World

गोण्डा 06 फरवरी*यूपीआजतक न्यूज़ से गोण्डा की खास खबर

[06/02, 5:33 PM] Pradip Pandey Gonda: *सूचना विभाग गोंडा*

06.02.2021, 17

▶️👉 *डीपीआरओ सहित 16 सहायक विकास अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस जारी, डीएम ने की कार्यवाही*

डीएम मार्कंडेय शाही ने ई डिस्ट्रिक्ट पोर्टल पर लंबित जन्म प्रमाण पत्र, मृत्यु प्रमाण पत्र तथा कुटुंब रजिस्टर की नकल समय से ना जारी करने वाले सभी 16 विकास खंडों के सहायक विकास अधिकारी तथा जिला पंचायत राज अधिकारी गोंडा को कारण बताओ नोटिस जारी कर जवाब तलब किया है, साथ ही 3 दिन में निस्तारण ना हो जाने पर विभागीय कार्यवाही की चेतावनी दी है।
जिलाधिकारी ने बताया कि जनपद में महीनों से जन्म प्रमाण पत्र के 747, मृत्यु प्रमाण पत्र के 434 तथा कुटुंब रजिस्टर की नकल के 98 आवेदन सहित 1279 आवेदन सहायक विकास अधिकारियों के स्तर पर लंबित है। निर्देश के बावजूद अधिकारियों द्वारा आवेदनों का निस्तारण नहीं किया गया। जिलाधिकारी ने लंबित आवेदनों का संज्ञान लेते हुए सभी विकास खंडो के सहायक विकास अधिकारियों व शिथिल पर्यवेक्षण पर डीपीआरओ को कारण बताओ नोटिस जारी किया है, इसके साथ ही 3 दिन में निस्तारण ना हो जाने की दशा में विभागीय कार्रवाई शुरू करने की चेतावनी दी है।
बताते चलें कि जन्म प्रमाण पत्र, मृत्यु प्रमाण पत्र तथा कुटुंब रजिस्टर के विकासखंड छपिया में 257, रूपईडीह में 219, मनकापुर में 163, झंझरी में 121, बभनजोत में 118, कर्नलगंज में 84, वजीरगंज में 65, हलधरमऊ में 43, बेलसर में 37, मुजेहना में 32, इटियाथोक में 29, पंडरी कृपाल में 27, परसपुर में 16, नवाबगंज में 12 तथा कटरा बाजार बाजार में 07 आवेदन सहित 1279 आवेदन लंबित हैं।
[06/02, 5:33 PM] Pradip Pandey Gonda: *सूचना विभाग गोण्डा*
ई-मेलः ddiogonda@gmail.com

गोण्डा-दिनांकः 06.02.2021 26

▶️👉 *तहसील व ब्लाक मुख्यालय पर न ठहरने वाले अधिकारियों- कर्मचारियों को डीएम की चेतावनी, गायब मिले तो निश्चित होगी कार्यवाही*

▶️👉 *जनपद स्तरीय अधिकारियों को डीएम ने जारी किए निर्देश*

डीएम मार्कण्डेय शाही ने सभी जनपद स्तरीय अधिकारियों, उपजिलाधिकारियों एवं खण्ड विकास अधिकारियों को सख्ती हिदायत दी है कि वे अपने अधीन तहसील व ब्लाक स्तरीय कर्मचारियों को उनके तैनाती वाले मुख्यालय पर आवासित कराना सुनिश्चित करें तथा आदेश का अनुपालन न करने वाले अधिकारियों-कर्मचारियों के विरूद्ध एक्शन लें।
जिलाधिकारी ने बताया कि  सबडिवीजन व विकासखण्ड स्तरीय कार्यालयों का निरीक्षण कराने पर यह तथ्य प्रकाश में आया है कि कई कार्यालयों में तैनात अधिकारी व कर्मचारीगण अपनी तैनाती के मुख्यालय पर आवासित न रहकर अन्य स्थानों से आवागमन करते हैं जबकि शासन के स्पष्ट निर्देश हैं कि सभी अधिकारी एवं कर्मचारी अपनी तैनाती के मुख्यालय पर आवासित रहकर राजकीय कार्य सम्पादित करेंगे और यदि अवकाश पर अथवा अन्य किसी प्रयोजनवश मुख्यालय से बाहर जाना आवश्यक हो तो इस निमित्त सक्षम प्राधिकारी से स्टेशनलीव प्राप्त करना अनिवार्य होगा। परन्तु निरीक्षण में पाई गयी स्थिति से यह आभास मिलता है कि सबडिवीजन मुख्यालय एवं विकासखण्ड मुख्यालय पर संचालित अधिकांश शासकीय कार्यालयों में इन निर्देशों का सम्यक् रूप से अनुपालन नहीं किया जा रहा है।
जिलाधिकारी ने गहरी नाराजगी व्यक्त करते हुए समस्त जनपद स्तरीय अधिकारियों कार्यालयाध्यक्षों को निर्देशित किया है कि उनके अधीनस्थ जो भी कार्यालय तहसील एवं विकासखण्ड मुख्यालय पर संचालित हैं, उनमें कार्यरत अधिकारियों व कर्मचारियों को तैनाती के मुख्यालय पर आवासित कराना सुनिश्चित करें। साथ ही साथ इस आशय का प्रमाणपत्र प्राप्त करें कि वह अपनी तैनाती के मुख्यालय पर आवासित हैं। जिलाधिककारी ने सभी जनपद स्तरीय अधिकारियों से इस बावत अनुपालन आख्या एक सप्ताह में प्रस्तुत करने के निर्देश दिए हैं।
जिलाधिकारी ने स्पष्ट चेतावनी दी है कि आगामी दिनों में यदि स्वयं उनके व अन्य वरिष्ठ अधिकारियों द्वारा तहसील तथा विकासखण्ड स्तरीय कार्यालयों के निरीक्षण एवं वहां तैनात कर्मचारियों के आवासित होने की स्थिति के सत्यापन में यदि अन्यथा स्थिति पाई जाती है तो न केवल अनधिकृत रूप से अनुपस्थित, मुख्यालय से पलायित रहने वाले अधिकारी व कर्मचारियों के विरूद्ध कार्यवाही की जाएगी, बल्कि उनके जनपद स्तरीय नियंत्रक अधिकारियों का भी उत्तरदायित्व निर्धारित करते हुए कार्यवाही की जाएगीं ।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button