July 4, 2022

UPAAJTAK

TEZ KHABAR

गोण्डा18जून*डीएम ने की ताबड़तोड़ कार्यवाही

[18/06, 5:32 PM] +91 88586 08720: *सूचना विभाग गोंडा*
18.06.2021

▶️👉 *स्वास्थ्य महकमे में डीएम का ताबड़तोड़ निरीक्षण व कार्यवाही*

▶️👉 *पीएचसी बैजपुर में एएनएम सेंटर व हेल्थ वेलनेस सेंटर बनाने वाले ठेकेदार व कार्यदायी संस्था के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराकर रिकवरी के आदेश*

▶️👉 *पर्यवेक्षणीय अधिकारी के खिलाफ विभागीय कार्यवाही की संस्तुति*

▶️👉 *सुधार  के लिए सीएचसी अधीक्षक मुजेहना को 15 दिनों की मोहलत, अन्यथा होगी विभागीय कार्यवाही व ट्रान्सफर*

▶️👉 *सीएमओ दफ्तर मे डीएम के औचक निरीक्षण से हड़कम्प, 15 मिले गैरहाजिर, रोका वेतन, कारण बताओ नोटिस जारी*

▶️👉 *कोविड का टीका लगवाने वाले दिव्यांग मुकेश को डीएम ने शाबाशी*
शुक्रवार को डीएम मार्कण्डेय शाही के स्वास्थ्य महकमे में औचक निरीक्षणों से हड़कम्प मचा रहा। डीएम श्री शाही ने सीएमओ दफ्तर, जिला अस्पताल के अलावा सीएचसी व पीएचसी का ताबड़तोड़ निरीक्षण किया जिसमें तमाम खामियां मिलीं। सीएमओ दफ्तर में गन्दगी मिलने तथा कई कर्मचाारियों के गैर हाजिर मिलने पर डीएम ने कार्यवाही के निर्देश दिए तो प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र बैजपुर में निर्माणाधीन एएनएम सेन्टर व हेल्थ वेलनेस सेन्टर का कार्य अधूरा छोड़ देने तथा बेहद खराब स्थिति में मिलने पर कार्यदायी संस्था तथा ठेकेदार के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराकर रिकबरी कराने एवं पर्यवेक्षणीय अधिकारी के खिलाफ विभागीय कार्यवाही के आदेश दिए हैं। वहीं सीएचसी मुजेहना में व्यवस्थाएं दुरूस्त न मिलने पर सीएचसी अधीक्षक मुजेहना सुमन मिश्रा को कड़ी फटकार लगाते हुए 15 दिन में सुधार न होने पर स्थानान्तरण सहित विभागीय कार्यवाही की चेतावनी दी है।
डीएम के अचानक सीएमओ आॅफिस पहंुचने से हड़कम्प मच गया। कार्यालय में अभिलेखों का रख-रखाव व साफ-सफाई संतोषजनक नहीं मिली, जिस पर डीएम ने जिला प्रशासनिक अधिकारी को कड़ी फटकार लगाई। वहां पर डीएम ने सीएमओ कार्यालय, कन्ट्रोल रूम, पीए रूम, एसीएमओ कक्ष, प्रशासनिक अधिकारी कक्ष, वित्त एवं लेखाधिकारी कक्ष, कम्प्यूटर सेल, टीएसयू, डीपीएमयू, डायलिसिस कक्ष, जिला अस्पताल में इमरजेंसी वार्ड, वैक्सीन भण्डार कक्ष आदि का निरीक्षण किया। उपस्थिति पंजिका का निरीक्षण