World

रायबरेली 09 फरवरी*यूपीआजतक न्यूज़ से रायबरेली की ख़बर

[09/02, 5:25 PM] +91 73097 21104: ग्राम प्रधान और पंचायत अधिकारी सरकार को बदनाम करने की रच रहे साजिश

महराजगंज/रायबरेली: विकासखंड क्षेत्र के पिपरतलिया मजरे दौतरा गांव में ग्राम पंचायत अधिकारी और प्रधान की मिली भगत के चलते पात्र व्यक्ति आवास पाने से वंचित है, तो वहीं पक्के मकान में अपात्र लोगों को आवाज देकर प्रदेश की योगी सरकार व केंद्र की मोदी सरकार को बदनाम करने का काम ग्राम पंचायत अधिकारी आदित्य कुमार कर रहे हैं। पीड़ित पात्र व्यक्ति ने उप जिलाधिकारी व खंड विकास अधिकारी की चौखट पर जाकर शिकायती पत्र देकर जांच कर आवास दिलाए जाने की बात कही है।
आपको बता दें कि, उप जिलाधिकारी महराजगंज को दिए गए शिकायती पत्र में महराजगंज विकासखंड के पिपरतलिया गांव निवासी कल्लू पुत्र रामचरण ने दिए गए शिकायती पत्र में कहा है कि, उनकी पत्नी चंद्रकला के नाम से पात्रता सूची में आवाज था, जिसमें फेरबदल कर ग्राम पंचायत अधिकारी आदित्य कुमार ने उनका नाम काटकर अपात्र लोगों को आवास दे दिया गया है। जिसके चलते उनका परिवार एक छप्पर के नीचे रहने को मजबूर है। जबकि प्रार्थी एक गरीब व असहाय व्यक्ति है, तथा किसी तरह जीवन यापन कर परिवार का भरण पोषण करता है।
आश्चर्य इस बात का है कि, दौतरा ग्राम सभा में भगवान दीन नाम के व्यक्ति को आवास दिया गया, जो लगभग 20 सालों से गांव में निवास नहीं करता है।
ग्राम पंचायत मंत्री ने गांव के मोहित ने दौतरा निवासी ब्रजभान पुत्री जनार्दन के विवाह को 15 वर्ष बीत चुके हैं, तथा बृजभान के पिता के नाम 8 बीघे जमीन भी है, और दो मंजिला पक्का मकान है। आखिर ऐसे में आवास कैसे दिया गया। जबकि पात्र बेटी कल्लू पुत्र रामचरण पात्रता सूची में पात्र भी हैं, ऐसे में अपात्रों को आवास देना और पात्रों को आवास से वंचित रखना यह साबित करता है कि, ग्राम पंचायत अधिकारी प्रदेश व केंद्र की भाजपा सरकार को बदनाम करने का काम कर रहे हैं।
[09/02, 6:22 PM] +91 73097 21104: श्रम विभाग की विभिन्न योजनाओं में पंजीकरण के नाम पर हो रही अवैध वसूली

महराजगंज/रायबरेली: अतरेहटा गांव में एक नटवरलाल द्वारा सरकारी योजनाओं में पंजीकरण करके श्रम विभाग की विभिन्न योजनाओं का पंजियन करने के नाम पर अवैध रूप से वसूली करने की शिकायत मिली है। मामले की सूचना युवा सपा नेता और अतरेहटा गांव के प्रधान प्रतिनिधि अभिषेक यादव ने पत्रकारों को दी है।
आपको बता दें कि, मीडिया के सामने यहां जारी बयान में श्री यादव ने आरोप लगाया है कि, गांव का रहने वाला उमेश गुप्ता पुत्र सुंदर लाल गुप्ता ने अपने घर पर श्रम विभाग की विभिन्न योजनाओं जिसमें पैसा दिलाना, साइकिल बांटना आदि स्कीमों का उल्लेख कर के लोगों को लाभ दिलाने के लिए नाम पंजीकरण कर शासन को भेजने का दावा करते हुए भोले-भाले ग्रामीणों से 50 से लेकर ₹100 ऐठ रहा है, तथा लोगों से आधार कार्ड की छाया प्रति और फोटो भी एकत्र कर रहा है। जबकि उन्होंने इस बारे में संबंधित विभागीय कर्मियों से जानकारी की, तो पता चला कि, किसी भी व्यक्ति को विभाग द्वारा इस तरह के कार्य करने के लिए अधिकृत नहीं किया गया है।
युवा नेता श्री यादव ने उप जिलाधिकारी और क्षेत्राधिकारी से मामले की छानबीन कर इस व्यक्ति के विरुद्ध कड़ी कार्यवाही करते हुए जिन लोगों को ठगकर इसने पैसा वसूला है। उनको पैसा वापस कराया जाए।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button