उत्तर प्रदेशउत्तराखंडराज्यस्थानीय खबरें

गोण्डा 16 फरवरी*यूपीआजतक न्यूज़ से गोण्डा की खास खबरे

[16/02, 3:36 PM] +91 88586 08720: लखनऊ – लिपिक,सहायक के 1424 पदों पर भर्ती के लिए जारी विज्ञापन रद्द,बाल विकास पुष्टाहार विभाग में भर्ती के लिए जारी हुआ था विज्ञापन,यूपी CCC ने 2006,2009 में निकाला था विज्ञापन, आवेदक 15 फरवरी से अगले 60 दिन तक ले सकेंगे अपना शुल्क, भर्तियों के लिए नए सिरे से जारी होगा विज्ञापन।
[16/02, 3:36 PM] +91 88586 08720: लखनऊ – विधानमंडल के बजट सत्र के लिए सर्वदलीय बैठक कल, सीएम योगी की मौजूदगी में होगी सर्वदलीय बैठक, कार्यमंत्रणा समिति की बैठक भी की जाएगी, इस बार पेपरलेस होगा बजट सत्र।
[16/02, 4:04 PM] +91 88586 08720: गोण्डा-दिनांकः 16.02.2021

👉 **उ0प्र0 भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड द्वारा निर्माण श्रमिकों के विकास एवं उज्जवल भविष्य के लिए संचालित योजनाओं से किया जा रहा है लाभान्वित- उपश्रमायुक्त रचना केसरवानी**