करने पर परमानेंट स्टाफ में प्रधान सहायक मोहन लाल,  राम खेलावन, अंकिता श्रीवास्तव, पीपीटी राधेश्याम यादव, कंचन गुप्ता व अमित कुमार गैरहाजिर मिले इसी प्रकार संविदा कर्मियों में सूरज, धीरेन्द्र प्रताप सिंह, विष्णु प्रजापति, रामेश्वर प्रसाद, सुभाष चन्द्र तथा प्रज्ज्वल श्रीवास्तव बिना किसी सूचना के अनुपस्थित मिले। कन्ट्रोल रूम में भानू व असलम गैरहाजिर मिले। डीएम ने सभी गैर हाजिर कर्मचारियों का एक दिन का वेतन/मानदेय अदेय करते हुए कारण बताओ नोटिस जारी करने के आदेश सीएमओ को दिए हैं। डीपीएमयू ऑफिस में डीएम ने डैम से वित्तीय वर्ष 216-17, 2017-18, 2018-19 तीन वर्षों का समवर्ती ऑडिट रिपोर्ट देने को कहा तो वे डीएम को नहीं दिखा सके। डीएम ने सीएमओ को आदेश दिए कि आज शाम तक तीनों वर्षों की समवर्ती ऑडिट रिपोर्ट उनके समक्ष प्रस्तुत की जाय।
निरीक्षण के दौरान ही पटेल नगर निवासिनी किस्मतउल जो कि अपने पति गुड्डू को खून चढ़वाने के लिए परेशान थी, के लिए प्रमुख अधीक्षक को निर्देश दिए वे तत्काल उसके लिए जरूरी प्रबन्ध कराकर उन्हें अवगत कराएं। वैक्सीन भण्डार कक्ष के निरीक्षण के दौरान डीएम ने परिसर में झाड़िया आदि दो दिन के अन्दर कटवाकर साफ-सफाई कराने के निर्देश दिए तथा वैक्सीन स्टोर के लिए अन्यत्र कहीं प्रबन्ध कराने के निर्देश सीएमओ व प्रमुख अधीक्षक को दिए हैं।
सीएमओ दफ्तर का निरीक्षण करने के बाद डीएम सीधे प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र विशुनपुर बैरिया पण्डरीकृपाल पहंुचे। वहां पर कोविड वेक्सीनेशन के लिए लाइन लगी हुई थी। सिसौर अन्दूपुर निवासी दिव्यांग मुकेश ने डीएम की उपस्थिति में टीका लगवाया तो डीएम ने उसका मुंह मीठा कराते हुए शाबाशी दी तथा कहा कि वह अपने गांव में जाकर अन्य लोगों को भी टीका लगवाने के लिए प्रेरित करे। वहां पर वैक्सीनेशन स्लाॅट खत्म हो जाने की बात एमओ द्वारा बताया गई जिस पर डीएम ने आदेश दिए कि वहां पर कम से कम 200 का स्लाॅट बढ़ाया जाय।
प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र विशुनपुर का निरीक्षण करने के बाद डीएम ने सीएचसी मुजेहना अंतर्गत पीएचसी बैजपुर का निरीक्षण किया। वहां पर निरीक्षण के दौरान तैनात दो कर्मी फार्मासिस्ट मो0 रसीद अंसारी तथा वार्ड ब्वाय अमित मिश्रा गैर हाजिर मिले। डीएम ने दोनों कर्मियों का वेतन अग्रिम आदेशों तक रोकने के आदेश दिए। बैजपुर में निर्माणाधीन