July 25, 2021

UPAAJTAK

TEZ KHABAR

रायबरेली 19 जुलाई *डोर स्टेप डिलीवरी परबैन तानाशाह ठेकेदार का काला कानून खाद्यान्न उठान पर हावी*

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

रायबरेली 19 जुलाई *डोर स्टेप डिलीवरी परबैन तानाशाह ठेकेदार का काला कानून खाद्यान्न उठान पर हावी*

*खाद्यान्न उठान की गाइडलाइन का उड़ाया जा रहा है मजाक*

महराजगंज रायबरेली
जहां एक तरफ केंद्र व प्रदेश की भाजपा सरकार कोरोना जैसी महामारी के इस दौर में गरीबों के हित में अनेक जन कल्याणकारी योजना चलाकर गरीब और निर्धन परिवार को निशुल्क रोजी रोटी का इंतजाम कर रही है तो वही दूसरी ओर महराजगंज कस्बे के चंदापुर रोड पर उत्तर प्रदेश राज्य खाद एवं आवश्यक वस्तु निगम के गोदाम पर डोर स्टेप डिलीवरी के ठेकेदार रमेश मौर्या के चंद्र दलालों के सहारे सरकार द्वारा चलाई जा रही डोर स्टेप डिलीवरी मजाक बनकर रह गई है तथा सरकार द्वारा गरीबों के खाद्यान्न को कोटेदार के घर तक पहुंचाने की योजना अभी भी महराजगंज में कोसों दूर है बताते चलें कि शासन द्वारा यह तय किया गया है कि डोर स्टेप डिलीवरी के माध्यम से राशन निवारण उत्तरदायित्व हवा हवाई तथा भाड़े की व्यवस्था शासन द्वारा ठेकेदार रमेश मौर्या को उपलब्ध कराई जाती है लेकिन अपनी खाऊ कमाऊ नीति के चलते ठेकेदार रमेश मौर्य के चंद् दलाल गोदाम पर मौजूद तो रहते हैं लेकिन शासन की डोर स्टेप डिलीवरी का मजाक भी लगातार उड़ा रहे तथा गोदाम पर बुलाकर भी कोटेदारों को राशन वितरित किया जा रहा है जबकि शासन द्वारा लिखा पढ़ी में यह निर्देश दिए गए हैं कि यदि कोटेदार का राशन 10 किलोमीटर की परिधि में आता है तो ₹15 प्रति कुंटल तथा 10 किलोमीटर से अधिक दूरी होती है तो ₹18 प्रति कुंटल का भाड़ा दिया जाए लेकिन शासन के आदेशों को दरकिनार करते हुए ठेकेदार रमेश मौर्या द्वारा प्रत्येक कोटेदारों को थोड़ा बहुत भाडा दे कर ही समझा दिया जाता है जिससे कोटेदार हैरान व परेशान हैं विदित हो कि ठेकेदार रमेश मौर्य विगत कई वर्षों से आवश्यक वस्तु व खाद्य निगम में ठेकेदारी का कार्य करते हैं जिसके चलते उनके हौसले बुलंद हैं और सरकार की मंशा को पलीता लगा रहे हैं यदि जल्द ही इस पर उच्चाधिकारियों ने ध्यान न दिया तो क्षेत्र के कोटेदार सहित आम जनमानस जिला अधिकारी कार्यालय पर जाकर धरना प्रदर्शन करने को बाध्य होगा जिसकी संपूर्ण जिम्मेदारी खाद विभाग के उच्चाधिकारियों की होगी मामले में नवागत डीएसओ विमल कुमार शुक्ला ने दूरभाष पर बताया कि शिकायत मिली है जांच कराकर दोषी ठेकेदार पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी

इनसेट: पूर्व में विगत कई वर्षों से रायबरेली जिले में डीएसओ के पद पर तैनात रहे कमल नयन सिंह व ठेकेदार रमेश मौर्य की नजदीकी चलते ठेकेदार रमेश मौर्य कोटेदारों को डोर स्टेप डिलीवरी के माध्यम से दिए जाने वाले धन को ना देकर डीएसओ की दुहाई देकर धन हड़पने का कार्य करता था लेकिन अब देखना यह होगा कि पूर्व तैनात डीएसओ कमलनयन सिंह के स्थानांतरण के बाद नवागत डीएसओ के कार्यभार ग्रहण करने पर ठेकेदार रमेश मौर्या की तानाशाह कार्यप्रणाली बदलती है या फिर उसी तरह चर्चा में बने रहेंगे

You may have missed