उपश्रामायुक्त देवीपाटन मण्डल रचना केसरवानी ने बताया है कि मजदूरी से अपनी आजीविका चला रहे श्रमिकों के लिए सरकार द्वारा तमाम कल्याणकारी योजनाएं संचालित की जा रही हंै। श्रमिकांे द्वारा किये जा रहें कार्यो में रिस्क भी होता है। कभी-कभी कार्य के दौरान उनकी मृत्यु भी हो जाती हैं या वे अपंग हो जाते है। श्रमिकों एवं उनके परिवार को सामाजिक सुरक्षा, आर्थिक एवं शैक्षिक विकास, खुशहाली एवं उज्जवल भविष्य के लिए प्रदेश सरकार के उ0प्र0 भवन एवं अन्य सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड द्वारा कल्याणकारी योजनायें संचालित की जा रही है जिसका पंजीकृत श्रमिक लाभ उठाते हुए अपना विकास कर रहें है।
बोर्ड द्वारा संचालित योजनाओं का लाभ लेने के लिए सभी प्रकार के निर्माण श्रमिक जिनकी आयु 18 से 60 वर्ष के बीच है पंजीकरण करा सकते है। पंजीकरण के लिए उन्हें पिछले 12 माह में कम से कम 90 दिनों तक निर्माण कार्य करने का नियोजन प्रमाणपत्र या स्वघोषणा उपलब्ध कराना होगा, साथ ही 01फोटो, आधार कार्ड, बैंक पासबुक की कापी लगाकर जनसुविधा केंद्र से बोर्ड के पोर्टल के माध्यम से आँनलाइन पंजियन करा सकते हैं या स्थानीय श्रम कार्यालय के माध्यम से पंजीकरण कराया जा सकता है। प्रदेश में विभिन्न निर्माण कार्यो के लिए श्रमिक कार्यरत है जिनमें भवन निर्माण, बेल्ंिडग, बढ़ई, कुंआ खोदने, छप्पर डालने, राजमिस्त्री, प्लम्बरिंग, सड़क बनाने, मिक्सर चलाने, पुताई, बिजली मिस्त्री, खनिकर्म करने वाले, ईट निर्माण, टाइल्स मार्बल लगाने वाले, निर्माण स्थलों की चैकीदारी करने वाले, मिट्टी के कार्य व चूना बनाने वाले सहित अन्य निर्माण कार्यो में लगे श्रमिक पंजीकरण के पात्र होते है।
उ0प्र0 भवन एवं सन्निर्माण कर्मकार कल्याण बोर्ड द्वारा संचालित योजनाओं में कामगार मृत्यु, विकलांगता सहायता एवं अक्षमता योजना प्रमुख है जिसके अन्तर्गत दुर्घटना से मृत्यु होने पर 5 लाख रूपये, सामान्य मृत्यु पर 2 लाख रूपये, स्थाई अपंगता पर 3 लाख रूपये, आंशिक अपंगता पर 2 लाख रूपये की आर्थिक सहायता दी जा रही है। यदि किसी निर्माण श्रमिक का पंजीकरण नही हुआ हो और कार्यस्थल पर दुर्घटना में मृत्यु हो जाय तो उसके परिवार को 50 हजार रूपये की आर्थिक सहायता दी जाती है। स्थाई अपंगता पर रू0 1000 से 1500 तक प्रतिमाह आजीवन अक्षमता पेंशन दी जाती है। पंजीकृत श्रमिक की मृत्यु पर अन्त्येष्टि हेतु रूपये 25 हजार की आर्थिक सहायता दी जाती है। पंजीकृत विवाहित निर्माण श्रमिक को प्रतिवर्ष रू0 3000, व अविवाहित श्रमिक को रू0 2000 चिकित्सा सुविधा भी दी जाती है। श्रमिकों एवं उनके आश्रितों को गम्भीर बीमारी होने पर आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना, मुख्यमंत्री जन आरोग्य योजनान्तर्गत सम्बंधित अस्पताल से इलाज कराने की व्यवस्था की गई है।
निर्माण श्रमिक के 60 वर्ष पूर्ण होने एवं तत्समय पूर्ववर्ती 10 वर्ष तक लगातार अंशदान जमा करने पर महात्मा गांधी पेंशन योजनान्तर्गत 1000 रूपये की आजीवन मासिक पेंशन दिये जाने का प्रावधान है। पंजीकृत निर्माण श्रमिक के आवासहीन होने अथवा अधिकतम दो कच्चे कमरे वाले अपनी जमीन पर मकान बनाने या क्रय करने हेतु वार्षिक दो किश्तों में एक लाख रूपये की आवास सहायता दी जाती हैं निजी मकान के मरम्मत हेतु 15 हजार रूपये की एकमुश्त धनराशि दिया जाता है। श्रमिकों को उनके स्वयं के आवास पर शौचालय निर्माण हेतु 12 हजार रूपये दो किश्तों में दिया जाता है। श्रमिकों की दो पुत्रियों के विवाह हेतु रूपये 55 हजार एवं अन्र्तजातीय विवाह हेतु रूपये 61 प्रति विवाह, सामूहिक विवाह की स्थिति में रूपये 65 हजार का कन्या विवाह सहायता योजनान्तर्गत अनुदान दिया जाता है। श्रमिकों या उनके पुत्र पुत्रियों के व्यावसायिक प्रशिक्षण भी कौशल विकास तकनीकी उन्नयन एवं प्रमाणन योजनान्तर्गत दिलाया जाता है।
पंजीकृत महिला श्रमिक के संस्थागत प्रसव पर निर्धारित तीन माह के न्यूनतम वेतन के समतुल्य धनराशि एवं रूपये 1000 का चिकित्सा बोनस मातृत्व, शिशु एवं बालिका मद्द योजनान्तर्गत दिया जाता है। इस योजनान्तर्गत पंजीकृत पुरूष कामगार को एकमुश्त 6000 रूपये दिया जाता है। अधिकतम दो नवजात शिशुओं के पोषण हेतु लड़के के जन्म पर रूपये 20 हजार एवं लड़की के जन्म पर रू0 25 हजार प्रतिशिशु की दर से दिये जानेे का प्राविधान है। लड़की होने पर 25 हजार रूपये सावधि जमा कराया जाता हैं जो पुत्री के 18 वर्ष की होने पर देय होता है। संत रविदास शिक्षा सहायता योजनान्तर्गत पंजीकृत निर्माण श्रमिकों के 25 वर्ष तक के अधिकतम दो बच्चों के कक्षा एक से उच्चतर शिक्षा हेतु न्यूनतम रू0 150 से रू0 12 हजार रूपये तक मासिक विभिन्न दरो से छात्रवृत्रि देने का प्रावधान है। साथ ही 10 वीं 12 वीं पास पुत्र पुत्रियोंको साइकिल भी प्राप्तहोती है। श्रमिकों के मेधावी छात्र छात्राओं को प्राप्तांक के आधार पर कक्षा 5 से लेकर उच्चशिक्षा हेतु रू0 4 हजार से रूपये 22 हजार तक की वार्षिक छात्रवृत्रि दिये जाने की भी योजना है। प्रदेश सरकार पंजीकृत श्रमिकों के विकास एवं सामाजिक सुरक्षा के लिए हर तरह की सहायता देते हुए उनका आर्थिक उन्नयन कर रही है।
[16/02, 4:04 PM] +91 88586 08720: गोण्डा-दिनांकः 16.02.2021