एएनएम सेन्टर व हेल्थ वेलनेस सेन्टर की खस्ता हालत देख नाराज डीएम ने सीएमओ को आदेश दिए कि वे कार्यदायी संस्था तथा ठेकेदार के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराकर रिकवरी कराएं तथा जिम्मेदार पर्यवेक्षणीय अधिकारी के खिलाफ विभागीय कार्यवाही तत्काल शुरू कराएं। वहीं पीएचसी पर व्याप्त गन्दगी व अधूरे निर्माण कार्यों की सही जानकारी डीएम को न दे पाने पर सीएचसी अधीक्षक मुजेहना सुमन मिश्रा को कड़ी फटकार लगाते हुए 15 दिनों में सुुधार न होने पर स्थानान्तरण सहित विभागीय कार्यवाही की चेतावनी दी है।
सीएचसी मुजेहना का औचक निरीक्षण करने पर वहां पर प्रभारी बीडीओ द्वारा कराए जा रके कार्यों से डीएम संतुष्ट नजर आए। उपस्थिति पंजिका चेक करने पर एमसीटीएस अमरीश कुमार अनुपस्थित मिले। ओपीडी रजिस्टर चेक करने पर ज्ञात हुआ कि 22 मरीज देखे गए हैं। जननी सुरक्षा योजना का रजिस्टर चेक करने पर लाभार्थियों को भुगतान की स्थिति बेहद खराब मिली। फरवरी व अप्रैल का भुगतान लम्बित मिला। भुगतान समय से न होने पर डीएम ने सीएचसी अधीक्षक को कारण बताओ नोटिस जारी करने तथा बीसीपीएम राकेश कुमार का मानदेय शत-प्रतिशत भुगतान न होने तक रोकने के आदेश सीएमओ को दिए हैं। डिलीवरी रजिस्टर चेक करने पर ज्ञात हुआ कि एमसीटीएस रजिस्टर में लाभार्थियों का आधार कार्ड, मोबाइल नम्बर, बैंक डिटेल्स आदि नहीं भरे थे। आईपीडी रजिस्टर चेक करने पर ज्ञात हुआ कि अप्रैल 2021 से अभी तक मात्र 23 मरीज भर्ती किए गए थे। इससे नाराज डीएम ने सीएचसी अधीक्षक को अन्तिम चेतावनी देते हुुए कहा कि यदि अगले 15 दिनों में कार्य व व्यवस्था में सुधार नहीं हुआ तो उनके खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्यवाही सुनिश्चत करेगें।
सीएचसी का निरीक्षण करने के बाद डीएम ने ब्लाक मुजेहना का औचक निरीक्षण किया। वहां पर उन्होंने बीडीओ कक्ष, मीटिंग हाल, मनरेगा सेल, कम्प्यूटर कक्ष, एडीओ पटल तथा अन्य कार्यालयों का निरीक्षण किया। निरीक्षण के बाद डीएम ने ब्लाक परिसर में ही पौधरोपण भी किया।
इस दौरान सीएमओ डा0 आर0एस0 केसरी, प्रभारी बीडीओ/प्रशिक्षु एसडीएम आकाश सिंह, ओएसडी शिवराज शुक्ला सहित अन्य उपस्थित रहे।
[18/06, 6:14 PM] +91 94150 77536: ग्राम पंचायत जमुनहीं हरदौपट्टी विकास खंड रुपईडीह न्याय पंचायत महा देवा कला
[18/06, 6:17 PM] +91 88586 08720: *सूचना विभाग गोंडा*
18.06.2021

