, उ0प्र0, लखनऊ एवं अभय कुमार द्विवेदी, मुख्य वन संरक्षक, मुजफ्फरपुर, बिहार राज्य तथा अंजनी कुमार आचार्य, प्रधान मुख्य वन संरक्षक, वन्यजीव, संजय श्रीवास्तव, प्रधान मुख्य वन संरक्षक अनुसंधान एवं प्रशिक्षण, सुनील चैधरी, प्रधान मुख्य वन संरक्षक, अनुश्रवण एवं मूल्यांकन, उ0प्र0, सुनील दूबे निदेशक, वानिकी प्रशिक्षण संस्थान, उ0प्र0, एवं के0के0 सिंह, मुख्य वन संरक्षक कानपुर मण्डल, श्रद्धा यादव, डी0एफ0ओ0 वानिकी प्रशिक्षण संस्थान, ए0के0 द्विवेदी, डी0एफ0ओ0 कानपुर देहात, डी0एफ0ओ0 कानपुर नगर दिव्या एवं वन विभाग के अन्य वरिष्ठ अधिकारीगण इस गौरवशाली दीक्षान्त समारोह में साक्षी बने। दीक्षांत समारोह कार्यक्रम को सफल बनाने में संजय श्रीवास्तव, प्रधान मुख्य वन संरक्षक, अनुसंधान एवं प्रशिक्षण, उ0प्र0 कानपुर, सुनील कुमार दूबे, निदेशक, वानिकी प्रशिक्षण संस्थान, कानपुर का महत्वपूर्ण मार्गदर्शन रहा ।
समारोह में बताया गया कि राज्य सरकार की वन सेवा के विभिन्न पदो के अधिकारियों एवं कर्मचारियों को आधारभूत प्रशिक्षण एवं विभिन्न विषयों पर विशिष्ट प्रशिक्षण प्रदान करने के उद्देश्य से यह वानिकी प्रशिक्षण संस्थान वर्ष 1988 में स्थापित किया गया था। जिसमें गत वर्षों में उत्तर प्रदेश राज्य के विभिन्न पदों पर अधिकारियों एवं कर्मचारियों को प्रशिक्षण प्राप्त कराने के साथ-साथ अन्य राज्य जैसे- दिल्ली, बिहार के वनरक्षी/वनपाल को 06 माह का अधारभूत प्रशिक्षण भी दिया गया। वर्तमान में बिहार राज्य के 96 वनपाल प्रशिक्षुओं को जून 2023 से नवम्बर 2023 तक उत्कृष्ठ स्तर का प्रशिक्षण प्रदान किया गया। इस प्रशिक्षण संस्थान में प्रशिक्षुओं को स्मार्ट क्लास के माध्यम से विभिन्न विषयों जैसे- जल संरक्षण, वन्य जीवों का रेस्क्यू आदि का कुशल एवं विद्वान प्रशिक्षकों के माध्यम से ट्रेनिंग के साथ फील्ड भ्रमण के माध्यम से व्यवहारिक प्रशिक्षण भी प्रदान किया गया। गत वर्ष में उत्तर प्रदेश राज्य के विभिन्न पदों पर आसीन हजारों अधिकारियों/कर्मचारियों को विभिन्न 19 विषयों पर विशिष्ट प्रशिक्षण भी प्रदान किया गया। विभिन्न संरचनाओं से सुसज्जित इस प्रशिक्षण संस्थान में शारीरिक क्षमता के विकास एवं बौद्धिक विकास पर विशेष ध्यान देने हेतु भिन्न-भिन्न गतिविधियों का परिपालन कराया गया। अपने इस मानदण्डों से उदाहरण प्रस्तुत करने के फलस्वरूप विभिन्न राज्यों के वन कर्मियों को प्रशिक्षण प्राप्त करने का अवसर इस प्रशिक्षण संस्थान द्वारा दिया जा रहा है।
इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि मनोज सिंह, अपर मुख्य सचिव, पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन विभाग, उ0प्र0, विशिष्ट अतिथि सुधीर कुमार शर्मा, प्रधान मुख्य वन संरक्षक और विभागाध्यक्ष, उ0प्र0, लखनऊ, सुनील चैधरी, प्रधान मुख्य वन संरक्षक, अनुश्रवण एवं मूल्यांकन, उ0प्र0 एवं अभय कुमार द्विवेदी, मुख्य वन संरक्षक, मुजफ्फरपुर, बिहार एवं वन विभाग के कई वरिष्ठ अधिकारीगण को पासिंग आउट परेड में बिहार राज्य के वनपाल प्रशिक्षुओं के द्वारा सलामी दी गयी ।
मुख्य अतिथि मनोज सिंह, अपर मुख्य सचिव, पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन विभाग, उ0प्र0, विशिष्ट अतिथि सुधीर कुमार शर्मा, प्रधान मुख्य वन संरक्षक और विभागाध्यक्ष, उ0प्र0, लखनऊ एवं अभय कुमार द्विवेदी, मुख्य वन संरक्षक, मुजफ्फरपुर बिहार सहित वन विभाग के कई वरिष्ठ अधिकारीगण द्वारा स्मार्ट क्लास एवं इस संस्थान के विभिन्न कार्यकलापों, कार्यक्रमों की फोटोगैलरी का भी अवलोकन किया गया। मुख्य अतिथि एवं वन विभाग के अन्य वरिष्ठ अधिकारियों के द्वारा 06 माह के प्रशिक्षण के उपरान्त 01 दिसम्बर 2023 को प्रशिक्षुओं का दीक्षांत समारोह के अवसर पर प्रथम एवं द्वितीय श्रेणी प्राप्त करने वाले प्रशिक्षुओं को मेडल तथा वानिकी से सम्बन्धित महत्वपूर्ण विषयों यथा वन वर्धन, वनस्पति विज्ञान,
सर्वेक्षण एवं अभियांत्रिकी, सामुदायिक वानिकी एवं ग्रामीण विकास विषयों में उच्चतम अंक प्राप्त करने वाले प्रशिक्षुओं को मेडल/प्रमाण पत्र प्रदान किया गया ।
अंत में सभी प्रशिक्षुओं को मुख्य अतिथिगण एवं अन्य वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा सभी सफल प्रशिक्षुओं को अपने-अपने कार्यक्षेत्र में वन सेवा के उत्कृष्ट उदाहरण प्रस्तुत करने की शुभकामनाएं दी गयी ।
———————-

About The Author

Taza Khabar