August 6, 2022

UPAAJTAK

TEZ KHABAR

औरैया06जुलाई*फर्जी अधिवक्ताओं की जांच के लिए बनी 9 सदस्य पैनल कमेटी

डीबीए ने पारित किया प्रस्ताव विना सीओपी अधिवक्ता नहीं लगाएंगे न्यायालय में वकालतनामा
औरैया06जुलाई*फर्जी अधिवक्ताओं की जांच के लिए बनी 9 सदस्य पैनल कमेटी
औरैया ।बुधवार को जिला बार एसोसिएशन औरैया की जरनल हाउस की बैठक में कई अहम मुद्दों पर चर्चा होनी के बाद कई महत्वपूर्ण लिए गए जिसे फर्जी अधिवक्ता एवं दलालों में हड़कंप मच हुआ है यहां कई सीनियर वरिष्ठ अधिवक्ता देवेंद्र त्रिपाठी एडवोकेट ने अपने विचार रखते हुए कहा कि फर्जी अधिवक्ता वह होता है जिसका रजिस्ट्रेशन बार कॉउंसिल ऑफ उत्तर प्रदेश से ना हुआ हो अगर उसका प्रमाण पत्र बार कॉउंसिल उत्तर प्रदेश ने जारी किया है तो वह फर्जी अधिवक्ता नहीं है वही अधिवक्ता सौरभ पाठक ने जानकारी देते हुए जनरल हाउस को बताया कि अधिवक्ताओं के हितों के लिए हम लोग एकजुट और एक साथ हैं पर अधिवक्ता भी अपनी मर्यादित एवं कर्तव्यनिष्ठ का परिचय दें जिससे अधिवक्ता समाज की बदनामी ना हो उन्होंने कहा कि अभी कुछ दिनों से अधिवक्ताओं के प्रति जो कुचक्र रचा रचा जा रहा है उसके लिए हम अपनी बार और अधिवक्ताओं के साथ हैं लेकिन अधिवक्ता भी अपनी मान मर्यादित आचरण को अपनाते रहे वहीं पूर्व अध्यक्ष सुरेंद्र नाथ शुक्ला ने कहा कि असली फर्जी का एक ही तरीका है हर वर्ष एक आईडी बनाना चाहिए हमें काला कोट पहनने के बाद हमें लाइसेंस नहीं मिल सकता आप गलत कार्य करते हैं तो हम साथ नहीं हैं बार के लोग कितना फीस लेते हैं अलग की बात है वकील का कोई फीस नहीं होता उन्होंने कहा कि जो लॉ कॉलेज में प्रवेश लेते हैं वह छात्र न्यायालय परिसर में आकर अधिवक्ताओं की वेशभूषा पहनकर न्यायालय में बहस करते हैं और असली अधिवक्ताओं को इसका खामियाजा भुगतना पड़ता है जिससे न्यायालय और बाद कार्यों में अधिवक्ता के प्रति द्वेष पनपता है वही अध्यक्ष सतीश चंद्र राजपूत ने कहा कि सर्वसम्मति से यह निर्णय पास किया जाता है कि सभी लोगों के विचार अनुसार जो रजिस्टर्ड अधिवक्ता है वह अपना सर्टिफिकेट आफ प्रैक्टिस भी दाखिल करें साथ ही लोगों की एक कमेटी नियुक्त की जा रही है जो फर्जी अधिवक्ताओं की जांच करेगा और इसकी रिपोर्ट बार को प्रस्तुत कर उन पर विधिक कार्यवाही के लिए अपना निर्णय देंगे इस कमेटी में सदस्य अधिवक्ता हेमंत पांडे अतेंद्र पांडे देवालय चौधरी एडवोकेट हरिशंकर शर्मा एडवोकेट प्रमोद यादव एडवोकेट हरिओम शुक्ला एडवोकेट विपिन त्रिपाठी एडवोकेट अंकित शर्मा एडवोकेट एवं शिवम त्रिपाठी एडवोकेट को नियुक्त किया गया है वही अध्यक्ष ने प्रेस को बताया कि जनरल हाउस की बैठक में यह पास हो गया है कि सी ओ पी कार्ड धारक ही न्यायालय में वकालतनामा प्रस्तुत करेंगे और जो अधिवक्ता सीओपी धारक नहीं है वह अपना प्रमाण पत्र बार काउंसिल ऑफ उत्तर प्रदेश से शीघ्र बनवाए अन्यथा वह न्यायालय परिसर में प्रैक्टिस नहीं कर पाएंगे यह भी प्रस्ताव किया गया कि किसी भी अधिवक्ता की वकालत न्यायालय में की जाएगी लेकिन अगर न्याय विधि से जुड़े अधिवक्ता के साथ कोई घटना व्यक्तिगत घटती है तो उसके साथ बार एवं समस्त अधिवक्ता है लेकिन अगर किसी अधिवक्ता का आचरण बार और वकालत के खिलाफ है तो उसकी मदद थाने में ना जाकर न्यायालय में की जाएगी इस मौके पर वरिष्ठ अधिवक्ता एचएन पांडे ने कहा कि अधिवक्ताओं को अपने सीनियर का सम्मान एवं मान मर्यादा रखनी चाहिए तथा अपने आचरण को अच्छा रख कर समाज को एक नई दिशा देने का कार्य करना चाहिए उन्होंने नए अधिवक्ताओं को जानकारी देते हुए कहा कि वह जब नए पैसे अधिवक्ता में गए थे तो उनके गुरुदेव ने उनको बहुत ही स्नेह और प्यार दिया लेकिन उस प्यार के बदले मैंने जूनियर होने के नाते पूरा सम्मान और मान रखा वही पूरे जंगल हाउस की बैठक में अध्यक्ष सतीश चंद राजपूत पूर्व अध्यक्ष सुरेंद्र नाथ शुक्ला पूर्व अध्यक्ष इंद्रपाल सिंह भदौरिया महावीर प्रसाद शर्मा राम शरण पोरवाल अखिलेश सक्सेना मेवा लाल एडवोकेट एच एन पांडे हरिशंकर शर्मा सुनील दुबे देवालय चौधरी अभिषेक शुक्ला नीरज पांडे सुरेश मिश्रा कमलेश कुमार शिवम शर्मा सुरेश चंद्र मिश्र पंकज मिश्रा मोहम्मद कादिर अनूप बाजपेई अतेंद्र पांडे अनुराग त्रिपाठी अतुल अवस्थी त्रिलोकी अवस्थी रवि तोमर पूर्व महामंत्री दारा शुक्ला एवं महामंत्री प्रदीप कुमार तिवारी मौजूद रहे वहीं संचालन स्वयं महामंत्री प्रदीप तिवारी ने किया

You may have missed