UncategorizedWorldउत्तर प्रदेशउत्तराखंडराजनीतिराज्यराष्ट्रीयस्थानीय खबरें

औरैया 08 मार्च C S Agnihotri news up aajtak

[3/8, 7:14 PM] +91 94114 35204: जिला बार अधिवक्ताओं न्यायिक अधिकारियों में बनी सहमति
उच्च न्यायालय मैं नहीं करेंगे पैरवी समझौते पर दोनों पक्ष राजी
औरैया जिला न्यायालय औरैया में अधिवक्ताओं और न्यायिक अधिकारियों में चले आ रहे गतिरोध को सोमवार को पटाक्षेप हो गया और अधिकारियों व अधिवक्ताओं में सामंजस्य स्थापित करते हुए एडीजे श्री राज बहादुर मौर्य एडीजे श्री अर्चना तिवारी सिविल जज सीनियर डिविजन श्री सौम्या गिरी एवं बार एसोसिएशन के अध्यक्ष श्री इंद्रपाल सिंह महामंत्री श्री राजू शुक्ला उर्फ दारा एवं पूर्व अध्यक्ष श्री सुरेंद्र नाथ शुक्ला के बीच आपस में वार्ता कराई गई और दोनों पक्ष एक दूसरे मैं सहमति जताते हुए आगे की कार्रवाई ना करने का भरोसा दिया और भविष्य में माननीय उच्च न्यायालय मैं कार्यवाही नहीं करेंगे और जो भी कार्यवाही दोनों पक्षों के बीच की गई है वह समाप्त करने के लिए डिस्ट्रिक्ट बार एसोसिएशन औरैया का प्रस्ताव व सिविल जज सीनियर डिवीजन औरैया का प्रार्थना पत्र संलग्न कर सामूहिक प्रस्ताव माननीय उच्च न्यायालय इलाहाबाद के समक्ष प्रेषित किया जाएगा यह निर्णय बार और बेंच के बीच सहमति से तय किया गया कि भविष्य में कोई भी कार्यवाही दोनों पक्ष नहीं करेंगे और जिला न्यायालय को सुचारू रूप से कार्य करने देंगे वही महामंत्री दारा शुक्ला ने बताया कि जिला बार एवं न्यायिक अधिकारियों के सामंजस्य से विवाद को पटाक्षेप कर दिया गया है अब न्यायालय सुचारू रूप से कार्य करेगी और हड़ताल को समाप्त कर दिया गया है इस मौके पर युवा अधिवक्ताओं ने जिला बार एसोसिएशन के पदाधिकारियों का धन्यवाद ज्ञापित किया और कहा कि न्याय और न्यायपालिका एक दूसरे के पहलू के 2 सिक्के हैं जो दोनों मिलकर न्याय दिलाने के लिए कार्य करते हैं वही जिला बार एसोसिएशन के मीडिया प्रभारी कमलेश कुमार एडवोकेट ने बताया कि अध्यक्ष एवं महामंत्री तथा वरिष्ठ अधिवक्ताओं एवं न्यायिक अधिकारियों के बीच समझौता हो गया है कि अब कोई भी पक्ष माननीय उच्च न्यायालय में कार्यवाही नहीं करेगा जो कार्यवाही की गई है वह मिलकर समाप्त कराई जाएगी मीडिया प्रभारी ने कहा कि जिला न्यायालय विधिवत कार्य करेगी और अधिवक्ताओं की हड़ताल पूर्णतया समाप्त हो गई है
[3/8, 7:53 PM] +91 89795 98969: *पुलिस कर्मी से अभद्र व्यवहार के दोषी को 3 वर्ष की कैद*

