July 1, 2022

UPAAJTAK

TEZ KHABAR

राजगढ़17जून*वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से एडीएम कोर्ट में हुई पेशी*

राजगढ़17जून*वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से एडीएम कोर्ट में हुई पेशी*
*राजगढ़।* *ठाकुर हरपाल सिंह परमार* कोरोना संक्रमण के चलते जहाँ न्यायलयों में प्रकरण लंबित चल रहे है। वही दूसरी तरफ कलेक्ट्रेट कार्यालय में एक ऐसा मामला देखने को मिला, जहाँ पहली बार एडीएम कोर्ट में लंबित प्रकरण में पेशी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से अपर कलेक्टर कमल चन्द्र नागर ने सुनवाई की है।
*बॉक्स*
*वी.सी. के माध्यम से की सुनवाई*
कलेक्ट्रेट कार्यालय में पहली बार वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से किसी राजस्व न्यायालय में पेशी की गई। अपर कलेक्टर कमल चन्द्र नागर ने एडीएम कोर्ट में पेशी पर सुनवाई की। गौरतलब है कि प्रदेश का राजगढ़ जिला संभवतः पहला ऐसा जिला है, जहां एडीएम कोर्ट/राजस्व न्यायालय में वी.सी. के माध्यम से प्रकरण में सुनवाई की गई।
*क्या है मामला*
खाद सुरक्षा अधिकारी द्वारा पूर्व में खिलचीपुर नगर में संचालित दुग्ध डेयरी से दुग्ध के नमूने की जांच कर रामबाबू दांगी के विरुद्ध प्रकरण पंजीबद्ध किया गया था।
उक्त मामला लगभग 6 महिने से अधिक अवधि से लंबित चल रहा था। पक्षकार कोरोना के दृष्टिगत उपस्थित नही हो पा रहे थे। अतः अपर कलेक्टर ने उक्त पक्षों से बात कर वी.सी. के माध्यम से पेशी का निर्णय लिया गया। उपरोक्त एडीएम न्यायालय में वी.सी. के माध्यम से पेशी कर सुनवाई की। इसी प्रकार एक और प्रकरण भी एडीएम द्वारा वी.सी. से सुनवाई कर प्रकरण में कार्यवाही की गई।
*बाॅक्स*
*वी.सी. से पेशी के औचित्य/लाभ*
– प्रकरण लंबित नही रहेंगे।
– पक्षकारों को सुविधा हुई।
– पक्षकारों के समय और धन की बचत हुई।
– त्वरित न्याय मिल सकेगा।
*वर्जन-*
– राज्य शासन और कलेक्टर महोदय के निर्देश है कि ई-गवर्नेस को बढ़ावा दिया जाए तथा 6 माह से अधिक समय से लंबित प्रकरणों का शीघ्र निराकरण किया जाए। इसी के दृष्टिगत वीसी के माध्यम से पेशी की गई। इससे ई-गवर्नेंस को भी बढ़ावा मिलेगा, साथ ही अधिक से लंबित प्रकरणों का शीघ्र निराकरण भी हो सकेगा।
*कमल चंद्र नागर*
*अपर कलेक्टर, राजगढ़*

You may have missed