👉 *डीएम मार्कण्डेय शाही ने वरिष्ठ सहायक के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराने के दिए आदेश*

डीएम मार्कण्डेय शाही ने सीएमओ आँफिस के वरिष्ठ सहायक नरेन्द्र कुमार मिश्रा द्वारा चार्ज हस्तान्तरित न करने पर एफ़आईआर दर्ज कराने के आदेश दिए हैं।
बताते चलें कि जिला अस्पताल में सीएमओ के अधीन कार्यरत वरिष्ठ सहायक नरेन्द्र कुमार मिश्रा जो कि पूर्व में दिव्यांग पटल का कार्य देख रहे थे, के पटल का चार्ज कनिष्ठ सहायक राजकुमार को दिया गया था, परन्तु वरिष्ठ सहायक नरेन्द्र कुमार मिश्रा द्वारा पटल का चार्ज हस्तान्तरित न करने से दिव्यांगजनों को दिव्यांग प्रमाण पत्र व यूआईडी कार्ड जारी नहीं किया जा सका। सीएमओ द्वारा प्रकरण को डीएम के संज्ञान में लाया गया जिस पर डीएम मार्कण्डेय शाही ने वरिष्ठ सहायक नरेन्द्र कुमार मिश्रा के विरूद्ध दिव्यांगों का अधिकार व हित प्रभावित करने की धारा में एफ़आईआर दर्ज कराने के आदेश सीएमओ को दिए हैं। इसके साथ ही इस पटल के अभिलेखों के चार्ज हस्तांतरण की कार्यवाही सम्पादित करने हेतु नायब तहसीलदार मजिस्ट्रेट सदर इवेन्द्र कुमार को नामित कर दिया है।
[16/02, 4:04 PM] +91 88586 08720: गोण्डा-दिनांकः 16.02.2021

