July 5, 2022

UPAAJTAK

TEZ KHABAR

बहराइच 05 जून*यूपी आजतक न्यूज़ से प्रदेश की खास खबरे

[05/06, 12:06 AM] Anil Vishwakarma Saharanpur: *मोस्ट वांटेड की लिस्ट में शामिल हुए फरार एसपी मणिलाल पाटीदार, तलाश जारी*

महोबा के पूर्व एसपी और फरार आईपीएस मणिलाल पाटीदार अब जोन के मोस्ट वांटेड की सूची में शामिल हो गए। एडीजी प्रयागराज जोन की संस्तुति पर शुक्रवार को शासन की ओर से पाटीदार पर एक लाख का इनाम घोषित किए जाने से संबंधित आदेश जारी कर दिया गया। उनकी तलाश में जोन की जोन की तीन समेत पांच टीमें लगी हैं जिनमें एसटीएफ की भी दो टीमें शामिल हैं।

बात प्रयागराज जोन की करें तो मणिलाल पाटीदार से पहलेे यहां एक लाख या इससे ज्यादा के इनामियों में तीन ही नाम शामिल थे। इनमें चित्रकूट का कुख्यात दस्यु गौरी यादव उर्फउदयभान यादव के अलावा प्रतापगढ़ जनपद के सभापति यादव व सुभाष यादव निवासी आसपुर देवसरा शामिल हैं। सभापति व सुभाष पर 1.5 लाख का इनाम घोषित है। जोन का एक और बड़ा इनामी माफिया अतीक अहमद का बेटा उमर है जिस पर एक लाख का इनाम घोषित है। अब इस मोस्ट वांटेड की सूची में पूर्व एसपी मणिलाल पाटीदार का भी नाम जुड़ गया है।

एडीजी जोन प्रयागराज प्रेमप्रकाश ने बताया कि पूर्व एसपी पर दर्ज मामले की जांच कर रही एसआईटी के विवेचक आशुतोष मिश्र की ओर से पत्र लिखकर इनाम बढ़ाए जाने का अनुरोध किया गया था। संबंधित अधिकारियों की ओर से संस्तुति किए जाने के बाद उन्होंने इनामी राशि एक लाख रुपये किए जाने की संस्तुति की थी। जिस पर शुक्रवार को आदेश जारी कर दिया गया। उधर एसआईटी के विवेचक व प्रयागराज के एसपी क्राइम आशुतोष मिश्र ने बताया कि एसटीएफ की दो टीमों के साथ कुल पांच टीमें फरार आईपीएस की तलाश में लगी हैं। यह टीमें राजस्थाना के डूंगरपुर जनपद के सरौंदा थाना सगवाड़ा स्थित उनके मूल निवास के अलावा हर संभावित ठिकानों पर तलाश में लगी हैं।

गौरतलब है कि महोबा के क्रशर कारोबारी इंद्रकांत त्रिपाठी की वीडियो वायरल के बाद हुई संदिग्ध मौत की घटना से तत्कालीन एसपी पाटीदार विवादों में आ गए थे। मृतक के परिवारीजनों ने एसपी पर हत्या कराने का आरोप लगाते हुए एफआईआर दर्ज कराई थी। हालांकि एसआईटी की जांच में मणिलाल को भ्रष्टाचार में लिप्त होने और इंद्रकांत को आत्महत्या के लिए मजबूर किए जाने का दोषी बताया गया। फिलहाल निलंबित होने और मुकदमा दर्ज होने के बाद से ही वह फरार हैं। वह वर्ष 2014 बैच के आईपीएस हैं।

*संदिग्ध परिस्थितियों में लगी थी गोली*

दरअसल, क्रशर कारोबारी इंद्रकांत त्रिपाठी को पिछले साल आठ सितंबर को संदिग्ध परिस्थितियों में गोली लगी थी। करीब पांच दिन तक कानपुर के एक अस्पताल में इलाज के बाद उनकी 13 सितंबर को मौत हो गई। इससे पूर्व सात सितंबर को इंद्रकांत ने एक वीडियो जारी कर तत्कालीन एसपी मणिलाल पाटीदार पर संगीन आरोप लगाते हुए खुद की हत्या की आशंका जताई थी। आरोप लगाया था कि पाटीदार ने कारोबार करने के लिए छह लाख रुपए की रिश्वत मांगी थी। न देने पर हत्या कराने या जेल भेजने की धमकी दी थी। इंद्रकांत की मौत के बाद उनके भाई विकांत ने महोबा के पूर्व एसपी मणिलाल पाटीदार, कबरई थाने के तत्कालीन इंस्पेक्टर देवेंद्र व कांस्टेबल अरुण और दो अन्य के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई थी।
[05/06, 10:03 AM] Anil Vishwakarma Saharanpur: *पूर्वांचल के माफिया व पूर्व विधायक अभय सिंह का गठजोड़ उजागर कर गया सुरेन्द्र कालिया*

बाहुबली विधायक मुख्तार अंसारी के गुर्गो और पूर्व विधायक अभय सिंह ने अजीत सिंह हत्याकाण्ड से करीब छह महीने पहले अपने विरोधी जौनपुर के पूर्व सांसद धनंजय सिंह को फंसाने के लिये सुरेन्द्र कालिया पर नाटकीय फायरिंग करायी। पर,यह दांव फेल हो गया। पुष्पराज, मो. तारिक फिर बजरंगी की हत्या से लगातार मात खाने वाला यह गिरोह तमतमा गया।
इस बीच ही मुख्तार के करीबी अजीत की हत्या कर दी गई। इस पर यह गिरोह चुप बैठा हुआ था। पर, सुरेन्द्र कालिया ने दो दिन ही रिमाण्ड पर पुलिस अफसरों के सामने ऐसे ही कई राज खोल दिये जिससे इस गिरोह के कई गुर्गें पुलिस की रडार पर आ गये हैं। पुलिस की दो टीमें इनकी कुण्डली खंगाल कर कई साक्ष्य जुटाने में लग गई है।