*औरैया।* विशेष न्यायाधीश (अनु. जाति एंव अनु. जन जाति) अधि. राजेश चैधरी ने आजीवन कारावास की सजा काट रहें एक कैदी जगदम्वा निवासी ग्राम निवादा थाना फफूंद को हवालात की ड़यूटी पर लगे पुलिस आरक्षी के साथ जाति सूचक गालियां देने व सरकारी कार्य में बाधा डालने के आरोप में तीन वर्ष के साधारण कारावास व छह हजार रूपये अर्थदण्ड से दण्डित किया हैं
अभियोजन अधिकारी देशराज सिंह के अनुसार दिनांक 06 जनवरी 2016 को पुलिस लाइन के मुख्य आरक्षी दाताराम की डयूटी हवालात के मुल्जिमों की सुरक्षा हेतु गाड़ी पर लाने व ले जाने में लगी थी । दोपहर 3ः30 बजे अभियुक्त जगदम्वा गैंगस्टर कोर्ट से पेश होकर आया तो अपने परिजनों से हवालात गेट पर सामान लेने लगा । पुलिस कर्मियो ने मना किया तो वह जाति सूचक गालियां देने लगा व कन्धे पर लटकी कारबाइन को छीनने की कोशिश करने लगा तथा लिपट गया। वमुश्कििल अन्य कर्मचारियों के छुडाने पर वह बचा । सरकारी कार्य में बाधा व जातिसूचक गालियां देने का यह मामला ए.डी.जे. राजेश चैधरी की कार्ट में चला । वचाव पक्ष ने कहा िकवह 70 वर्षीय वृह व्यक्ति है।तथा एक अन्य अपराध में आजीवन कारावास की सजा काट रहा है। उसकी पैरवी करने वाला कोई नहीं हैं। वहीं अभियोजन पक्ष की ओर से अभियोजन अधिकारी देशराज सिंह ने वादी मुकदमा जो कि लोक सेवक है,पर इस तरह के वर्ताव पर कठोर दण्ड देने की वहस की । देानो पक्षों के सुनने के बाद विशेष न्यायाधीश राजेश चैधरी ने आरोपी जगदम्वा को तीन वर्ष के साधारण कारावास व छह हजार रूपये अर्थदण्ड की सजा से दण्डित किया।
[3/8, 7:53 PM] +91 89795 98969: *शराब में मिलावट के 5 आरोंपियों की जमानत निरस्त*

*औरैया।* सत्र न्यायाधीश डाॅ. दीपक स्वरूप सक्सेना नें थाना फफूंँद क्षेत्र में देशी शराब ठेंका में छल करके पौवे से शराब निकालकर पानी मिलाकर नकली रैपर लगाकर विक्री करने के पांच आरोपितों की जमानत याचिका खारिज कर दी।
अभियोजन की ओर से पैरवी कर रहें जिला शासकीय अधिवक्ता अभिषेक मिश्रा ने वताया कि दिनांक 12 फरवरी 21 को आवकारी निरीक्षक की टीम ने बाबरपुर रोड करवा फफूंद में देशी शराब ठेका दुकान नम्बर दी पर छापा मारा तो पाया कि कुछ लोग एक बाल्टी में असली शराब को पलट कर पानी मिलाकर अलग -अलग पौवों में पेकिंग कर रहे थीं इस कार्य में लिप्त मैनेजर श्रवण कुमार जायजकाल निवासी मुडिया थाना नीमगांव (लखीमपुर खीरी) व दुकान के चार कर्मचारी अनूप जायसवाल , अमित कुमार गया। दिनांक 12 फरवरी से जेल में निरूह पांचो आरोपितों की जमानत याचिका सत्र न्यायालय में प्रस्तुत हुआ। दोनों पक्षकारों को सुनने के बाद सत्र न्यायाधीश डा० दीपक स्वरूप सक्सैना ने पांचों आरोपियों की जमानत याचिका खारिज कर दी।
[3/8, 7:53 PM] +91 89795 98969: *धोखाधड़ी के आरोपी संग्रह अमीन को सात वर्ष का कारावास*

