July 5, 2022

UPAAJTAK

TEZ KHABAR

औरैया16जून*डीएम व एसपी के निर्देश पर पछैयां बस्ती में चला शराब के खिलाफ अभियान*

औरैया16जून*डीएम व एसपी के निर्देश पर पछैयां बस्ती में चला शराब के खिलाफ अभियान*

*शराब एवं शराब बनाने के उपकरण बरामद कर एक को पकड़ा*

*औरैया।* शहर के मोहल्ला बनारसीदास स्थित बहुचर्चित पछैया बस्ती में देशी शराब बनाने एवं बिक्री करने का धंधा लंबे अरसे से फलफूल रहा है। समय-समय पर इस बस्ती में पुलिस एवं आबकारी विभाग द्वारा छापामार कार्रवाई करते हुए शराब एवं शराब बनाने के उपकरण बरामद किए जाते हैं, लेकिन उपरोक्त बस्ती में चल रहे कच्ची शराब के इस गोरखधंधा को रोकपाने में प्रशासन पूरी तरह से विफल रहा है। इस गोरखधंधे से समाज पर विपरीत प्रभाव पड़ रहा है। वही अनगिनत लोग इस बस्ती की शराब से काल के गाल में समा चुके हैं। इसके बावजूद कच्ची शराब का यह गोरखधंधा बंद होने का नाम नहीं ले रहा है अधिकारी भी छापामार कार्रवाई के बाद कोई व्यापक कार्रवाई नहीं करते हुए इतिश्री कर लेते हैं। बुधवार को इसी क्रम में जिला अधिकारी व पुलिस अधीक्षक के निर्देशन में आबकारी विभाग तथा कोतवाली पुलिस द्वारा छापामार कार्यवाही करते हुए शराब एवं शराब बनाने के उपकरण बरामद कर एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया है।
जिलाधिकारी व पुलिस अधिक्षक के निर्देश पर गुरुवार 16 जून 2022 को औरैया में आबकारी व स्थानीय थाना पुलिस द्वारा अवैध मदिरा तस्करी/ निर्माण/भंडारण / बिक्री आदि पर प्रभावी रोकथाम के लिए संदिग्ध पछैया बस्ती गुरुवार की भोर औचक छापेमारी करते हुए लगभग एक दर्जन घरो सघन तलाशी व जाँच की गयी। सघन तलाशी व जाँच के दौरान लगभग 30 लीटर अवैध मदिरा व शराब बनाने के उपकरण बरामद किये गये। मौके से एक व्यक्ति को गिरिफ्तार कर आबकारी अधिनियम के अन्तर्गत थाना कोतवाली में अभियोग दर्ज किया गया। टीम में आबकारी निरीक्षक पदम प्रकाश व विनोद सिंह व चौकी इंचार्ज गिरीश चंद मय स्टाफ मौजूद रहे। इसके अलावा टीम द्वारा संयुक्त रुप से वहां उपस्थित व्यक्तियों को अवैध मदिरा के विरुद्ध चल रहे व्यापक अभियान की जानकारी दी गयी व अवैध मदिरा के सेवन से होने वाले दुष्प्रभावों के प्रति सचेत करते हुए,अभियान में सहयोग के लिए किसी भी उपयो़गी सूचना को साझा करने के उद्देश्य से अपने व स्टाफ के मो.न. तथा आबकारी विभाग के टोल फ्री न.से अवगत कराया गया। शहर के संभ्रांत , वरिष्ठ एवं जागरूक लोगों का कहना है कि प्रशासन द्वारा आखिर यह छापामार कार्रवाई कब तक होती रहेगी? क्या इस गोरखधंधे को रोकने के लिए प्रशासन कोई ठोस कदम भी उठाएगा अथवा इसी प्रकार से छापामार कार्रवाई कर इतिश्री करता रहेगा।