July 5, 2022

UPAAJTAK

TEZ KHABAR

ब्रेकिंग मुंबई 05 जून 21**यह लोकतंत्र, भारतीय संविधान और राष्ट्रीय ध्वज संहिता का उल्लंघन है*

*यह लोकतंत्र, भारतीय संविधान और राष्ट्रीय ध्वज संहिता का उल्लंघन है*

(रिपाई डेमोक्रॅटिक ने सरकार के खिलाफ देशद्रोह की मांग)

 

मुंबई: दि (संवाददाता) रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया (डेमोक्रॅटिक) पार्टी प्रमुख कनिष्क कांबले ने कहा है कि 6 जून को भगवा झंडा फहराकर शिवस्वराज्य दिवस मनाना लोकतंत्र, भारतीय संविधान और राष्ट्रीय ध्वज संहिता का उल्लंघन है और सरकार पर देशद्रोह का आरोप लगाया जाना चाहिए।

 

 

कनिष्क कांबले ने आगे कहा कि बिना इतिहास देखे भारतीय संविधान का पालन करते हुए शासन चलाया जाना चाहिए और ठाकरे सरकार को संवैधानिक सीमाओं का उल्लंघन नहीं करना चाहिए। राजनीतिक आतंकवादी की भूमिका से हटना चाहिए।

नहीं तो रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया डेमोक्रेटिक नये जीआर के खिलाफ कोर्ट का दरवाजा खटखटाएगी।

 

 

यह देश विभिन्न धर्मों और संस्कृतियों से भरा हुआ है। यदि भविष्य में कोई और विचार की सरकार आती है तो हरा, नीला, पीला या अलग-अलग रंग का झंडा लहराने का कार्य निंदनीय है। ऐसें भी कनिष्क कांबले ने कहा।

 

 

छत्रपति शिवाजी महाराज राज्य के आराध्य देवता हैं, उनका सम्मान हर भारतीय को करना ही होगा, हालाँकि: हम एक लोकतांत्रिक देश में रहते हैं। इसलिए कनिष्क कांबले को उम्मीद है कि राष्ट्रीय ध्वज संहिता का अपमान किए बिना संवैधानिक तरीके से शिवस्वराज्य दिवस मनाया जाना चाहिए।

 

 

सभी सरकारी कार्यालयों पर केवल भारतीय तिरंगा झंडा फहराया जाना चाहिए। यदि धार्मिक ध्वज फहराया जाता है, तो यह भविष्य में सांप्रदायिक संघर्ष को जन्म दे सकता है, देश की एकता और अखंडता को तोड़ सकता है और राष्ट्रीय एकता को कमजोर कर सकता है।

हम, रिपब्लिकन, पार्टी की भूमिका के बारे में कटिबद्ध हैं कि राष्ट्रीय ध्वज संहिता के अनुपालन में भगवा ध्वज के बजाय सरकारी कार्यालय में तिरंगा झंडा फहराया जाना चाहिए। येह बात पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव डॉ. राजन माकणीकर ने कही।

You may have missed