July 25, 2021

UPAAJTAK

TEZ KHABAR

गोण्डा20जून*यूपीआजतक न्यूज़ से आज की प्रमुख खबरे

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

[20/06, 1:54 PM] +91 88586 08720: *कोविड-19 प्रबंधन हेतु गठित टीम-09 को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के दिशा-निर्देश*

● 25 करोड़ की आबादी वाले प्रदेश में महामारी पर नियंत्रण, बेहतर टीमवर्क का परिणाम है। लगातार नियोजित कोशिशों से अब ज्यादातर जिलों में संक्रमण के नए मामले नहीं मिल रहे, तो कई जिलों में नए केस इकाई में आ रहे हैं। 74 जिलों में 200 से कम एक्टिव केस ही हैं। 55 जिले ऐसे हैं, जहां कुल एक्टिव केस दहाई में शेष हैं। प्रदेश की टेस्ट पॉजिटिविटी दर लगातार एक फीसदी से कम बनी हुई है। विगत दिवस पॉजिटिविटी दर 0.2 फीसदी रही। 32.4% प्रति पॉजिटिव केस टेस्ट की दर प्रदेश में एग्रेसिव ट्रेसिंग का प्रमाण है। उत्तर प्रदेश ने यह साबित करके दिखाया है कि कोरोना महामारी हो या कोई भी चुनौती, अगर सामूहिकता की भावना के साथ हर कोई अपनी जिम्मेदारियों का निर्वहन करेगा तो सकारात्मक परिणाम आने में देर नहीं लगेगी।

● राज्य स्तरीय स्वास्थ्य विशेषज्ञ परामर्श समिति ने कोरोना की तीसरी लहर के संबंध में अध्ययन रिपोर्ट तैयार की है। विशेषज्ञों के आकलन और अनुशंसाओं को दृष्टिगत रखते हुए सभी जिलों में आवश्यक तैयारियां की जाएं। तीसरी लहर की आशंका के दृष्टिगत सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए सभी कदम उठाए जाएं।

● सभी मेडिकल कॉलेजों में पीडियाट्रिक आईसीयू और नियोनेटल आईसीयू की स्थापना की जा रही है। विगत दिवस 100 बेड और बढ़े हैं। इस कार्य को तेज किया जाए। प्रत्येक मेडिकल कॉलेजों में न्यूनतम 100 बेड बढाने की कार्यवाही हो रही है। जिला अस्पतालों और सीएचसी को भी इसी तर्ज पर सुविधायुक्त किया जा रहा है। पीकू/नीकू स्थापना की यह कार्यवाही इसी माह पूर्ण कर ली जाए। चिकित्सा शिक्षा मंत्री इस संबंध में निरीक्षण कर अगले दो दिवस के भीतर अपनी आकलन रिपोर्ट प्रस्तुत करेंगे।

● विगत 24 घंटे में 02 लाख 63 हजार 769 सैम्पल टेस्ट हुए, जबकि 251 नए केस आए और 561 लोग स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हुए। वर्तमान में प्रदेश में कुल 4,569 संक्रमित मरीजों का इलाज हो रहा है। जबकि रिकवरी दर 98.4 फीसदी हो गई है। प्रदेश में अब तक 05 करोड़ 52 लाख 64 हजार 533 कोविड टेस्ट हुए हैं।

● कोविड संक्रमण से बचाव के लिए प्रदेशवासियों को टीका-कवर प्रदान करने की प्रक्रिया और तेज करने की आवश्यकता है। अब तक 02 करोड़ 56 लाख से अधिक वैक्सीन डोज दी जा चुकी है। 40 लाख 23 हजार से अधिक लोगों ने वैक्सीन के दोनों डोज प्राप्त कर लिए हैं। 18-44 आयु वर्ग के युवाओं को 56 लाख 81 हजार 42 टीका लगाया जा चुका है, इनमें भी 01 लाख 47 हजार युवाओं ने वैक्सीन की दोनों डोज ले ली है।

● कल 21 जून से कोविड टीकाकरण का नया चरण प्रारंभ हो रहा है। आदरणीय प्रधानमंत्री जी द्वारा 18 वर्ष की आयु से अधिक के सभी नागरिकों के लिए 21 जून से राज्य सरकारों को निःशुल्क टीका उपलब्ध कराया जा रहा है। प्रधानमंत्री जी के इस निर्णय से टीकाकरण अभियान को और गति मिलेगी। हमें इस सुअवसर का लाभ लेते हुए पूरी क्षमता के साथ टीकाकरण अभियान संचालित करना होगा।हर दिन 06 लाख लोगों को टीका-कवर देने के लक्ष्य के साथ तैयारी की जाए। जबकि 01 जुलाई से प्रतिदिन 10 से 12 लाख लोगों को वैक्सीनेट किया जाए। वैक्सीनेशन सेंटर और वैक्सीनेटर की संख्या बढ़ाएं। नर्सिंग अंतिम वर्ष के प्रशिक्षुओं को वैक्सीनेटर के रूप में तैयार कियस जाए।

● बेहतर होती स्थितियों के बीच सोमवार से कोरोना कर्फ्यू में छूट बढ़ाई जा रही है। इस संबंध में शासन द्वारा तय गाइडलाइन का सभी जिलों में कड़ाई से अनुपालन कराया जाए। पुलिस बल की सतर्कता बढाने की आवश्यकता है। कहीं भी अनावश्यक भीड़ न हो। कोविड विहैवियर को अपनाने के लिए आवश्यक जागरूकता प्रसार किया जाए।

