July 5, 2022

UPAAJTAK

TEZ KHABAR

गोण्डा07जून*यूपीआजतक न्यूज़ से गोण्डा की खास खबरे

[07/06, 7:08 PM] Sarita Chandra Maurya Gonda: *जानलेवा हमले के 4 आरोपियों में से दो का हटाया नाम, एसपी से हुई शिकायत*
……………………………
#थाना कटराबाजार का है मामला#
……………………………………… (अपराधिक मामलों को दबाने और धाराओं को घटा-बढ़ा कर केस हल्का करने में माहिर है थाना कटरा बाजार पुलिस)

*कर्नलगंज/कटरा बाजार (गोण्डा)।* कोतवाली कर्नलगंज के थाना कटराबाजार अन्तर्गत नाली के विवाद में एक बुजुर्ग पर जानलेवा हमला करने वाले चार आरोपियों में से दो आरोपियों का नाम हट जाने से खुद को मित्र पुलिस कहलाने वाली कटरा बाजार थाने की पुलिस की कार्यशैली से क्षुब्ध होकर पीड़िता ने पुलिस अधीक्षक से शिकायत की है।
विदित हो कि मामला थाना कटरा बाजार अन्तर्गत ग्राम पंचायत बरांव का है। उक्त गांव की निवासिनी पीड़ित महिला ने एसपी से न्याय की गुहार लगाई है। आरोप है गत 1 जून को नाली के विवाद में वादी के पिता पृथ्वीनाथ व भाई अमरेश पर विपक्षीगण जुगलकिशोर पुत्र रामगोपाल, रामगोपाल पुत्र श्यामलाल, अंशु व आयुष पुत्रगण जुगलकिशोर निवासीगण ग्राम बरांव द्वारा भाला, कांता से जानलेवा हमला कर दिया था, जिसमें वादी के पिता गंभीर रूप से घायल हो गए थे जिन्हें जिला अस्पताल से ट्रामा सेंटर रेफर किया गया जहां इलाज चल रहा है और स्थिति नाजुक है। इस संबंध में थाना कटरा बाजार में चारों आरोपियों के खिलाफ नामजद तहरीर दिया था। परन्तु विपक्षीगणों ने राजनेताओं की सिफारिश व पैसे के बल पर मुख्य दो आरोपियों का नाम मुकदमें से हटवा लिया है। जिससे पीड़िता ने स्थानीय पुलिस की कार्यशैली से क्षुब्ध होकर जिले के पुलिस अधीक्षक से शिकायत कर न्याय की गुहार लगाई है। बताते चलें कि थाना कटरा बाजार पुलिस के कारनामों का यह कोई नया मामला नहीं है और इससे पूर्व भी कई मामलों में तानाशाहीपूर्ण कार्यप्रणाली अपराधियों और राजनैतिक लोगों से गठजोड़ के चलते आपराधिक मामलों को दबाने के साथ ही आरोपियों को संरक्षण प्रदान कर धाराओं में खेल करने का मामला सामने आ चुका है जो काफी सुर्खियों में भी रहा है।
[07/06, 7:08 PM] Sarita Chandra Maurya Gonda: *परसपुर ब्लाक मे पंचायत चुनाव के नामांकन जांच में जबरदस्त खेल व धांधली उजागर।*

कर्नलगंज/गोंडा।। तहसील क्षेत्र कर्नलगंज के विकास खंड परसपुर अन्तर्गत ग्राम पंचायत सुभागपुर के वार्ड नम्बर 09 में ग्राम पंचायत सदस्य पद हेतु निर्वाचन के उम्मीदवार लल्लन पुत्र सहदुल्ला के संबंध में प्राप्त जानकारी के अनुसार नामांकन जांच में जबरदस्त खेल व धांधली सामने आयी। जिसमें नामांकन पत्र लेने के समय पहले ए आर ओ विकास खण्ड परसपुर द्वारा यह कह कर कि इस वार्ड पर वर्तमान ग्राम प्रधान का प्रत्याशी चुनाव लडे़गा, किसी दूसरे को चुनाव लडने को अनुमति नहीं। जिस पर काफीजद्दोजहद के उपरांत एडीओ पंचायत परसपुर अनिल वर्मा के हस्तक्षेप से नामांकन पत्र मिला और फिर पर्चा भर कर जमा हुआ था, परन्तु नामांकन जांच के दिन यह कहकर पर्चा खारिज किया जा रहा कि आवेदक ने अपने आधार कार्ड की छाया प्रति पर अगूंठे का निशान नही लगाया है तथा ग्राम पंचायत द्वारा जारी अदेयता पर तारीख नही पड़ी है,जब आवेदक लल्लन व उनके प्रस्तावक ने उस कमी को सुधार करने के लिए निवेदन किया जिस पर काउन्टर पर उपस्थित कर्मचारी ने धमकाकर भगा दिया,तत्पश्चात उक्त प्रकरण की पूरी जानकारी उपजिलाधिकारी कर्नलगंज को दी गयी जिस पर उन्होंने आर•ओ• परसपुर से पूरे प्रकरण की जानकारी ली और अगर कमी हो तो उसे सुधार करवाने का आश्वासन दिया। वहीं उक्त प्रकरण पर आर•ओ• परसपुर से दीनानाथ त्रिपाठी जी अध्यक्ष जिला बार एसोसिएशन गोण्डा ने आवेदनपत्र के साथ लगे अदेयता पर की गयी कमी के पीछे हो रहे खेल पर ग्राम पंचायत अधिकारी सत्येन्द्र कुमार सिंह पुत्र स्व० श्री राजेंद्र प्रसाद सिंह से फोन से वार्तालाप किया तब उन्होंने बताया कि हम विदेश के नही हैं और वह भी तहसील कर्नलगंज के विकास खण्ड परसपुर के ग्राम पंचायत सालपुर जो न्याय पंचायत ठकुरापुर मे ही पडता है के हैं। वर्तमान ग्राम पंचायत अधिकारी सतेन्द्र कुमार सिंह ने बताया कि हमसे पहले हमारे पिता जी सुभागपुर के दस साल ग्रामपंचायत अधिकारी रह चुके है मै सब खेल जानता हूँ, हमे ना बतायें मै भी उसी न्याय पंचायत का निवासी हूं ,उनके द्वारा फोन पर इस तरह की गई वार्ता से दूषित मानसिकता के चलते दूसरे पक्ष को लाभ देने के लिए स्वयं द्वारा जारी अदेयता पर पत्रांक व क्रमांक नही लिखा है। ग्राम पंचायत अधिकारी स्थानीय होने के कारण चुनाव उन्ही को लड़ने देगें जो वर्तमान प्रधान का प्रत्याशी होगा इस वजह से उम्मीदवार लल्लन को चुनाव से वंचित किया जा रहा है,जिस कमी को दिखाया जा रहा है उस कमी के बाबत प्रत्याशी द्वारा आपत्ति निस्तारण हेतु प्रार्थना पत्र दिया गया है जिसका निस्तारण न करके विपक्षी राजनीतिक लोगों के पक्ष मे सारे अधिकारी लगे हुए है,तथा आपत्ति निस्तारण न करके आवेदनपत्र खारिज करने पर बल दिया जा रहा है। यही आवेदनपत्र खारिज करने की वजह बताई जा रही है। *समाचार लिखे जाने तक समस्या का समाधान नहीं हुआ है और उम्मीदवार लल्लन का पर्चा बहाल ना करके चुनाव चिन्ह आवंटित नहीं किया गया है।*