July 5, 2022

UPAAJTAK

TEZ KHABAR

ब्रेकिंग बांदा 13 जून संडे फटाफट* यूपी आजतक से खास खबरें

[6/13, 4:45 PM] Madan Gupta Banda: गलौली का पीपे का पुल हुआ क्षतिग्रस्त,कभी भी हो सकता है कोई बड़ा हादसा

 

बांदा ब्यूरो।बाँदा जनपद के जसपुरा व पैलानी क्षेत्र के लोगो को फतेहपुर,कानपुर,लखनऊ जैसे बड़े नगरों को जोड़ने के लिए जसपुरा थाना क्षेत्र के गलौली गांव में बह रही यमुना नदी के ऊपर कई वर्ष पहले तत्कालीन सरकार द्वारा पीपे का पुल बनवाया गया था।जो कि इस क्षेत्र के लोगो को जल्दी व सुगमता पूर्वक पड़ोसी जिले फतेहपुर तथा कानपुर,लखनऊ आदि महानगरों में जाने के लिए उत्तम रास्ता था।लेकिन कुछ वर्षों से ओवरलोड ईट,बालू तथा लकड़ी से भरे टेक्ट्रर निकलने की वजह से पूरी रोड व पीपे का पुल पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गया है।पीपे का पुल तो इतना क्षतिग्रस्त हो गया है कि कभी भी कोई बड़ा हादसा हो सकता है,लेकिन प्रशासन की तरफ से इस ओर कोई ध्यान नही दिया जा रहा है।इससे तो यही लगता है कि प्रशासन को भी इंतजार है किसी बड़े हादसे का हैं।

 

यूपी आज तक बांदा ब्यूरो मदन गुप्ता कि रिपोर्ट

[6/13, 4:47 PM] Madan Gupta Banda: जसपुरा कस्बे में 11 हजार बिजली की लाइन का खम्भा व तार टूटकर गिरा,एक बड़ा हादसा होते होते बचा

 

बांदा ब्यूरो।पैलानी तहसील क्षेत्र के जसपुरा कस्बे के थाने के पास के मोहल्ले में रविवार की दोपहर को अचानक से बिजली का खम्भा व तार टूटकर गिर गए,गनीमत रही कि उस समय बिजली नही थी नही तो एक बड़ा हादसा हो जाता।मोहल्ले के रहने वाले अखिलेश गुप्ता ने बताया कि उनके मोहल्ले में लगभग 20 घर बने हुए हैं जिनके घरों के ऊपर से 11 हजार की विधुत लाइन निकली हुई हैं।जो कई बार लाइन के तार टूट कर गिर भी चुके हैं।एक बार तो मोहल्ले के ही कल्लू की भैस के ऊपर तार गिरने से उसकी मौत हो गई थी।बिजली विभाग के कर्मचारियों व अधिकारियों को कई बार अवगत भी करा चुके हैं लेकिन किसी ने भी इस ओर ध्यान नहीं दिया है।अभिलेश ने बताया कि आज जब अचानक से खम्भा टूटा था उसके थोड़ी देर पहले बिजली चली गई थी।यदि बिजली होती तो कई जाने भी जा सकती थी,उस समय अच्छा ही हुआ कि बिजली नही थी।मोहल्ले के रहने वाले लोगो ने कहा की यदि 11 हजार विधुत की लाइन को यहाँ से हटाया नही गया तो वे लोग मजबूरी बश चक्का जाम करने के लिए विवश हो जायेगे,जिसकी पूरी जिम्मेदारी बिजली विभाग की ही होगी।

 

 

यूपी आज तक बांदा ब्यूरो मदन गुप्ता की रिपोर्ट