● कोरोना काल की विषम परिस्थितियों के बावजूद भी इस वर्ष गेहूं खरीद में रिकॉर्ड बना है। अब तक 55.93 लाख मीट्रिक टन गेहूं खरीद हो चुकी है, जबकि 89 फीसदी किसानों को भुगतान भी हो चुका है। शेष भुगतान यथाशीघ्र करा दिया जाए।
[20/06, 1:54 PM] +91 88586 08720: लखनऊ…

7वां अंतरराष्ट्रीय योग दिवस कल पूरे ऊ.प में डिजिटल प्लेटफॉर्म के माध्यम से मनाया जाएगा। प्रदेश के आयुष मंत्री डॉक्टर धर्म सिंह सैनी ने कहा, “कोरोना की जटिलताओं के कारण इस साल भी 21 जून यानि कल मनाया जाने वाला अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस डिजिटल प्लेटफॉर्म पर आयोजित होगा।
[20/06, 4:12 PM] +91 88586 08720: *सूचना विभा*ग गोंडा*
20.06.2021

▶️👉 *पीएचसी व एएनएम सेन्टरों की अक्रियाशीलता को लेकर डीएम सख्त**

▶️👉 **डीएम ने चार अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारियों की लगाई ड्यूटी, व्हाट्सएप ग्रुप से होगी मॉनिटरिंग व समीक्षा**

डीएम मार्कण्डेय शाही ने क्षेत्र भ्रमण के दौरान कई ए.एन.एम. सेन्टर तथा प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों की अक्रियाशील स्थिति को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों की जिम्मेदारी तय करते हुए सख्त निर्देश दिए हैं।
जिलाधिकारी श्री शाही ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्र में अवस्थित स्वास्थ्य इकाइयों को क्रियाशील स्थिति में रखा जाना आवश्यक है, ताकि क्षेत्रीय लोगों को सुगमतापूर्वक स्वास्थ्य सेवाएं सुलभ हो सकें। इसके लिए जनपद अंतर्गत अवस्थित समस्त स्वास्थ्य इकाइयों सीएचसी, पीएचसी एवं एएनएम सेंटर पर उपलब्ध आधारभूत सुविधाओं, तैनात कार्मिकों की स्थिति तथा इन इकाइयों की क्रियाशीलता के विषय में भौतिक सत्यापन के लिए अधिकारियों की ड्यूटी लगा दी है, जिसमें अपर मुख्य चिकित्साधिकारी डा0 अजय प्रताप सिंह, डॉक्टर मलिक आलमगीर, डा0 अनिल कुमार राय व डा0 जय गोविन्द सिंह पूर्व से आवंटित सीएचसी तथा उनके अंतर्गत अवस्थित समस्त पीएचसी का निरीक्षण करेंगे तथा निरीक्षण के दौरान सम्बन्धित सीएचसी अधीक्षक व पीएचसी के प्रभारी चिकित्साधिकारी, निरीक्षणकर्ता अधिकारी (एसीएमओ) के साथ उपस्थित रहेंगे। उनके द्वारा निरीक्षण करते हुए अधीक्षक/प्रभारी चिकित्साधिकारी व अन्य स्टाफ के साथ सेल्फी लेकर वाट्सएप ग्रुप पर पोस्ट की जाएगी। साथ ही साथ तैनात कार्मिकों का नाम व पदनाम का विवरण भी केन्द्रवार प्राप्त किया जाएगा। समस्त सीएचसी अधीक्षक द्वारा अपनी सीएचसी अन्तर्गत अवस्थित सभी पीएचसी तथा एएनएम सेन्टर का भ्रमण/निरीक्षण किया जाएगा और सेल्फी लेकर गु्रप पर शेयर करेंगे तथा कार्मिकों का विवरण भी भेजेगें।
डीएम श्री शाही ने स्वास्थ्य अधिकारियों द्वारा सीएचसी, पीएचसी तथा एएनएम सेन्टरों के निरीक्षण की मॉनिटरिंग हेतु ई-डिस्ट्रिक्ट मैनेजर अमित गुप्ता को जिम्मेदारी दी है जिनके द्वारा निरीक्षण से सम्बन्धित फोटो संकलन हेतु एक वाट्सएप ग्रुप बनाया जाएगा जिसमें मुख्य चिकित्सा अधिकारी, समस्त अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी, अधीक्षक सीएचसी एवं प्रभारी चिकित्साधिकारी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र सम्मिलित किए जाएंगे। जिलाधिकारी ने यह भी निर्देश दिए है कि सत्यापन की कार्यवाही आगामी 25 जून तक संपादित कर ली जाए तथा 26 जून को डीएम द्वारा सायंकालीन बैठक में केन्द्रवार स्थिति की समीक्षा की जाएगी, जिसमें समस्त अपर मुख्य चिकित्साधिकारी अपने दायित्व के क्षेत्र से सम्बन्धित पूरी रिपोर्ट के साथ उपस्थित रहेंगे। उन्होंने कहा कि ई-डिस्ट्रिक्ट मैनेजर द्वारा वाट्सएप ग्रुप पर प्राप्त सूचना विकासखण्ड, सीएचसीवार संकलित कर बैठक के पूर्व प्रस्तुत की जाएगी। रिपोर्ट में यह दर्शाया जाय कि कुल कितनी स्वास्थ्य इकाइयों का निरीक्षण किया गया है और उनमें कौन-कौन सी इकाइयां बन्द अथवा अक्रियाशील स्थिति में है। इनकी विकासखण्ड/सीएचसीवार सूची भी रिपोर्ट के साथ उपलब्ध करायी जाए। उन्होंने चेतावनी दी है कि इसमें किसी भी प्रकार की शिथिलता क्षम्य न होगी।

You may have missed