*सुरेन्द्र कालिया को माफियाओं व सफेदपोशों की शह रही*

पिछले साल 13 जुलाई 2020 को सुरेन्द्र कालिया ने आलमबाग में अजंता अस्पताल के पास खुद पर हमला कराया था। पहले दिन ही यह घटना संदेह के दायरे में आ गई थी। पड़ताल में कालिया के खिलाफ सुबूत मिलने लगे तो वह फरार हो गया। कोलकाता में नाटकीय गिरफ्तारी के बाद कमिश्नरेट पुलिस काफी मशक्कत के बाद उसे लखनऊ जेल ला सकी। एक जून को रिमाण्ड पर आया तो उसने ऐसे राज खोले की अफसर भी हैरान रह गये। फिर उससे डीसीपी सोमेन वर्मा, एडीसीपी चिंरजीव सिन्हा, एसीपी विक्रम सिंह ने कई घंटे पूछताछ की। उसे दो जून की रात एसटीएफ दफ्तर भी ले जाया गया जहां घटना के समय आलमबाग और कृष्णानगर में एसीपी रहे दो अफसरों ने कई साक्ष्यों को दिखाकर पूछताछ की। इसके बाद सुरेन्द्र ने कुबूला कि अयोध्या से पूर्व सपा विधायक अभय सिंह के कहने पर ही उसने यह सब किया।

*मददगारों की फौज रही*

अजीत हत्याकाण्ड के शूटरों की जिस तरह से कदम-कदम पर मदद होती रही, उसी तरह सुरेन्द्र के एफआईआर दर्ज कराने के बाद कई मददगार हर कदम पर उसके साथ रहे। सुरेन्द्र पर जब शक बढ़ने लगा था तो मुख्तार गिरोह के ही एक शख्स ने उसे वहां से हटवा दिया। फिर पुलिस को बताया कि सुरेन्द्र कोरोना संक्रमित हो गये। लिहाजा सुरेन्द्र को 14 दिन का समय मिल गया और इसके बाद वह न घर पर मिला और न शहर में। इसके बाद ही पूर्व विधायक का एक रिश्तेदार उसे कोलकाता तक पहुंचाया आया। कोलकाता में मुख्तार के बेहद करीबी के कहने पर ही एक फ्लैट में रुकने का इंतजाम हुआ। फिर उसकी अवैध पिस्टल के साथ गिरफ्तारी हो गई।

*तहरीर लिखकर अभय सिंह को व्हाटसएप की*

सुरेन्द्र ने अफसरों को बयान दिया कि घटना के बाद उसे तहरीर देने में देरी हुई थी। उसने बताया कि तहरीर लिखने के बाद एक दूसरे के मोबाइल नम्बर से अभय को व्हाटसएप की गई। अभय के कहने पर ही इस तहरीर में कुछ बदलाव हुआ, फिर मुकदमा दर्ज कराया। इस मामले में दो शूटर अभी भी फरार चल रहे हैं। डीसीपी सोमेन वर्मा ने बताया कि सुरेन्द्र अपराधी है लिहाजा उसके बयान की हर बिन्दु से जांच कराने के बाद ही आगे की कार्रवाई की जायेगी।
[05/06, 10:32 AM] +91 91619 16128: *IAS 2010 शम्भू कुमार DM बहराइच को विशेष सचिव माध्यमिक शिक्षा बनाया गया*
[05/06, 10:32 AM] +91 91619 16128: *IAS 2011 अमित कुमार सिंह DM कौशाम्बी को विशेष सचिव नगर विकास बनाया गया एवं संयुक्त प्रबंध निदेशक जल निगम का अतिरिक्त प्रभार*
[05/06, 10:32 AM] +91 91619 16128: *IAS 2012 दिनेश चंद्र विशेष सचिव संस्कृति को DM बहराइच बनाया गया*
[05/06, 10:32 AM] +91 91619 16128: *कोरोना काल में सरकार की फ़ज़ीहत कराने वाले IAS 2009 भानु चंद्र गोस्वामी DM प्रयागराज हटाकर साइड लाइन किए गए UP ग्रामीण सड़क अभियंत्रण का CEO बनाया गया*
[05/06, 10:32 AM] +91 91619 16128: *IAS 2010 सुजीत कुमार CEO UP ग्रामीण सड़क अभियंत्रण को कौशाम्बी का DM बनाया गया*
[05/06, 10:32 AM] +91 91619 16128: *IAS 2010 संजय कुमार खत्री संयुक्त प्रबंध निदेशक जल निगम को से DM प्रयागराज बनाया गया*
[05/06, 11:38 AM] Ramesh Kumar Gupta Bahraich: ब्रेकिंग न्यूज़ बहराइच

बहराइच के डीएम का हुआ तबादला,, बनाये गए विशेष सचिव माध्यमिक शिक्षा,, विशेष सचिव संस्कृति रहे दिनेश चंद्र बने बहराइच के नए जिलाधिकारी

You may have missed