UncategorizedWorldउत्तर प्रदेशउत्तराखंडराज्यराष्ट्रीयस्थानीय खबरें

औरैया 20 फरवरी *एसपी से लगाई जान माल की सुरक्षा की गुहार*

औरैया 20 फरवरी *एसपी से लगाई जान माल की सुरक्षा की गुहार*

*फोटो परिचय अपने समर्थकों के साथ एसपी को शिकायती प्रार्थना पत्र देने जाती पीड़ित शिक्षामित्र*

*औरैया।* थाना अयाना क्षेत्र के ग्राम मानपुर निवासी एक महिला शिक्षामित्र ने शनिवार को अपने आधा दर्जन से अधिक समर्थकों के साथ मुख्यालय पहुंचकर एसपी को शिकायती प्रार्थना पत्र दिया है। जिसमें उसने अपने बड़े ससुर पर रंजिश मानने के चलते एक अन्य महिला से परेशान कराये जाने तथा थाना व एसपी को झूठे शिकायती पत्र दिए जाने का आरोप लगाया है। पीड़ित शिक्षामित्र ने जान माल की सुरक्षा के लिए गुहार लगाई है।
क्षेत्र के ग्राम मानपुर निवासी सरिता पत्नी अरविंद कुमार ने अपने समर्थकों द्वारा हस्ताक्षर युक्त शिकायती प्रार्थना पत्र पुलिस अधीक्षक अपर्णा गौतम को दिया है। जिसमें उसने कहा है कि उसके ससुर नवाब सिंह मानपुर छोड़कर सन 1975 में मानपुर छोड़कर उरई जनपद जालौन में रहने लगे है। प्रार्थिनी की रहने वाली जगह व खेती पर उसके ससुर के बड़े भाई खेती करते रहे तथा खाते पीते रहे। सन् 2006 में प्रार्थिनी की नियुक्ति शिक्षामित्र के पद पर गांँव में ही हो गई। जिस पर वह ग्राम मानपुर में ही रहने लगी , और अपने ससुर नवाब सिंह की खेती एवं मकान वाली जगह को बटा लिया। इसी बात को लेकर पीड़िता के ससुर के बड़े भाई भारत सिंह रंजिश मानने लगे। इसी के चलते वह उसे एवं उसके पति को भगाने की योजना बनाने लगे। इसी के चलते उन्होंने अपनी पुत्रवधू को आगे कर दिया। इसी के चलते उनकी पुत्रवधू छेड़खानी आदि से संबंधित झूठे शिकायती प्रार्थना पत्र कभी थाने में तो कभी पुलिस चौकी पर एवं पुलिस अधीक्षक को देने लगी। इसी के चलते पुलिस पीड़िता को एवं उसके पति को परेशान करती रहती है। उसके पति खेती आदि की भी रखवाली नहीं कर पा रहे हैं। पुलिस कभी घर पर आती है तो कभी स्कूल में आकर पूछताछ करती है। गत 19 फरवरी को चौकी इंचार्ज जांच करने को पहुंचे थे। जिस पर उन्होंने मामले को असत्य पाया। प्रार्थिनी कानून में विश्वास रखने वाली महिला है। उसका कहना है कि विपक्षीगण के संबंध चंदन गिरोह के लोगों से हैं। जिसके चलते वह कभी भी अप्रिय घटना घटित करवा सकते हैं। पीड़िता का कहना है कि उक्त मामले की जांच क्षेत्राधिकारी अजीतमल अथवा किसी अन्य थाने से कराई जाए , और इस मामले में जो दोषी पाया जाए उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए। इसके अलावा उसने जान माल की सुरक्षा किए जाने की भी गुहार लगाई है। प्रार्थना पत्र में हस्ताक्षर करने वालों में प्रमुख रूप से विक्रम सिंह , सुभाष चंद्र , देवेंद्र कुमार , बृज बिहारी , शिवनाथ सिंह , राम बहादुर , शिव कुमार व महताब सिंह समेत अन्य लोग शामिल रहे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button