*औरैया।* मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट जीवक कुमार सिंह ने थाना बिधूना क्षेत्र के संग्रह अमीन होरीलाल सविता को सरकारी अभिलेख अनाधिकृत रूप से अपनें पास रखने व उच्च न्यायालय में फर्जी कूटरचित दस्तावेज प्रस्तुत करने के आरोप में सात वर्ष के कठोर कारावास एंव पांच हजार रूपये अर्थदण्ड की सजा से दण्डित किया हैं।
अभियोजन की ओर से पैरवी कर रहें ए.पी.ओ. नागेन्द्र कुमार ने बताया कि थाना विधूना में 18 वर्ष पूर्व वादी ओंकारनाथ वर्मा ने रिपोर्ट लिखाई कि होरीलाल संग्रह अमीन पद पर तहसील बिधूना में कार्यरत थें। इनका स्थानातरण जिलाधिकारी के आदेश दिनांक 03 फरवरी 2003 के द्वारा तहसील बिधूना से तहसील औरैया के लिये हुआ था। जिस पर तहसीलदार बिधूना ने उक्त संग्रह अमीन को कार्ययुक्त कर दिया था। परन्तु उक्त संग्रह अमीन ने उस समय अपने पास उपलब्ध संग्रह संबन्धी तमाम अभिलेख आज तक तहसील कार्यालय में जमा नहीं किया। इसके अलावा उस पर उच्च न्यायालय में फर्जी कूटरचित दस्तावेज प्रस्तुत करने का भी आरोप है। आरोप पत्र के बाद यह मुकदमा मुख्य न्यायिक मजिस्टेªट जीवक कुमार सिंह की कोर्ट में चला । अभियोजन पक्ष की ओर से सहायक अभियोजन अधिकारी नागेन्द्र कुमार ने अभियुक्त को कठोर दण्ड देने की बहस की । वहीं वचाव पक्ष ने उसे निर्दाेष बताया । दोनों पक्षकारों को सुनने के बाद न्यायालय ने अभियुक्त होरीलाल सविता को धारा 409 का दोषी मानते हुए उसे सात वर्ष के कठोर कारावास एंव पांच हजार रूपयंे अर्थदण्ड से दण्डित किया । अर्थदण्ड अदा न करने पर उसे दो माह का अतिरिक्त कारावास भुगतना पडे़गा । अभियुक्त द्वारा इस मामले में जेल में वितायी गयी अवधि सजा की अवधि में समायोजित करने का भी आदेश दिया गया। अधिवक्ता शिवम शर्मा ने बताया कि कोर्ट ने धारा 420 के आरोप से होरीलाल को दोष मुक्त कर दिया।
[3/8, 8:10 PM] +91 89795 98969: *जिला बार अधिवक्ताओं न्यायिक अधिकारियों में बनी सहमति*

*उच्च न्यायालय में नहीं करेंगे पैरवी समझौते पर दोनों पक्ष राजी*

*औरैया।* जिला न्यायालय औरैया में अधिवक्ताओं और न्यायिक अधिकारियों में चले आ रहे गतिरोध को सोमवार को पटाक्षेप हो गया , और अधिकारियों व अधिवक्ताओं में सामंजस्य स्थापित करते हुए एडीजे श्री राज बहादुर मौर्य एडीजे श्री अर्चना तिवारी सिविल जज सीनियर डिविजन सौम्या गिरी एवं बार एसोसिएशन के अध्यक्ष इंद्रपाल सिंह महामंत्री राजू शुक्ला उर्फ दारा एवं पूर्व अध्यक्ष सुरेंद्र नाथ शुक्ला के बीच आपस में वार्ता कराई गई , और दोनों पक्ष एक दूसरे मैं सहमति जताते हुए आगे की कार्रवाई ना करने का भरोसा दिया , और भविष्य में माननीय उच्च न्यायालय में कार्यवाही नहीं करेंगे , और जो भी कार्यवाही दोनों पक्षों के बीच की गई है , वह समाप्त करने के लिए डिस्ट्रिक्ट बार एसोसिएशन औरैया का प्रस्ताव व सिविल जज सीनियर डिवीजन औरैया का प्रार्थना पत्र संलग्न कर सामूहिक प्रस्ताव माननीय उच्च न्यायालय इलाहाबाद के समक्ष प्रेषित किया जाएगा। यह निर्णय बार और बेंच के बीच सहमति से तय किया गया कि भविष्य में कोई भी कार्यवाही दोनों पक्ष नहीं करेंगे , और जिला न्यायालय को सुचारू रूप से कार्य करने देंगे। वही महामंत्री दारा शुक्ला ने बताया कि जिला बार एवं न्यायिक अधिकारियों के सामंजस्य से विवाद को पटाक्षेप कर दिया गया है। अब न्यायालय सुचारू रूप से कार्य करेगी , और हड़ताल को समाप्त कर दिया गया है। इस मौके पर युवा अधिवक्ताओं ने जिला बार एसोसिएशन के पदाधिकारियों का धन्यवाद ज्ञापित किया , और कहा कि न्याय और न्यायपालिका एक दूसरे के पहलू के 2 सिक्के हैं , जो दोनों मिलकर न्याय दिलाने के लिए कार्य करते हैं। वही जिला बार एसोसिएशन के मीडिया प्रभारी कमलेश कुमार एडवोकेट ने बताया कि अध्यक्ष एवं महामंत्री तथा वरिष्ठ अधिवक्ताओं एवं न्यायिक अधिकारियों के बीच समझौता हो गया है , कि अब कोई भी पक्ष माननीय उच्च न्यायालय में कार्यवाही नहीं करेगा जो कार्यवाही की गई है वह मिलकर समाप्त कराई जाएगी। मीडिया प्रभारी ने कहा कि जिला न्यायालय विधिवत कार्य करेगी , और अधिवक्ताओं की हड़ताल पूर्णतया समाप्त हो गई है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button