▶️👉 *डीएम ने अधिकारियों के साथ बैठक कर बाढ़ तैयारियों का लिया जायजा*

संभावित बाढ़ के दृष्टिगत तत्काल प्रभाव से जनपद व तहसील स्तरीय बाढ़ कन्ट्रोल रूम स्थापित कर सीएमओ, बाढ़ खण्ड के अधिकारियों, उपजिलाधिकारियों तथा तहसीलदारों, थानाध्यक्षों के मोबाइल नम्बर सभी प्रमुख स्थलों पर डिस्प्ले किए जाएं, बाढ़ चैकियों का चिन्हांकन कर लिया जाय तथा वहां पर मैनपावर की व्यवस्था सुनिश्चित कराने के साथ ही सभी आवश्यक सामग्रियों की उपल्बधता सुनिश्चित कराई जाय। मैरून्ड मजरों की लिस्ट बना ली जाय, पेयजल की व्यवस्था सुनिश्चित कराने के लिए हैण्डपम्पों के बेस का उच्चीकरण तथा रिबोर आदि कराने के साथ ही पशुओं का शत-प्रतिशत टीकाकरण करा दिया जाय तथा मेडिकल कैम्पों में सर्पदंश इंजेक्शन की उपलब्धता प्रत्येक दशा में सुनिश्चित कराई जाय। यह निर्देश डीएम मार्कण्डेय शाही ने कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित बाढ़ तैयारियों की समीक्षा बैठक में जिम्मेदार अधिकारियों को दिए हैं।
बाढ़ तैयारियों की समीक्षा मेें डीएम ने कहा कि बाढ़ चैकियों का तत्काल चिन्हांकन करा लिया तथा उन्हें सक्रिय करने के लिए आवयश्क मैनपावर का प्रबन्ध कर लिया जाय। उन्होंने बाढ़ खण्ड के अधिकारियों को निर्देश दिए कि एल्गिन-चरसड़ी तटबंध तथा ऐली परसौली तमटबंध पर बनने पर स्टड्स नोज व रेगलुेटर्स के निर्माण कार्य में युद्धस्तर परतेजी लाई जाय ताकि बाढ़ आने के पूर्व कार्य पूरा लिया जाय। बंधे पर संवेदनशील स्थलों का चिन्हांकर कराकर वहां पर सीसीटीवी कैमरे लगवानेे तथा सुमचित प्रकाश की व्यवस्था कराने के निर्देश एक्सईएन बाढ़ खण्ड को दिए हैं। शुद्ध पेयजल की व्यवस्था हेतु डीपीआरओ को निर्देश दिए कि वे खराब नलों का रिबोर करांए तथा उन्हें आवश्यकतानुसार उच्चीकृत कराएं। इसके अलावा दुग्ध विभाग के टैंकरों के माध्यम से शुरू पेयजल की व्यवस्था तटबंध पर कराएं। कैंप में आने वाली महिलाओं के लिए अलग से विशेष प्रबन्ध किए जाएं तथा कैम्प की सूचना पहले से समस्त प्रशासनिक अधिकारियों को दी जाय। जरूरत के अनुसार 108 व 102 एम्बुलेन्स की बसें उपलब्ध रहें।
जिलाधिकारी ने सीएमओ को निर्देश दिए कि संभावित बाढ़ प्रभावित सभी मजरों के निवासियों का शत-प्रतिशत कोविड वेक्सीनेशन करा दिया जाय। मुख्य पशु चिकित्साधिकारी को निर्देश दिए कि बाढ़ क्षेत्र के सभी पशुओं को भी टीकाकरण कराकर इस आशय का प्रमाणपत्र दें कि बाढ़ प्रभावित होने वाले क्षेत्र के सभी पशुओं को शत-प्रतिशत टीकाकरण हो गया है। यह भी निर्देश दिए कि पशुओं के लिए भूसा आदि की उपलब्धता पहले से सुनिश्चित रखें। बाढ़ प्रभावित होने वाले लोगों के लिए ड्राई राशन अच्छी गुणवत्ता का पर्याप्त मात्रा में तैयार रखा जाय। राहत कार्य में स्यं सेवी संस्थाओं का भी सहयोग लिया जाय तथा तहसील स्तर पर इसके लिए नोडल अधिकारी नामित कर दिया जाय। आपूर्ति का अलग का विवकरण तैयार कराया जाय ताकि खाद्य आपूर्ति का सत्यापन आसानी से हो सके। नावों का सत्यापन करा लिया जाय तथा बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में समय-समय पर मौसम विभाग से जारी होने वाले एलर्ट की सूचना पब्लिक एड्रेस सिस्अम व अन्य प्रचार माध्यमों से दी जाय। बंधे पर पुलिस गश्त बढ़ा दी जाय तथा इसके लिए पुलिस अधिकारी व कर्मचारी नियुक्त किए जाएं जो निसमित रूप से बंधें पर पेट्रोलिंग करते रहें।  उन्होंने जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी को यह भी निर्देश दिए कि जो विद्यायल बाढ़ में बह गए या ध्वस्त हो गए हैं उन्हें रिएलोकेट कर दिया जाय तथा वहां पर तैनात स्टाफ का सत्यापन करा लिया जाय।
बैठक में सीडीओ शशांक त्रिपाठी, अपर जिला अधिकारी राकेश सिंह, सिटी मजिस्ट्रेट वन्दना त्रिवेदी, सीएमओ डा0 आर0एस0 केसरी, सभी एसडीएम, एक्सईएन बाढ़ खण्ड बीएन शुक्ला, बीएसए विनय मोहन वन, एक्सईएन जल निगम मुुकीम अहमद, डीपीआरओ सभाजीत पाण्डेय, मुख्य पशु चिकित्साधिकारी रवीन्द्र सिंह राठौर, जिला आपदा विशेषज्ञ राजेेश श्रीवास्तव, ईडीएम अमित गुप्ता सहित अन्य सम्बन्धित अधिकारीगण उपस्थित रहे।