👉 **धूमधाम से मनाया गया महाराजा सुहेलदेव जयन्ती समारोह**

जनपद में महाराजा सुहेलदेव जयन्ती समारोह धूमधाम से मनाया गया। इस अवसर पर जनपद में विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। जनपद स्तर पर मुख्य कार्यक्रम जिला कारागार के लाहिड़ी उद्यान में आयोजित हुआ जहां पर डीएम मार्कण्डेय शाही, एसपी शैलेश कुमार पाण्डेय, मुख्य विकास अधिकारी शशांक त्रिपाठी तथा सिटी मजिस्ट्रेट वन्दना त्रिवेदी ने जिला कारागार में अमर शहीद राजेन्द्र नाथ लाहिड़ी जी की प्रतिमा पर माल्याार्पण किया तथा माॅ सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण व दीप प्रज्ज्वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। इस अवसर पर जीजीआईसी की छात्राओं द्वारा सांस्तिक कार्यक्रम प्रस्तुत किये गये।
मुख्य कार्यक्रम जनपद बहराइच में महाराजा सुहेलदेव के भव्य स्मारक व चित्तौरा झील की विकास योजना तथा महाराज सुहेलदेव स्वाशासी राज्य चिकित्सा बहराइच के लोकार्पण का मा0 प्रधानमंत्री द्वारा वर्चुवल शिलान्यास कार्यक्रम के साथ शुरू हुआ।
इस अवसर पर डीएम मार्कण्डेय शाही ने कहा कि भारत वर्ष के इतिहास मंे मध्यकाल की ग्यारहवीं शती में उत्तर प्रदेश के बहराइच में महाराजा सुहेलदेव एक प्रतापी राजा हुये थे, जिन्होंने विदेशी आक्रांताओं से भारतीय संस्कृति एवं विरासत की रक्षा की थी। महाराजा सुहेलदेव जी का शौर्य एवं पराक्रम वर्तमान पीढ़ी के लिए एक गौरवशाली उदाहरण है। विदेशी आक्रांताओं से मुकाबला करने के लिए 21 राज्यों का संगठन बनाकर कुशल रणनीतिकार के रूप में विशिष्ट युद्ध कला के माध्यम से उन्हांेने विजय प्राप्त की थी। विश्व के इतिहास में एक महत्वपूर्ण संगठनकर्ता के रूप में महाराजा सुहेलदेव का यह कार्य सभी के लिए प्रेरणास्रोत है।
सांसद कैसरगंज के प्रतिनिधि संजीव सिंह ने कहा कि महाराजा सुहेलदेव ने देश की राजनीतिक व सांस्कृतिक सुरक्षा के साथ-साथ जल संरक्षण, गो-संरक्षण एवं जन कल्याण के अनेक कार्य कराये, जिससे आमजन को अत्यन्त लाभ हुआ। उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार द्वारा ऐसे देशभक्त को सम्मानित करने का कार्य किया जा रहा है। वर्तमान सरकार का नारा है सबका साथ सबका विकास सबका विश्वास। आज महाराज सुहेलदेव की जयन्ती के अवसर पर प्रदेश के समस्त जनपदों में महाराजा सुहेलदेव की जयन्ती मनायी जा रही है।
सांसद गोण्डा के प्रतिनिधि रमाश्ंाकर मिश्रा ने कहा कि देश की अखण्डता को अक्षुण्य रखने के लिए अपने प्राणों की आहुति देने वाले अमर शहीदों का सम्मान कर प्रदेश व केन्द्र सरकार कार्यक्रमों का आयोजन करा रही है। इससे हम अपने देश के इतिहास व संस्कृति से अवगत हो सकेगें और समाज को एक सूत्र में बांधने में कामयाब हो सकेंगें।
महाराजा सुहेलदेव जयन्ती के अवसर पर जनपद के महत्वपूर्ण शहीद स्थलों एवं शहीद स्मारकों पर भव्य कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इन आयोजन स्थलों पर गरिमापूर्ण ढंग से एन0एस0एस0, एन0सी0सी0, सिविल डिफेन्स, स्काउट गाइड, समाजसेवी, स्वयंसेवी संस्थाओं आदि के वालेण्टियर्स, गणमान्य नागरिक एकत्रित हुये। कार्यक्रम का संचालन रघुनाथ पाण्डेय द्वारा किया गया।
समारोह आयोजन के अवसर पर बीएसए डा0 इन्द्रजीत प्रजापति, पीडी सेवाराम चाौधरी, डीसी मनरेगा हरिश्चन्द्र प्रजापति, जिला समन्वयक राजेश सिंह, डीपीएम रितेश सिंह राठौर सहित अन्य अधिकारी तथा जनप्रतिनिधिगण उपस्थित रहे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button