UncategorizedWorldउत्तर प्रदेशउत्तराखंडराज्यराष्ट्रीयस्थानीय खबरें

औरैया 21 मार्च *लहटोरिया में चारागाह की भूमि पर बिना परमिशन के खुदाई*

औरैया 21 मार्च *लहटोरिया में चारागाह की भूमि पर बिना परमिशन के खुदाई*

*बिधूना,औरैया।* ग्राम पंचायत लहटोरिया के मजरा रामनगरा में चारागाह के लिए सुरक्षित सरकारी भूमि को बिना किसी अनुमति के बुंदेलखंड एक्सप्रेसवे के ठेकेदारों द्वारा मनमाने तरीके से जेसीबी मशीनों से मिट्टी की खनन कराए जाने से पर्यावरण पर खतरा बढ़ने के साथ ही आवारा पशुओं के भरण पोषण पर भी संकट मंडराता जा रहा है।
बिधूना तहसील क्षेत्र के विकासखंड अछल्दा की ग्राम पंचायत लहटोरिया के राम सिंह यादव , राज कुमार यादव , मुखराम सिंह , अतर सिंह , दिनेश कुमार , मुकेश कुमार , रितेश कुमार , मनोज कुमार , विकास कुमार , नीलू ,हरकेश , गणेश , अशोक कुमार , मोहरवती , सीता देवी व आरती कुमारी आदि बुद्धिजीवियों ने प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समेत प्रदेश व जिले के आला अधिकारियों को भेजे शिकायती पत्र में आरोप लगाया है कि ग्राम पंचायत लहटोरिया के मजरा रामनगरा में चारागाह की सुरक्षित भूमि की बुंदेलखंड एक्सप्रेस वे के संबंधित ठेकेदारों द्वारा मनमाना रवैया अपनाते हुए बिना किसी अनुमति के उक्त सार्वजनिक पर जेसीबी मशीनें लगाकर 6 से 8 फीट तक गहरी मिट्टी खनन कराकर डम्फरो द्वारा मिट्टी को एक्सप्रेस-वे के निर्माण के लिए ले जाया जा रहा है। जिससे चारागाह की भूमिका अवैध खनन होने से जहां पर्यावरण को गंभीर खतरा पैदा हो रहा है , वही आवारा पशुओं के भरण पोषण की भी समस्या पैदा हो गई है। इन शिकायतकर्ता ग्रामीणों ने बताया है कि खनन में लगे डंपर की टक्कर से जब एक गाय की मौत हो गई तो खनन कार्य में लगे लोगों ने जेसीबी मशीन से गड्ढा खोदकर वहीं पर मृतक गाय को दबा दिया। उन लोगों द्वारा जब ठेकेदार से अवैध खनन के लिए रोका गया तो वह उन लोगों के साथ मारपीट पर आमादा हो गए वही जब इस मामले की शिकायत उन लोगों द्वारा चौकी प्रभारी इटैली थाना अछल्दा से की गई तो चौकी प्रभारी प्रमोद कुमार भी शिकायतकर्ताओं को फर्जी मुकदमों में फंसाने की धमकी देने लगे। हालांकि चौकी प्रभारी ने अपने ऊपर लगाए गए आरोपों को निराधार बताया है। शिकायतकर्ता ग्रामीणों ने मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश शासन व प्रदेश व जिले के आला अधिकारियों से जल्द सरकारी चरागाह की भूमि पर हो रहा अवैध खनन न रोका गया तो इसके विरुद्ध वह निर्णायक आंदोलन शुरू करने को भी मजबूर होंगे। इस संबंध में पूछे जाने पर तहसीलदार बिधूना गौतम सिंह ने बताया है कि उन्हें इस मामले की फिलहाल कोई जानकारी नहीं है शिकायत मिलेगी तो जांच कर वैधानिक कार्यवाही होगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button