July 7, 2022

UPAAJTAK

TEZ KHABAR

रायबरेली 05 जून*अज्ञात चोरों ने दिया चोरी की वारदात को अंजाम, गहने व नकदी पर किया हाथ साफ, पुलिस पीट रही लकीर

रायबरेली 05 जून*अज्ञात चोरों ने दिया चोरी की वारदात को अंजाम, गहने व नकदी पर किया हाथ साफ, पुलिस पीट रही लकीर

महराजगंज/रायबरेली: यूपी के रायबरेली में महराजगंज कोतवाली क्षेत्र के एक गांव में बेखौफ चोरों ने दो घरों को निशाना बनाते हुए बीती रात चोरी की घटना को अंजाम दिया। आए दिन क्षेत्र में बढ़ रही चोरी की वारदातों ने पुलिस की गश्त पर सवालिया निशान लगा दिया है।
आपको बता दें कि, रायबरेली जिले की महराजगंज कोतवाली क्षेत्र में अपराधिक घटनाओं का आतंक लगातार जारी है। कोतवाल रेखा सिंह क्षेत्र में बढ़ रही आपराधिक घटनाओं पर अंकुश लगाने में नाकाम साबित हो रही है। आज हुई क्षेत्र के नारायणपुर मजरे मोन गांव के दो घरों में चोरी की वारदातों ने पुलिस की गश्त पर सवालिया निशान लगा दिया है। मिली ताजा जानकारी के मुताबिक बीती रात महराजगंज कोतवाली क्षेत्र के नारायणपुर गांव में दो सगे भाइयों मनोज सिंह व राकेश सिंह पुत्रगण पृथ्वीपाल सिंह के घरों को निशाना बनाते हुए चोरी की घटना को अंजाम देकर नगदी सहित लाखों के जेवरातों 6 जोड़ी बिछिया, 200 ग्राम के पायल चांदी, 500 ग्राम के पाजेब चांदी, 2 जोड़ी सोने की झुमकी, ढाई सौ ग्राम कमर की पेटी चांदी, 16 सिक्के चांदी, दो कान की बाली सोने तथा एक नाक की कील सोने की पार कर दिया।
बताते हैं कि, 3 जून 2021 को पीड़ित मनोज सिंह व राकेश सिंह के चाचा राजकुमार सिंह जोकि, महराजगंज इन्हौना मार्ग पर रानी के पुरवा में रहते हैं। उनके लड़के की शादी 3 जून 2021 को थी। पूरा परिवार यही शादी समारोह में आया हुआ था। नारायणपुर गांव स्थित घर में ताला लगा हुआ था। 4 जून 2021 दिन शुक्रवार को बारात विदा होकर रानी के पुरवा लौटी, मनोज सिंह व राकेश सिंह का पूरा परिवार बीती रात भी यही था, आज सुबह जब परिवार के सदस्य नारायणपुर स्थित घर पहुंचे, तो देखा वहां पर अज्ञात चोरों द्वारा ताला तोड़कर चोरी की घटना को अंजाम दिया गया, और सामान घर में चारों तरफ बिखरा पड़ा था, तथा कुछ दूर गांव के बाहर एक बाग में भी कपड़ों सहित कुछ सामान बिखरा हुआ मिला।
पीड़ित के चाचा राजकुमार सिंह ने बताया कि, बंद घर का ताला तोड़कर लाखों रुपए के जेवरात घर में रखी नगदी उठा ले गए हैं। शनिवार की सुबह जब मनोज कुमार और राकेश कुमार घर वापस लौटे, तो देखा की अंदर अलमारी और बक्सों में रखा सामान बिखरा पड़ा हुआ था। घटना की सूचना महराजगंज कोतवाली पुलिस को दे दी गई है।
उधर सूचना मिलते ही कोतवाल रेखा सिंह मय फोर्स के नारायणपुर गांव घटनास्थल पर पहुंच कर पीड़ित परिवार और आसपास के लोगों से घटना के संबंध में जानकारी हासिल कर रही हैं, साथ ही घटना के संबंध में गहनता से पड़ताल भी कर रही हैं। मामले में कोतवाली पुलिस का कहना है कि, इस वारदात को अंजाम देने वालों की गर्दन पर जल्द ही पुलिस शिकंजा कसेगी। अपराधी चाहे जितने शातिर हो, वह पुलिस की पकड़ से ज्यादा दिन दूर नहीं रह पाएंगे। पुलिस मामले का जल्द ही खुलासा करेगी।

इनसेट…….
अपराध नियंत्रण में महराजगंज पुलिस हुई फेल: थाना क्षेत्र में अनेक अपराधिक घटनाओं में पुलिस खुलासा करना तो दूर की बात, अपराधियों तक को पकड़ने में नाकाम साबित रही है। ऐसे में लोगों का महराजगंज पुलिस से भरोसा उठता जा रहा है। क्षेत्र में घट रहे अनेक मामलों में पुलिस केवल लकीर ही पीट रही है, जबकि अपराधी घटनाओं को अंजाम देने के बाद मौज काट रहे हैं। ऐसे हालात में पुलिस पर घटनाओं के खुलासे और अपराधियों को पकड़ने का दबाव बना हुआ है। चौतरफा दबाव के बाद भी महराजगंज पुलिस एक भी मामले का खुलासा नहीं कर पाई है। कई मामलों में तो कोतवाल रेखा सिंह पर अपराधियों को बचाने का आरोप भी लग चुका है। चाहे वह बलात्कार के मामले रहे हैं, या फिर चुनावी रंजिश को लेकर मारपीट का मामला रहा हो, अथवा जमीनी विवाद का ही मामला क्यों ना रहा हो?
बात यही नहीं खत्म होती है, महराजगंज थाने का रेखा सिंह ने जब से कोतवाल पद का कार्यभार संभाला है, तब से कोतवाली क्षेत्र में हो रहे अपराध तथा दर्ज हो रही एफ आई आर को भी छुपाया जा रहा है। पत्रकारों तक को दर्ज f.i.r. की जानकारी नहीं दी जा रही है। पत्रकार अगर कोतवाल रेखा सिंह से क्राइम के संबंध में जानकारी हासिल करना चाहता है, तो उसे रायबरेली मीडिया सेल प्रभारी अमरनाथ यादव का फोन नंबर दे दिया जाता है, और कहा जाता है कि, महराजगंज थाने से क्राइम की डिटेल रायबरेली भेज दी जाती है। आप वहां से ले लीजिए। जब पत्रकार रायबरेली क्राइम सेल के प्रभारी अमरनाथ यादव को फोन करता है, तो वहां से जवाब मिलता है कि, जनपद के 18 थाने संभालता हूं, और अट्ठारह सौ पत्रकारों को जानकारी कैसे दे सकता हूं, अर्थात असमर्थ हूं। अब ऐसी स्थिति में पत्रकारों को भी ऊपर जवाब देना पड़ता है?
अब सवाल यह उठता है क्या? कोतवाल रेखा सिंह क्राइम छुपा कर जनपद के मुखिया एसपी श्लोक कुमार की नजरों में भली बनी रहना चाहती हैं, या फिर झूठ का स्वांग रचकर आंखों में धूल झोंक रही है।
सच्चाई कड़वी होती है: (जो रायबरेली जनपद की कोतवाली महराजगंज में कभी नहीं हुआ, वह अब हो रहा है)।