UncategorizedWorldउत्तर प्रदेशउत्तराखंडराज्यराष्ट्रीयस्थानीय खबरें

औरैया 24 फरवरी ब्रेकिंग न्यूज़ upaajtak से

[2/24, 7:05 PM] +91 89795 98969: *अधिवक्ताओं की तीसरे दिन भी रही कलम बंद हड़ताल*

*एडीएम की चेतावनी के बाद बैनामा लेखक वसीका नवीस वस्तो पर बैठे लेकिन एक भी रजिस्ट्री नहीं हुई*

*बिधूना , औरैया।* अधिवक्ता संघ बिधूना के आवाहन पर बिधूना तहसील में व्याप्त भ्रष्टाचार समेत विभिन्न मांगों को लेकर अधिवक्ताओं की चल रही कलम बंद हड़ताल बुधवार को तीसरे दिन भी जारी रही वही एडीएम द्वारा बैनामा लेखकों वसीका नवीसो के हड़ताल में शामिल होने के कारण लाइसेंस निरस्त करने की दी गई चेतावनी के बाद बैनामा लेखक वसीका नवीस हड़ताल से वापस तो लौट आए लेकिन बुधवार को तीसरे दिन भी एक भी बैनामा रजिस्ट्री नहीं हुई जिससे सरकार के राजस्व को भारी नुकसान पहुंचा है वही वकीलों की हड़ताल के चलते वाद कारी भी परेशान हो रहे हैं।
बिधूना तहसील कार्यालय में व्याप्त भ्रष्टाचार अविवादत विरासतें लंबे लंबे अरसे तक दर्ज न किए जाने फीडिंग में गड़बड़ियां होने समेत विभिन्न धांधली मामलों के विरोध में अधिवक्ता संघ बिधूना के आवाहन पर बिधूना तहसील के अधिवक्ताओं के साथ बैनामा लेखक व वसीका नवीस भी कलम बंद हड़ताल में शामिल हो गए थे। लेकिन अपर जिलाधिकारी औरैया रेखा एस चौहान के बैनामा लेखकों वसीका नवीसो को तत्काल काम पर वापस न लौटने पर उनके लाइसेंस रद्द करने की चेतावनी दिए जाने के बाद बुधवार को बैनामा लेखक व वसीका नवीस हड़ताल से वापस होकर बुधवार को अपने बस्तो पर तो बैठे , लेकिन एक भी बैनामा रजिस्ट्री नहीं हुई। अधिवक्ताओं की हड़ताल के चलते कामकाज के लिए तहसील आने वाले वादकारियों को भारी दिक्कतें उठानी पड़ रही है। कलम बंद हड़ताल के मौके पर अधिवक्ता संघ तहसील बिधूना के अध्यक्ष मुरारी लाल यादव , रामपाल सिंह चौहान , नवीन तिवारी , विजय अग्निहोत्री , सुधीर कुमार दीक्षित , सत्यभान सिंह शाक्य , शीलू शाक्य , कमल अवस्थी , राकेश यादव , अमरेंद्र सिंह सेंगर समेत सभी अधिवक्तागण मौजूद रहे।
[2/24, 7:05 PM] +91 89795 98969: *महिला का गला दबाकर घर से निकाला*

*औरैया।* कस्वा खानपुर निवासी रेशमा बानो ने कोतवाली पुलिस को दी तहरीर में बताया कि उसकी शादी 2017 में कस्वा खानपुर निवासी नवी आलम के साथ हुई थी। बताया कि शादी में उसके मायके वालों ने अपनी क्षमता के अनुसार दान दहेज दिया था। लेकिन उसके ससुरालीजन संतुष्ट नहीं थे। विवाहिता ने बताया कि शादी के कुछ महीनों बाद पति ने जबरन घर से निकाल दिया। यही नहीं उससे एक कागज पर जबरन हस्ताक्षर करा लिया। बताया कि इस पर उसके पिता जब ननद के घर पहुंचे तो वहां मौजूद ससुरालीजनों ने उसके पिता व रिश्तेदारों को जलील करते हुए मुझ पर चरित्रहीनता के आरोप लगाते हुए धमकी दी। इस बीच काफी समझाने का प्रयास किया गया , लेकिन वह नहीं माने। पीडि़ता ने बताया कि 21 फरवरी 2021 को सुबह जब उसने अपने पति को फोन कर बात करते हुए स्वयं व बच्चों के पहनने के लिए कपड़े मांगे तो पति ने कपड़े स्वयं ले जाने को कहा। इस पर वह 24 फरवरी को कपड़े लेने ससुराल आई। जहां मौजूद ससुरालीजनों ने गाली-गलौज कर मायके से एक सोने की चेंन व 2 लाख रुपये नगद लाने को कहा। जब उसने विरोध किया तो ससुरालीजनों ने जेबरात छीनकर उसका गला दबाकर जान से मारने का प्रयास किया। जब उसने शोर मचाया तो मोहल्ले के लोगों ने बचाया। मकसद में कामयाब न होने पर पति ने तीन तलाक देकर घर से निकाल दिया। इस संबंध में देवकली चौकी इंचार्ज सुधीर भारद्वाज ने बताया कि तहरीर मिली है। मामले की जांच की जा रही है। जांच रिपोर्ट के आधार पर मामला दर्ज किया जाएगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button