उत्तर प्रदेशउत्तराखंडराज्यस्थानीय खबरें

बाँदा 17 मार्च*सांडी खंड 4 मौरम खदान में किसानों से एग्रीमेंट खत्म होने के बाद जबरिया परिवहन निकासी

बाँदा 17 मार्च*सांडी खंड 4 मौरम खदान में किसानों से एग्रीमेंट खत्म होने के बाद जबरिया परिवहन निकासी

सांडी खंड 4 मौरम खदान में किसानों से एग्रीमेंट खत्म होने के बाद जबरिया परिवहन निकासी और ग्रामीणों के आंदोलन करने पर समझौता करवाने के नाम पर अपने ही पार्टनरों से 2 लाख 41 हजार रुपये की वसूली करने वाले राजा कांस्ट्रक्शन ( राजा हुसैन) की जलसखी मोर्चा की ऊषा निषाद व अन्य खेतिहर किसानों ने एसडीएम पैलानी को लिखित शिकायत करके कार्यवाही की मांग की वहीं प्रार्थना पत्र संबंधित थाने में दिया
बीते मंगलवार दो वायरल ऑडियो में हुआ था खुलासा जिसकी खबर दैनिक भास्कर समाचार पत्र प्रकाशित हुई है वहीं डिजिटल/सोशल मीडिया में हो रही वायरल। खदान रस्ते पर खेती पड़ने वाले किसान पंकज- पत्नी पार्वती पुत्र स्वर्गीय रामचरण निषाद आदि ने एसडीएम से सांडी खंड 4 के ट्रक परिवहन खेतों से निकलने पर रोक लगवाने की मांग की। उन्होंने कहा कि बिना एग्रीमेंट किसान की भूमि से खदान संचालक परिवहन निकासी नहीं कर सकता है इस पर कार्यवाही होना चाहिए। गौरतलब है खेती की ज़मीन को किसान या खदान कारोबारी कानूनी रूप से कामर्शियल उपयोग नहीं कर सकता है। महोबा में जिला कलेक्टर की बगैर अनुमति और धारा 143 का डिक्लेरेशन लिए बिना ही स्टोन क्रेशर संचालक व मृतक अधिवक्ता मुकेश पाठक के आरोपी भूमाफिया चौधरी छत्रपाल यादव का गुगौरा चौकी में स्थापित क्रेशर इन्ही करणों से न्यायालय ने अवैध घोषित किया है क्योंकि वह व्यावसायिक भूमि नहीं थी। उल्लेखनीय है बाँदा में संचालित मौरम खदान में सभी जगह जो भी खदान संचालक किसान से जबरिया या दबाव बनाकर खेतों से नदी तक परिवहन आवागमन का रस्ता लिए है वह गैरकानूनी व धारा 143 का उल्लंघन है। जिला कलेक्टर की बिना अनुमति इसका एग्रीमेंट रजिस्ट्री भी वैध नहीं है। बतलाते चले ग्राम मरौली में यह व्यापक स्तर पर किया गया है वहीं सांडी में किसान पंकज पुत्र रामचरन निषाद आदि की सहमति लिए बिना खंड 4 के ट्रक परिवहन कर रहे है। राजा कांस्ट्रक्शन के राजा हुसैन की अवैध वसूली और परिवहन निकासी का शिकायत पत्र देकर पीड़ितों ने समुचित कार्यवाही नहीं होने पर रस्ता बन्द करने की बात कही है। एसडीएम ने लेखपाल /तहसीलदार से जांच करवाने के निर्देश दिए है।

यूपी आज तक बांदा ब्यूरो मदन गुप्ता की रिपोर्ट

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button